31 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: Hi .... muje abhi 8th start hua hai... ultrasound kab tak krwau

1 Answers
सवाल
Answer: पहला अल्ट्रासाउन्ड गर्भावस्था के 8 से 14वें हफ्ते के दौरान, और दूसरा 18वें और 21वें हफ्ते के बीच में होता है दूसरा स्कैन सभी गर्भवती महिलाओं को कराने की सलाह दी जाती है, इस अनोमली स्कैन या मध्य गर्भावस्था स्कैन कहा जाता है। जो आमतौर पर गर्भावस्था के 18 वें और 21वें सप्ताह के बीच में होता है. कुछ महिलाओं को डॉक्टर दो से अधिक अल्ट्रासाउंड स्कैन करने की सलाह भी देते हैं। जो गर्भवती महिला के स्वास्थ्य और उनकी गर्भावस्था के आधार पर निर्भर करता है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: hlo mera kal se 8th mnth start ho gya hai to mai ultrasound kab krwau
उत्तर: हेलो . आमतौर पर बच्चे की ग्रोथ का पता लगाने के लिए डॉक्टर तीन बार अल्ट्रासाउंड टेस्ट कराते हैं। अल्ट्रासाउंड टेस्ट दूसरे महीने में बच्चे की धड़कन जानने के लिए, चौथे महीने में बच्चे का विकास देखने के लिए और आखिरी महीने में बच्चे की स्थिति देख कर डिलिवरी plan करने के लिए . अगर बच्चे या माँ किसी को भी कोई हेल्थ इशू है तो डोक्टर की सलाह से 3 से ज़्यादा बार अल्ट्रासाउन्ड कराया जा सकता है l आप के 8 वे महीने शुरू होने वाले है आप 8 महीने के लास्ट या 9 महीने की शुरुआत में अल्ट्रासाउन्ड करवाये .ताकि आप बच्चे की ग्रोथ, वेट ,पोजिशन फ्लूइड लेवल बच्चे के गलें में नाल तो नही है क्लियर कर सकें अगर कोई प्रॉब्लम नही हुई तों आप चिन्ता मुक्त हो जायेगी अगर कोई प्रॉब्लम होती है तो डॉक्टर की सलाह ले कर सही ट्रीट्मेण्ट किया जा सकेगा
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mam अभी muje koi prb नही h ऑर mera kl se hi 3rd month start hua h m apna ultrasound kb krwau
उत्तर: वैसे तो डाक्टर अल्ट्रासाउंड गर्भावस्था के 4, या5वेंविक मे करवाते हैं आवश्यककता देखते हुये जल्दी या लेट भी कर सकते हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: meri ultrasound me delivery date 8 oct निकली hai aur abhi tak mujhe leber pain start nahi hua hai mujhe
उत्तर: हेलो कभी कभी ड्यू डेट हो जाने के बाद भी लेबर पेन या वाटर ब्रेक नही होता है एक हेल्थी प्रेग्न्सी 40 वीक्स तक जा सकती है कुछ प्रेग्नेसी 42 वीक्स तक chali जाती है लेकिन कुछ मामलो में 42 वीक्स प्रेग्नेसी बच्चे के लिए सेफ़ नही होती hai.आपकी ड्यू 8 ऑक्टोबर है डिलिवरी ड्यू डेट के वन वीक पहले या एक वीक बाद हो सकती है आप वेट करे पेन ना आने पर आप डॉक्टर से सलाह लें वो आपको बच्चे की हेल्थ और आपकी कण्डिशन देख कर आपको सही सलाह denge की पेन के लिए आप वेट करे या कुछ आल्टर्नेट प्लान किया जायें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: muje bht jada acid bnta hai khana bhi thk se nhi kha pati mera 8th मंथ abhi start hua hai
उत्तर: hello dear यह काफी आम है और कोई नुकसान नहीं पहुंचाती,एसिडिटी की वजह से हार्टबर्न भी हो सकता है आप शायद एसिडिटी और जलन से पूरी तरह छुटकारा न पा सकें, मगर आप कुछ उपाय आजमाकर इसे कम करने का प्रयास अवश्य कर सकती हैं, जैसे कि तैलीय या मसालेदार भोजन, चॉकलेट, खट्टे फल, शराब और कॉफी, ये सभी खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं। अगर, आपको असहजता महसूस हो, तो कुछ समय के लिए इन पदार्थों से परहेज रखें सोडायुक्त पेयों की बजाय पानी पीएं, रेडीमेड भोजन और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें, जैसे कि टॉमेटो कैचअप, अचार और चटनी आदि। इनमें बहुत ज्यादा मात्रा में नमक, प्रिजर्वेटिव्स और एडिटिव्स होते हैं। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और हार्टबर्न का सदियों पुराना इलाज माना जाता है। एक कप अदरक की चाय भी आपको राहत पहुंचा सकती है। केला खाने से भी इसमें फायदा होता है। थोड़ी मात्रा में, लेकिन बार-बार भोजन खाती रहें। भोजन को अच्छी तरह चबाकर खाएं। एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच लंबा अंतराल होने से भी एसिडिटी बनने लगती है। भोजन के दौरान बहुत ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ न पीएं। गर्भावस्था के दौरान रोजाना आठ से 12 गिलास पानी पीना जरुरी है, मगर ये एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच की अवधि में ही पीएं। कोशिश करें कि रात को आप सोने से करीब तीन घंटे पहले अपना भोजन कर लें। कई बार लेटने से भी छाती में जलन होने लगती है, क्योंकि गुरुत्व बल के कारण पेट से अम्ल बाहर निकलने लगते हैं। रात को देर से भोजन करने पर, कोशिश करें कि खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही लेटें तकिये लगाकर सोएं, ताकि आपके कंधे आपके पेट से ऊंचे रहें.
»सभी उत्तरों को पढ़ें