1 महीने का बच्चा

Question: helofy mai vedio or pics kaise send kare plzz reply

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Mam baby ki massage kaise karni hai.. please any tips or vedio share kare
उत्तर: आप बच्चे को हमेशा हल्के हाथों से ही मालिश कीजिए। पेट को तो और कभी भी ज्यादा जोर से नहीं दबाना चाहिए, क्योंकि बच्चों के पेट में गैस होता है जिसे वह धीरे-धीरे ही निकालना सीखते हैं पेट को दबा दबा कर गैस निकालने से बच्चों की छोटी छोटी intestin फटने का डर रहता है इसलिए पेट को बहुत ही हल्के हाथ से सर्कुलर मोशन में मसाज किजिए। हाथ और पैर को थोड़ा दबा कर मसाज कर सकती हल्के हाथों से मसाज कीजिए। उनकी मालिश करने से उनको रिलैक्सेशन मिलेगा जिससे वह बहुत अच्छे से सो पाएंगे..मालिश करने के लिए सरसों का तेल इस्तेमाल कर सकते हैं यह बच्चों के बॉडी के लिए बहुत अच्छा होता है यह थोड़ी गर्मी भी देता है जिससे बच्चों को जल्दी से ठंड नहीं लगती आप मालिश करने के लिए जैतून का तेल यानी कि ऑलिव ऑयल भी यूज़ कर सकती हैं यह भी बच्चों के लिए बहुत अच्छा होता है, बहुत ज्यादा पोषक होता है.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: pregnancy mai pet saaf kaise kare
उत्तर: hi dear pregnancy jyaadtal mahilao ko ye samasya hoti hai ki unka pat saaf nahi ho hai to iski matraa wajah aapke pat me kabj ka hona hai iske liye aap nimn upay apna sakti hai हर रोज उच्च फाइबर युक्त भोजन खाएं जैसे कि सीरियल्स और दलहन (राजमा, छोले, रागी), साबुत अनाज की ब्रेड जैसे कि पूर्ण अनाज की चपाती और ताजा फल व सब्जियां। फल जैसे कि अमरूद, सब्जियां जैसे कि गाजर और फूलगोभी में उच्च मात्रा में फाइबर होता है। अगर आप पहले से कम फाइबर वाले आहार का सेवन करती रही हैं, तो धीरे-धीरे अपने आहार में फाइबर की मात्रा बढ़ाएं, ताकि आपका शरीर इस बदलाव के लिए तैयार हो सके। अचानक से उच्च फाइबर युक्त आहार लेने से आपको शायद पेट में मरोड़ हो सकते हैं और आपको फुलावट महसूस हो सकती है। जब आप अधिक फाइबर वाले भोजन खाती हैं, तो यह भी महत्वपूर्ण है कि आप पर्याप्त मात्रा में तरल पदाथ लें, वरना इससे कब्ज और बढ़ सकती है। रिफाइंड भोजन जैसे कि इंस्टेंट नूडल्स आदि का सेवन कम कर दें। मैदा का इस्तेमाल आमतौर पर सफेद ब्रैड, पूरी, कुलचा, नान, केक और बिस्किट बनाने में किया जाता है। अगर, ये खाद्य पदार्थ आपके रोजमर्रा के आहार के हिस्सा हैं, तो बेहतर रहेगा कि आप मैदा की बजाय इनके पूर्ण अनाज या आटे वाले विकल्प का चयन करें।  खूब सारा पानी पीएं, कम से कम एक दिन में आठ से 12 गिलास। आप ताजा फलों का रस, नारियल पानी, छाछ, नींबू पानी और लस्सी जैसे पेय लेकर भी अपने तरल पदार्थ के सेवन की मात्रा बढ़ा सकती है। माना जाता है कि सुबह-सुबह गुनगुने पानी में नींबू का रस डालकर लेने से मलत्याग में आसानी रहती है। व्यायाम करें! चहलकदमी, तैराकी, स्थिर साइकिल को चलाना और योग आदि सभी कब्ज से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। साथ ही आप अधिक तंदुरुस्त और स्वस्थ महसूस करेंगी। यह जरुरी है कि आप ऐसे व्यायाम करें जो आपके तंदुरुस्ती के स्तर के अनुकूल हों। खुद को बहुत ज्यादा न थकाएं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Delivery ke bad pet kam kaise kare plz reply
उत्तर: हेलो डियर डिलीवरी के बाद आप अपना पेट तुरंत कम करने की कोशिश ना करें अगर डिलीवरी ऑपरेशन से हुई है तो पेट को कम करने के लिए जो भी एक्सरसाइज या योगा करे तो आप 4 से 5 महीने के बाद ही करें और अगर डिलीवरी नॉर्मल हुई है तो आप पेट को कम करने के लिए एक्सरसाइज 2 महीने की बात कर सकती है पेट को कम करने के लिए मसालेदार चीजों और चिकनाई वाली चीजें जैसे फास्ट फूड , maide वाली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए यह आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है वजन को कम करने के लिए फल जूस हरे पत्तेदार सब्जियां अधिक से अधिक पानी इन सभी चीजों को लेना चाहिए ऐसे में पेट को कम करने के लिए थोड़ा थोड़ा करके कई बार में खाना खाए एक बार में इकट्ठा भोजन करने से पेट अधिक निकलने लगता है !
»सभी उत्तरों को पढ़ें