10 weeks pregnant mother

hello mere hanth pair me yethn or drd ho rha hai

सवाल
प्रेग्रेंसी मे बॉडी मे बहुत तरह के शारीरिक परिवर्तन होते हैं .Uterus का साइज भी लगभग 200 गुना बड़ा हो जाता हैं ,बॉडी मे हॉर्मोन का level aur रक्तः संचार भी बढ़ जाता हैं ,जैसे जैसे बेबी का वजन बढ़ता हैं uterus पर बहुत जोर पड़ता हैं .इसी कारण hands,legs aur ankle mai pain hota hai. , ,ऐसा होना एकदम नार्मल है ,आप कोशिश करें की बाई करवट सोये इससे आपको आराम मिलेगा और बेबी के बॉडी मे ऑक्सीजन का संचार अच्छा होगा . अगर आपको सोने मे ज़्यादा प्रॉब्लम हो तो आज प्रेग्रेंसी pillow का bhi use कर सकते है ,ये बहुत आरामदायक होता है .सोने के लिए. अगर दर्द ज़्यादा हो तो physiotherpist की भी मदद ले सकते hai ,इसके अलावा रात मे सोने से पहले एक ग्लास गरम मिल्क पी कर सोएं इससे हाथ पैर मे दर्द भी कम होगा और नीन्द भी ठीक से aayegi.
हेलो डियर पेट में बेबी होने के वजह से पूरा भार पैर पे ही पड़ता है इसलिए पैर में दर्द होता है आप पैर में गुनगुने तेल से मलीस करें ऑर उनचि हिल के सेन्दिल ना पहनें सिम्पल फ्लैट्स स्लीपर पहनें इस्से आपके पैरों ऑर एड़ियों को आराम मिलेगा व्यायाम करें ऑर मॉर्निंग वाक करें सोते टाइम पैर में तकिया लगाकर सोएं इसे आपको दर्द में कुछ आराम मिलेगा हाथों में दर्द के लिए जैसे ही आपको हाथ में दर्द महसूस हो तो आप हाथ में दबाव पड़े ऐसा कोई काम ना करें हाथों की अच्छे से मालिश करवा सकती हैं इससे आपको दर्द में कुछ आराम हो सकता है हाथों को एक ही अवस्था में बहुत देर तक ना रखें सोते टाइम ध्यान दें कि आपका हाथ दबा ना हो एक ही हाथ से बार-बार काम ना करें अपने हाथों की उंगलियों को खींचे इससे आपको उंगली फूटने पर आराम मिलेगी
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mam mere private part me bht pain h karwat badalne me bhi drd ho rha h pair nhi hil pate itna drd ho rha h
उत्तर: हेलो डियर Pregnancy में प्राइवेट पार्ट में दर्द होना नॉर्मल है जैसे जैसे बेबी की ग्रोव्थ बधती है तो uterus का साइज़ भी इन्क्रीज होने लगता है और पेल्विक हिस्से की मांसपेशियों पर दबाव पड़ने लगता है और प्राइवेट पार्ट में दर्द होने लगता है प्राइवेट पार्ट का दर्द दूर करने के लिए आप ज्यादा देर तक एक जगह पर खड़ी ना रहे और ना ही ज्यादा देर तक कहीं पर बैठे। आप एक करवट में भी ना सोए ।रोज सुबह थोड़ी देर के लिए टहलने जाए ।इससे आपको प्राइवेट पार्ट के दर्द में आराम मिलेगा। इससे आपके बेबी को कोई प्रॉब्लम नही होगी।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mera 8month chal rha hai.. Mere pair me sujan rehti hai or pair ke taliye me bahut pain ho rha hai?? Kya kru
उत्तर: इसे एडिमा या शॉप कहा जाता है आम भाषा में यह वाटर रिटेंशन यानी पानी प्रतिधारण के नाम से जाना जाता है अतिरिक्त तरल आपके हाथों और पैरों, panjo या घुटनों में सूजन का कारण बनता है प्रेग्नेंसी के दौरान यह होना काफी आम है जैसे-जैसे आपका बेबी बढ़ता है शरीर के दाहिने हिस्से में बड़ी नस जिसे निचले अंगों में रक्त प्रवाह होता है पर गर्भाशय दबाव डालता है इससे ब्लड सरकुलेशन धीमा हो जाता है शरीर के निचले हिस्से में खून इकट्ठा हो जाता है इस फंसे हुए रक्त का दबाव पानी को छोटी-छोटी नलिकाओं के जरिए नीचे की तरफ धकेलता है और यह आपके पैरों और घुटनों के दर्द में आ जाता है यह पानी आमतौर पर शरीर द्वारा एग्जाम कर लिया जाता है मगर क्योंकि आप गर्भवती हैं आप ज्यादा पानी प्रतिधारित करती है जिससे सूजन बढ़ती है सुबह के समय ठीक रहती है क्योंकि आप बिस्तर में लेटी हुई थी दिन गुजरने के साथ-साथ यह और ज्यादा बढ़ती जाती है गर्भावस्था के अंतिम चरण में पहुंचने पर यह सूजन आपको हाथों पर भी असर डालती है प्रेगनेंसी के दौरान face ,हाथों और पैरों में थोड़ी सूजन होना सामान्य है मगर यदि आपको सूजन ज्यादा लगे तो अपने डॉक्टर से बात करें पैरों की सूजन के लिए ऐसे बहुत से उपाय हैं जो आप आजमा सकती हैं जब भी समय हो अपने पैरों को थोड़ी ऊंची सता पर रखकर बैठे ऑफिस में अपनी बॉक्स रखकर पैरों को उस पर रखें बीच बीच में थोड़ा चलें और उठे घर में जब भी संभव हो अपने बाएं तरफ करवट लेकर लेटे सुबह बिस्तर से निकलने से पहले socks भी पहने ताकि खून को आपके घुटनों के पास इकट्ठा होने का मौका ना मिले खूब सारा पानी पिएं नियमित व्यायाम करें खासकर चलना फिरना पोषण संतुलित आहार खाएं पर ज्यादा नमक वाले फूड प्रोडक्ट्स नमकीन चिप्स ना खाएं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hello mam mere kamar or nabhi k niche drd ho rha hai
उत्तर: हेलो डियर , प्रेगनेंसी में कमर, पीठ में दर्द होना बहुत ही नॉर्मल बात है ,ज्यादातर महिलाओं में प्रेगनेंसी में कमर दर्द की शिकायत होती ही है कमर में दर्द होने का कारण एक तो हारमोंस में बदलाव होता है दूसरा पेट में बढ़ रहे भार का हो सकता है जिसके कारण मांस पेशियों में खिंचाव होता है और कमर में दर्द हो सकता है कमर, पीठ दर्द को कम करने के लिए आप कोशिश करें कि अपनी बाइ और सोए सीधे पीठ के बल ना सोए घुटनों के बीच में तकिया लगाकर सोने से भी आपको कमर दर्द में आराम मिलेगा अगर आप हाई हील की सैंडल , शूज पहनते हैं तो ना पहने यह भी एक कमर दर्द का कारण हो सकता है साथ ही प्रेगनेंसी में dheele सूती के कपड़े पहनने चाहिए जिससे शरीर में खून का प्रवाह आसानी से हो और हम अनेक तरह के दर्द से बचेगे अगर आपके पेट के निचले हिस्से में दर्द हो रहा है और दर्द हल्का हल्का है तो ऐसा होना नॉर्मल है लेकिन आपको कभी ऐसा लगे कि आपका पेट दर्द बढ़ रहा है तो आप देर ना करें और डॉक्टर से मिले प्रेगनेंसी में ज्यादा वजन उठाने वाला काम या कोई ऐसा काम जिसमें आपको थकावट ज्यादा लग गई तब पेट में दर्द बढ़ सकता है इसलिए आप ज्यादा भारी काम या ज्यादा झुकने वाले काम ना करें सोने की पोजिशन भी ऐसे रखें जिससे आपको पीठ और पेट में दर्द कम हो जैसे कि आप left सोए ,पीठ के बल सोने से आपकी यह तकलीफ बढ़ सकती है कोशिश करें कि ज्यादा देर खड़ी भी ना रहे एक ही पोजीशन में ना बैठे , अपनी पोजीशन बदलते रहे साथ ही अगर आप हील वाली चप्पल या सैंडल पहनती हैं तो अवॉयड करें जब भी आप सो कर उठे तो एकदम से ना उठे हैं पहले करवट ले फिर उठे हैं. अपना ध्यान रखें अपने खाने-पीने का ध्यान रखें.
»सभी उत्तरों को पढ़ें