36 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: hello mam muj sine mai jaln हो rahi h

2 Answers
सवाल
Answer: सीने मे जलन ऍसिडिटी की वजह से होती है ,प्रेगनेन्सी मे पाचन क्रिया स्लो हो जाती है जिसकी वजह से ऍसिडिटी गैस होता है , एक खाना से दूसरे खाना के बीच लंबा अंतराल होने से भी एसिडिटी बनने लगती . एसिडिटी की वजह से हार्टबर्न हो सकता है ठंडा दूध या एक कटोरी दही का एसिडिटी और हार्टबर्न का इलाज है, एक कप अदरक की चाय भी राहत पहुंचा सकती है, केला खाने से भी इसमें फायदा होता है. थोड़ी मात्रा में, लेकिन बार-बार भोजन खाती रहें खाना को अच्छी तरह चबाकर खाएं, रोजाना आठ से 12 गिलास पानी पीना जरुरी है, कोशिश करें कि रात को आप सोने से करीब तीन घंटे पहले अपना खाना खा लें,कई बार लेटने से भी छाती में जलन होने लगती है. खुब पानी पिय .
Answer: sineमें जलन भूख से ज्यादा भोजन, अधिक तला हुआ , बासी खाना खाने के कारण भी हो जाती हैं sine मे जलन हो तों ये घरेलू उपचार करे , राहत मिलेगी .. अजवायन को तवे पर डालकर हल्का – हल्का भुन लें. अब भुनी हुई अजवायन को पीस कर इसका बारीक़ चुर्ण बना लें. फिर अजवायन के चुर्ण में थोडा सेंधा नमक डालकर मिला लें. अब एक गिलास गुनगुना पानी लें, और उसके साथ अजवायन के चुर्ण को फांक लें. sineकी जलन में राहत मिलेगी| धनिया और चीनी का शरबत पीने से भी sine की जलन ठीक हो जाती हैं.'|
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: muje sine me jaln hoti h
उत्तर: महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटीे छाती में जलन होती है यह काफी आम और कोई नुकसान नहीं पहुंचाती मगर इससे काफी असहजता और दर्द हो सकता है गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और एसिडिटी शरीर में हार्मोनल और शारीरिक बदलाव के कारण होती है आप कुछ उपाय आजमा कर इसे कम करने का प्रयास अवश्य कर सकती हैं जैसे कि तेलिया मसालेदार भोजन ,चॉकलेट खट्टे फल, कॉफी यह सभी खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं इस समय आप इन्हें अवॉइड करें पानी पिएं टोमेटो केचप डिब्बाबंद चीजें ना खाएं इनमें प्रिजर्वेटिव्स यूज़ करते हैं एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और का सदियों पुराना इलाज माना जाता है अदरक की चाय भी आपको राहत पहुंचा सकती है कुछ लोगों का मानना है कि केला खाने से भी इसमें फायदा होता है फिर भी अगर आपको आराम नहीं होता है तो आप अपने डॉक्टर से भी परामर्श ले सकते हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mam mujhe sine me jaln hoti h
उत्तर: हेलो प्रेगनेंसी के दौरान सीने में गले में जलन एक आम समस्या है गले की और सीने की जलन जरूरी नहीं हमारे खान-पान के ही कारण हो। ये जलन हमारे अनियमित दिनचर्या के कारण भी हो सकता है। जैसे समय पर ना सोना पूरी नींद नहीं लेना। जल्दी उठना या देर से उठना। समय पर नहीं खाना। और शरीर में पानी की कमी होने से पेट में सीने में और गले में जलन की प्रॉब्लम आती है। जलन से बचने के लिए आप एक ही बार में ज्यादा खाना ना खाएं थोड़ा थोड़ा करके दिनभर खाती रहें। ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं ज्यादा देर तक एक ही पोजीशन पर बैठे ना रहे। खीरा ककड़ी तरबूज खरबूज मुसम्मी का जूस और नारियल पानी पिए अगर आप दूध पीती होंगी तो गर्म दूध ना पिए ठंडे दूध में रूह अफजा डालकर पिए। दूध के जगह छाछ पीने से पेट शांत होता है जलन नहीं होती
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere sine me bhut jaln hoti h
उत्तर: एसिडिटी शरीर में हार्मोनल और शारीरिक बदलाव के कारण होती है आप कुछ उपाय आजमा कर इसे कम करने का प्रयास अवश्य कर सकती हैं जैसे कि तेलिया मसालेदार भोजन ,चॉकलेट खट्टे फल, कॉफी यह सभी खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं इस समय आप इन्हें अवॉइड करें पानी पिएं टोमेटो केचप डिब्बाबंद चीजें ना खाएं इनमें प्रिजर्वेटिव्स यूज़ करते हैं एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और का सदियों पुराना इलाज माना जाता है कुछ लोगों का मानना है कि केला खाने से भी इसमें फायदा होता है फिर भी अगर आपको आराम नहीं होता है तो आप अपने डॉक्टर से भी परामर्श ले सकते हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें