19 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: hello mam mere ko five month chal rha pr meri taago pindli paroo m bahut dard hota m kya kru dard roj hota bahut jada reply me

1 Answers
सवाल
Answer: कभी-कभी मांसपेशियों और हड्डियों पर पड़ने वाले दबाव के कारण पैरो मे दर्द के साथ सूजन और ऐंठन भी हो सकती है यह दर्द और सुजन बच्चे के जन्म के साथ ही खत्म हो जाता है यह कभी किसी तो कभी किसी पैर दरद ऐंठन में होता है यह परेशानी ज्यादातर प्रेगनेंसी में महिलाओं को होता ही है यह दर्द गर्भाशय में बच्चे के बढ़ने के कारण पड़ने वाले दबाव के कारण होता है दर्द से राहत के लिए आप पैरों और तलवों में हल्के गुनगुने सरसों तेल से मालिश ले सकती हैं नमक कम खायें।पैर के नीचे तकिया लेकर सोऐं। दर्द वाले की स्थिति में आप ज्यादा देर तक चले नहीं ना खड़े हो आपको आराम करना चाहिए और आपको फ्लैट आरामदायक नरम चप्पले पहननी चाहिए
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mere per ki pindli bhaut dard karti h Mam m kya kru
उत्तर: गर्म पानी में नमक डालकर सीकाई कीजिए काम से काम 15 से 20 minute इस्से आपके पैरों की pindli के दर्द में राहत मिलेगी । आप अपने खान पान पर ध्यान दें । आपको दिनभर में चार या पांच बार तरल चीजें, जैसे छाछ, नींबू-पानी, नारियल पानी, फलों का जूस या शेक पीएं। इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होगी। हरी पत्तेदार सब्जियां, मटर, फूलगोभी, शिमला मिर्च, बादाम, काजू, तरबूज, केला व संतरा खाएं। इनके अलावा पालक, चुकंदर,शलगम कद्दू , दाले , दही, दूध-मट्ठा, पनीर, सोयाबीन, बीन्स, और साबुत अनाज लें। गर्भावस्था के दौरान चाय और कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान आप को थोड़ा-थोड़ा खाना खाना चाहिए थोड़ी थोड़ी देर में बहुत अधिक खाना नहीं खाना चाहिए । स्मोक नहीं करना चाहिए। अल्कोहल नहीं लेनी चाहिए Coca-Cola Pepsi आदि का सेवन नहीं करना चाहिए । मैदे से बनी चीजों को खाने से परहेज करना चाहिए। जरूरत से ज्यादा मसालेदार खाना नहीं खाना चाहिए। इससे आपको कब्ज की शिकायत हो सकती है। समुद्री मछली खाने से परहेज करना चाहिए । कच्चा मांस या कच्चे अंडे या कोई भी गर्म करने वाली चीज नहीं खानी चाहिए । डब्बा बंद और रेडीमेड खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hello mam mera 9 month chal rha h mere gale me bahut dard ho rha kuch bhi khane se jalan bahut ho rhi kya kru mai .
उत्तर: अक्सर महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी और छाती या पेट में जलन और गैस होती है।गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और दरद एसिडिटी शरीर में हॉरमोनल बदलावों के कारण होती है। तैलीय या चटपटा मसालेदार खाना चॉकलेट, खट्टे फल, चाय और कॉफी, एसिडिटी को बढ़ाते है। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही लेने से एसिडिटी और जलन में आराम मिलता है। गर्भावस्था मे 12 गिलास पानी पीना चाहीये। एसीडिटि से बचने के लिये सोने से करीब तीन घंटे पहले खाना खा लेना चाहिए जीर्ण भोजन न करें जल्दी पचने वाले हल्के और सुपाच्य भोजन और फल फुल जूस हरी सब्जियां आदि लें। खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही सोना चाहिए जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere ko pet me or kamar me bahut dard hota he roj to kya kare ham
उत्तर: हेलो डियर, आपने यह नहीं बताया कि आपको पेट के किस हिस्से में दर्द होता है. प्रेगनेंसी में पेट में मोस्टली गैस की वजह से दर्द होता है अगर या ऊपरी हिस्से में हो तो अगर आपके पेट के निचले हिस्से में दर्द हो रहा है और दर्द हल्का हल्का है तो ऐसा होना नॉर्मल है लेकिन आपको कभी ऐसा लगे कि आपका पेट दर्द बढ़ रहा है तो आप देर ना करें और डॉक्टर से मिले प्रेगनेंसी में ज्यादा वजन उठाने वाला काम या कोई ऐसा काम जिसमें आपको थकावट ज्यादा लग गई तब पेट में दर्द बढ़ सकता है इसलिए आप ज्यादा भारी काम या ज्यादा झुकने वाले काम ना करें सोने की पोजिशन भी ऐसे रखें जिससे आपको पीठ और पेट में दर्द कम हो जैसे कि आप left सोए ,पीठ के बल सोने से आपकी यह तकलीफ बढ़ सकती है कोशिश करें कि ज्यादा देर खड़ी भी ना रहे एक ही पोजीशन में ना बैठे , अपनी पोजीशन बदलते रहे साथ ही अगर आप हील वाली चप्पल या सैंडल पहनती हैं तो अवॉयड करें जब भी आप सो कर उठे तो एकदम से ना उठे हैं पहले करवट ले फिर उठे हैं. प्रेगनेंसी में कमर, पीठ में दर्द होना बहुत ही नॉर्मल बात है ,ज्यादातर महिलाओं में प्रेगनेंसी में कमर दर्द की शिकायत होती ही है कमर में दर्द होने का कारण एक तो हारमोंस में बदलाव होता है दूसरा पेट में बढ़ रहे भार का हो सकता है जिसके कारण मांस पेशियों में खिंचाव होता है और कमर में दर्द हो सकता है कमर, पीठ दर्द को कम करने के लिए आप कोशिश करें कि अपनी बाइ और सोए सीधे पीठ के बल ना सोए घुटनों के बीच में तकिया लगाकर सोने से भी आपको कमर दर्द में आराम मिलेगा अगर आप हाई हील की सैंडल , शूज पहनते हैं तो ना पहने यह भी एक कमर दर्द का कारण हो सकता है साथ ही प्रेगनेंसी में dheele सूती के कपड़े पहनने चाहिए जिससे शरीर में खून का प्रवाह आसानी से हो और हम अनेक तरह के दर्द से बचेगे अपना ध्यान रखें अपने खाने-पीने का ध्यान रखें.
»सभी उत्तरों को पढ़ें