3 साल का बच्चा

Question: hello m yh puchna chati hu mera beta 3 sal ka h. wo ek bcche k sath khelta h pr uske parents mna krte h or wo bccha khud bhi bhut nkhre krta h mere bete k sath khelne के liy.m use dusre bccho k sath khilati hu to wo nhi khelta use bus wo bccha hi chaye. m use gussa krti hu. pr isse mere bete pr koi bura effect to nhi padega or m use kaise smjau. qki m nhi chati k itni choti age m us pr koi mental pressure pde pls help me

1 Answers
सवाल
Answer: hi apka baby jis age me h us age me bache aksr jid krtr h.use datne ya gussa krne se acha h ap uska dhyan khi or lgaye jisse wo us pr dhyn na de.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Mai job krti hu issi liye mera beta dinbhar mere saath nhi rehta hai jab saam ko beta aata h to vo mujhse khelne ko kehta h aur jb mai mna kr deti hu to vo gussa ho jata h chidcidane lgta h iss time vo bahut saotaan ho gaya h mai use bilkul time nhi de pati kabhi kabhi mai uski gussa bhi kr deti hu mai kya karu bilkul time nhi de pati bete ko
उत्तर: he needs ur time dear aapna kimti time kuch apne bache ke liye nikaliye.baby pyr ke bukhe hote h.unhe time or pyr dijiye
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere bete k bamb pr dane ho gye h jbki m use dayper nhi phnati hmesha cotten ki saf nikker phnati hu
उत्तर: आपके बच्चे को रशेस के कई कारण होसकते है। सबसे पहले आप कारण का पता लगाइये और फिर उसका निवारण किजिए। १)बच्चे के कपड़ो को साफ़ एंटीबैक्टीरियल लिक्विड डाल के धो के धूप में सुखा के रखिये। २)आप बच्चे को कुछ दिन कोई भी आयल या क्रीम ना लगाएं। ३)बच्चे को गर्मी से बचाकर राखिय। छोटे बच्चों की स्किन बहुत ज्यादा नाजुक होती है इसलिए आप उसमें अभी किसी भी प्रकार का कोई भी क्रीम और ऑइल यूज़ नहीं कीजिए.. आप एक बार डॉक्टर की सलाह लीजिये ताकि वह बच्चे की घमौरियां देखकर उनके कारण का पता लगा सके और उस हिसाब से आपको सलाह देंगे..
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: meri beti 3 saal ki h . bhut ziddi ho gyi h. gussa bhut krti h. bhut preshan hu m. kya wo bde ho kr b aisa kregi. abi school m admission nhi krwaya. na wo ghr m pdti h .bhut try krti hu ki wo ghr m pde..
उत्तर: हेलो डियर 3 साल का बच्चा आपका हो गया है तो आपको इस एज में बच्चे को स्कूल में जरूर डलवा देना चाहिए, यदि बच्चा घर पर रहता है तो बच्चे को आप थोड़ा सा एक्टिविटी के लिए कहना कि ले जाया करें जैसे कि आस-पास बच्चे कि कोई फ्रेंड्स बनवाएं या फिर आप उसको पाक लेकर जाएं एक्चुअली जब बच्चा बहुत ज्यादा घर पर रहता है तो बच्चे में बहुत चिड़चिड़ापन आने लगता है, मैं यह भी समझ सकती हूं कि आपके घर में कोई बड़े लोग आपस में बच्चे के साथ खेलते होंगे पर जो मजा बच्चे को सेम एज ग्रुप के बच्चे के साथ खेलने में आता है वह मजा घर पर नहीं आता है और इस वजह से बच्चे में बहुत ही गुस्सा आना और भी बहुत से डिप्रेशन भी आजकल देखा गया है क्योंकि हम माई हमेशा अक्सर ऐसा ही करते हैं कि बच्चे को बिजी रखने के लिए या तो टीवी में और या फिर फोन में बिजी रखते हैं जो कि सबसे ज्यादा गलत है यदि अगर आप ऐसा करते हैं तो बिल्कुल करना बंद कर दे अपने बच्चे के बसलिए टाइम निकाल कर आप जरूर बच्चे को कम से कम 2 घंटे के लिए बाहर पार्क में जरूर लेकर जाएं. इसके अलावा अपने बच्चे की हर एक बात को सुनें यदि बच्चा कुछ गलत डिमांड कर रहा है तो उसको प्यार से समझाएं उस पर ना ही shout करें और ना ही डांटे अक्सर ऐसा होता है कि बच्चे को हम हर बात पर tokte हैं जिस वजह से बच्चे जिद्दी होने लगते हैं और उनमें गुस्सा पनपना शुरू हो जाता है, बच्चा अभी आप का 3 साल का है अभी बच्चे का पढ़ाई में थोड़ा बहुत इंटरेस्ट आपको बनाना है उसको बच्चे को जबरदस्ती नहीं मिटाना है बच्चे के लिए आप कलरफुल मोटू पतलू की कलरिंग बुक लेकर आए बहुत से कार्टून जो कि फेवरेट हो बच्चों के वह आप मार्केट से लेकर आए, बच्चे को कलर करना सिखाए और पढ़ाई के समय या कुछ भी अगर आप बच्चे की पढ़ाई से रिलेटेड कुछ चीज कर रहे हैं तो उस समय आपका वहां पर मौजूद रहना बहुत जरूरी है और उस टाइम पर आप किसी दूसरे काम में नहीं उलझे हो इस बात का खास खयाल रखें अच्छी नहीं कभी-कभी क्या होता है कि हम बैठे बच्चे के साथ होते हैं पर हमारा ध्यान कहीं और होता है जिसकी वजह से हम एक तालमेल नहीं बिठा पाते हैं, तू मेरा कहने का मतलब यह है कि आप अपने बच्चे को प्रॉपर जब भी पढ़ाई के समय बताएं तो आप खुद उसमें व्यस्त हो जाए बच्चे को ऐसा लगना चाहिए कि मेरे साथ मेरा कोई उसे इस ग्रुप का पार्टनर मेरे साथ बैठा है यह मैंने अपने बच्चे के साथ किया है मैं आपके साथ अभी शेयर कर रही हूं मैंने भी अपने बच्चे के साथ ऐसे ही बैठना शुरू किया और उसको टीचर बना दिया खुद में बच्चा बन गई इस तरीके से मैंने अपने बच्चे को डाला है अब मेरा बच्चा खुद से ही पढ़ने बैठता है और बहुत ही अच्छा है पढ़ाई में और जरूरी नहीं कि बच्चे का बिहेवियर आपके साथ ऐसा ही रहेगा या फिर गुस्सा वाला ही रहेगा धीरे-धीरे बच्चे में बदलाव आता है पर आपको बहुत ही शांति से काम लेना है यदि जिस समय बच्चा चिल्ला रहा है गुस्सा कर रहा है उसको आपने उस टाइम पर बहुत ही संयम से समझाना है बहुत ही प्यार करना है और उसको बताना है कि जिस चीज की डिमांड कर रहा है मैं उसके लिए ठीक नहीं है बच्चे का ध्यान इधर-उधर करें यानी कि माइंड को डाइवर्ट करना सीखे जितना आप अपने बच्चे के साथ प्यार से बात करेंगे उतना आपका बच्चा अच्छा रहेगा आपकी हर एक बात को सुनेगा. कभी कबार हम फ्रस्ट्रेशन अपने घर के बच्चे पर निकाल देते हैं जो कि सबसे ज्यादा गलत होता है इसलिए मेरा आपको सुझाव रहेगा कि जो चीज हम प्यार से हासिल कर सकते हैं प्यार से काबू कर सकते हैं वह किसी और चीज से नहीं करते हैं इसलिए अपने बच्चे को प्यार से ही संभाले प्यार से ही समझाएं बच्चा जरूर समझेगा यह मेरा पर्सनल एक्सपीरियंस मैंने आपके साथ शेयर किया है बहुत ही लंबा आंसर मैंने आपको दिया है पर उम्मीद करती हूं कि आपको जरूर मदद मिलेगी :)
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मैरे bete k chik fat gye h m kya use kru jisse wo thik ho jaye m himalaya ki baby cream use kr rhi hu
उत्तर: हेलो डियर अगर आपके बेबी के चीक्स बहुत ड्राइ हो रहें है तो आप बेबी के चीक्स पर नारियल तेल लगा सकती है जिससे उनमें नमी आ जायेगी आप बेबी के चीक्स पर घी भी लगा सकती है।और आजकल तो मार्किट मे बहुत से बचचो के लिए बेबी माइस्चराइजर भी मिल जाते है आप उन्हें भी बेबी के चीक्स पर लगा सकती है ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें