8 weeks pregnant mother

gale me khrash ho rhi h me kya kru mera 2nd month chl ra h

सवाल
गले मे khrash होने पर आप खाने पर थोड़ा धयान दें ... आप जब भि pani पीये गुनगुना हाइ पिये .. subha के समय आगर आप चाय leti है to उसमें अदरक का यूज़ करे ... वरना अदरक का रस हनी के साथ भी लें सकती है .. आप काली मिर्च को भि हनी के साथ ले सकती है .. पर 1या 2 काली मिर्च hi लें ... क्यूकी काली मिर्च बॉडी को हिट karta है ... और dhudh agar लेती hai.... to usme thoda haldi dal k lijeye...or din mai 3 se 4 baar namak k pani se garara karna na bhule....bhut jaldi releaf hoga....ok
  • avatar
    poonam meena202 days ago

    thank you

समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mujhe gale me jalan ho rhi h me kya kru
उत्तर: यह काफी आम है और कोई नुकसान नहीं पहुंचाती,एसिडिटी की वजह से हार्टबर्न भी हो सकता है आप शायद एसिडिटी और जलन से पूरी तरह छुटकारा न पा सकें, मगर आप कुछ उपाय आजमाकर इसे कम करने का प्रयास अवश्य कर सकती हैं, जैसे कि तैलीय या मसालेदार भोजन, चॉकलेट, खट्टे फल, और कॉफी, ये सभी खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं। अगर, आपको असहजता महसूस हो, तो कुछ समय के लिए इन पदार्थों से परहेज रखें सोडायुक्त पेयों की बजाय पानी पीएं, रेडीमेड भोजन और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें, जैसे कि टॉमेटो कैचअप, अचार और चटनी आदि। इनमें बहुत ज्यादा मात्रा में नमक, प्रिजर्वेटिव्स और एडिटिव्स होते हैं। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और हार्टबर्न का सदियों पुराना इलाज माना जाता है। एक कप अदरक की चाय भी आपको राहत पहुंचा सकती है। केला खाने से भी इसमें फायदा होता है। थोड़ी मात्रा में, लेकिन बार-बार भोजन खाती रहें। भोजन को अच्छी तरह चबाकर खाएं। एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच लंबा अंतराल होने से भी एसिडिटी बनने लगती है। भोजन के दौरान बहुत ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ न पीएं। गर्भावस्था के दौरान रोजाना आठ से 12 गिलास पानी पीना जरुरी है, मगर ये एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच की अवधि में ही पीएं। कोशिश करें कि रात को आप सोने से करीब तीन घंटे पहले अपना भोजन कर लें। कई बार लेटने से भी छाती में जलन होने लगती है, क्योंकि गुरुत्व बल के कारण पेट से अम्ल बाहर निकलने लगते हैं। रात को देर से भोजन करने पर, कोशिश करें कि खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही लेटें तकिये लगाकर सोएं, ताकि आपके कंधे आपके पेट से ऊंचे रहें.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera 7th month chl ra h meri edi me bhut dard h kya kru
उत्तर: एड़ी में दर्द होना बेहद आम समस्या होती है लेकिन यहां की गतिविधियों में रुकावट पैदा करती है kai Baar flat चप्पल पहनने की वजह से भी होता है अगर यह समस्या पर ध्यान ना दिया जाए तो एक गंभीर समस्या भी बन सकता है चोट की वजह से भी एड़ी में दर्द हो सकता हैl इसके लिए आप कुछ घरेलू उपाय कर सकते हैं जिसे आप को राहत मिल सकता हैl एड़ी के दर्द को दूर करने के लिए सबसे अच्छा उपाय दर्शन होता है अगर वह बर्फ की सिकाई किया जाए तो इसे बहुत जल्दी राहत मिलता हैl चेहरे पर नारियल का तेल लगाकर लगभग 15 मिनट तक मसाज करने से भी दर्द से राहत मिलता हैl आप हल्का गुनगुना पानी में काला नमक मिलाकर अपने पैरों को लगभग 15 मिनट के लिए रखी है अभी राहत मिलता हैl इसके लिए आप हल्दी का भी इस्तेमाल कर सकती हैंl और अगर एड़ी में बहुत ज्यादा दर्द हो तो इसे आराम देने की जरूरत होती है इसके लिए आपको कम से कम काम करने की जरूरत होती है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera 26 week chl ra hai..mujhe gle me khrash .or fever typ lg raha hai
उत्तर: Aap गले में दर्द के लिए हल्के गर्म पानी में चुटकी भर नमक डालकर उसे अच्छे से गरारा कीजिए इससे आपको गले के दर्द में आराम मिलेगा। आप खांसी के लिए bhap ले सकती हैं इससे आपके छाती में कफ नहीं जमेगा और आपको खांसी में आराम मिलेगा। आप एक छोटा टुकड़ा अदरक का चबा सकती हैं जिससे आपको खांसी में आराम मिलेगा इसे ज्यादा नहीं लीजिए एक दम छोटा टुकड़ा चबाना है। अगर आपको ज्यादा खांसी आ रही है तो आप डॉक्टर के पास जाकर अपना गला भी चेक करवा सकती हैं जिससे वह आपको देखकर symptoms के अनुसार ज्यादा सही सलाह देंगे। प्रेगनेंसी में बुखार आना नॉर्मल नहीं है बुखार का आना मतलब आपकी बॉडी में किसी प्रकार का इंफेक्शन है। इसलिए आप अपने डॉक्टर से जाकर संपर्क कीजिए जिससे वह आपके बुखार के आने के कारण का पता लगाएंगे। अगर आप को तेज बुखार है तो आप अपने माथे पर गीले कपड़े की पट्टी लगा सकती हैं, जिससे कि आप का टेंपरेचर ज्यादा नहीं बढ़ेगा । अगर बहुत ज्यादा तेज बुखार है तो आप अपने बदन पर भी कपड़े की गीली नैपकिन से पूछकर 1 डिग्री तापमान कम कर सकती हैं । Aap अपना खास ध्यान रखिए पानी ज्यादा मात्रा में पिए और तरल पदार्थ लेते रहिए ।अपने खानपान में भी विशेष ध्यान रखें ताकि आप को कमजोरी naa हो।
»सभी उत्तरों को पढ़ें