31 weeks pregnant mother

fetus eco karna compulsry hai ky

सवाल
फीटल इको एक अल्ट्रासाउंड की तरह एक परीक्षण है। इस परीक्षा से आपके चिकित्सक को आपके अजन्मे बच्चे के दिल की संरचना और कार्य को बेहतर ढंग से देखने की सुविधा मिलती है। यह आमतौर पर दूसरे तिमाही में किया जाता है, 18 से 24 सप्ताह के बीच। परीक्षा ध्वनि तरंगों का उपयोग करती है जो भ्रूण के दिल की संरचनाओं से “गूंज” करती है। एक मशीन इन ध्वनि तरंगों का विश्लेषण करती है और उनके दिल के इंटीरियर का चित्र, या एकोकार्डियोग्राम बनाता है। यह छवि आपके बच्चे के ह्रदय की स्थापना के बारे में जानकारी प्रदान करती है और यह ठीक से काम कर रहा है या नहीं। यह आपके डॉक्टर को  बच्चे के रक्त के प्रवाह या दिल की धड़कन में किसी भी दोष या असामान्यताओं को खोजने में मदद करता  ह सभी गर्भवती महिलाओं को फीटल एकोकार्डियोग्राम की आवश्यकता नहीं है। ज्यादातर महिलाओं के लिए, एक बुनियादी अल्ट्रासाउंड यह दिखाएगा कि उनके बच्चे के दिल के सभी चार कक्ष विकसित हुए हैं। आपका प्रसूतिशोधक यह सुझाव दे सकता है कि यदि पिछले परीक्षणों में भ्रूण में एक असामान्य दिल की धड़कन का पता चला तो आपको यह करवाने के लिए कहा जाएगा । आपके अजन्मित  बच्चे को जन्म के समय दिल की असामान्यता या अन्य विकार के लिए जोखिम है आपके हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास है आपके पास पहले से ही हृदय स्थिति वाली बच्ची है आपने अपनी गर्भावस्था के दौरान ड्रग्स या अल्कोहल का इस्तेमाल किया है.आपने कुछ दवाएं ली हैं या उन दवाओं से अवगत कराया गया हैं जो दिल के दोषों का कारण बन सकते हैं, जैसे कि मिर्गी या नुस्खा मुँहासे दवाओं का इलाज करने वाली दवाएं कुछ प्रसूतिजन्य स्वयं इस परीक्षण को स्वयं कर सकते हैं आमतौर पर, एक अनुभवी अल्ट्रासाउंड तकनीशियन, या अल्ट्रासोनोग्राफर, परीक्षण करता है। एक हृदयविज्ञानी जो बाल चिकित्सा के विशेषज्ञ हैं, उसके बाद आपकी परीक्षा समाप्त होने के बाद परिणामों की समीक्षा करेंगे।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Mera 4tha months calo hai muze normal delivery ke liye ky ky karna pade ga
उत्तर: अभी के समय में नार्मल डिलीवरी हो पाना बहुत मुश्किल हो गया है क्योंकि इतना बिजी लाइफ चालू होने के कारण लोग समय नहीं दे पाते खुद को और मेंटली और शारीरिक रूप से stressस लेने लगते है सबसे पहली और इंपॉर्टेंट बात यह है कि आपको प्रेग्नेंसी से रिलेटेड सारी बातों के बारे में जानना बहुत जरूरी होता है क्योंकि ऐसे में अगर आप को पहले से पता होगा सब चीजों के बारे में तो आपको टेंशन थोड़ा कम होगा और उस चीज का उपचार भी आप खुद से कम कर सकते हैं इसलिए हो सके तो प्रेगनेंसी में आम जानकारी इकट्ठी करें दूसरी बात आपको खान-पान में बहुत ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है आप जितना ज्यादा स्वस्थ रहेंगे बच्चा उतना ही स्वस्थ रहेगा नॉर्मल डिलीवरी में भी आपको उतना ही आसान होगा इसलिए आपको हेल्दी खाना है और हेल्दी रहना है जी के समय आप का खाना बहुत मायने रखता है आप अपने खाने में आयरन कैल्शियम फोलिक एसिड प्रोटीन विटामिंस यह सारे चीज शामिल करें मुझे आप को हेल्दी रखने में हेल्प करेगा आप हो सके तो बहुत ज्यादा पानी पिया क्योंकि प्रेग्नेंसी के समय आपके शरीर को पानी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है पानी का उपयोग आपके शरीर में सांस साथ आपके बच्चे के शरीर में और आप एक्सरसाइज भी करें अपने डॉक्टर की सलाह से क्योंकि इस टाइम वजन के बढ़ जाने से थोड़ा दिक्कत होता है अगर आप डेली एक्सरसाइज करते रहेंगे तो उसे आपके शरीर के सारे मसल्स भी बहुत स्ट्रांग रहेंगे जिससे आपको नॉर्मल डिलीवरी के लिए हेल्प मिलेगी प्रेग्नेंसी के समय आप ज्यादा स्ट्रेस ना ले और हो सके तो आप खुश रहें और दूसरों से अपनी बात शेयर करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mjhe bby k ache mind k liye ky ky karna chiye or ky ky khana chiye
उत्तर: हेलो डियर आप बेबी का दीमाक तेज करने के लिए अखरोट खा सकती है ऑर दूध ऑर दूध से बने हुई पदार्थ जैस की दही पनीर छाछ ऑर बादाम तजि हरि सब्जियां ताजे फल अण्डे इन सब चेजो के सेवन से आपका बेबी बहुत दीमाक वाला हो सकता है ऑर जब बेबी पेट हो तो किसी प्रकार का तनाव नही लेना चाहिए ऑर अपने मन को शान्त रखना चाहिए इस्से बेबी के दिमाक में अच्छा असर होता है प्रेगनेट लेडी को हमेसा खुश रहना चाहिए आपमें होने वाले हर गतिविधियों को बेबी महसूस कर सकता है इसलिए किसी प्रकार का मनसिक टेंशन ना लें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mara period ana ko 4 days hai to sex karna sa pragnancy ho सकती hai ky
उत्तर: ha dear ap is time sex kr skti hai..ap conceive kr skti hai...iliye al try kr skti hai...
»सभी उत्तरों को पढ़ें