28 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मera exam है 5 ghnteka aur 4ghnte travell bhi krna hai alto se sathme fasting bhi kya aisi condition me travell krna safe hoga aur itni baithak me bhot confuse aur presan hu mujhe sahi suggestion dijiye i

1 Answers
सवाल
Answer: Ha travelling safe h
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: me 3 months pregnant hu ... mera blood group A positive h aur mere husband ka O negative ... kisi ne hame bola ki is condition me hamara baby normal nhi hoga .,. me bht pareshaan hu .. plz aap mujhe sahi advise de
उत्तर: हेलो प्रेगनेंसी कंसीव होने पर ऐसे बहुत से सवाल होते हैं जिसमें हम परेशान हो जाते हैं .बिल्कुल भी परेशान मत होइए. आराम से रहिए . यदि हस्बैंड का ब्लड ग्रुप नेगेटिव है तो वाइफ का ब्लड ग्रुप पॉजिटिव और या फिर नेगेटिव होना चाहिए. लेकिन यदि हस्बैंड का ब्लड ग्रुप पॉजिटिव है तो वाइफ का पॉजिटिव होना चाहिए. ब्लड ग्रुप की किसी भी समस्या के लिए हमें बिल्कुल भी परेशान नहीं होना चाहिए. डॉक्टर हमें ऐसी कंडीशन में एंटी डी इंजेक्शन देते हैं. एनटीD का इंजेक्शन इसीलिए लगाया जाता है कि यदि हस्बैंड और वाइफ के ब्लड ग्रुप सेम है या किसी भी प्रकार की समस्या है तो उसका समाधान हो जाता है. बच्चे और मां के लिए यह बहुत अच्छा होता है .आपको परेशान होने की चिंता करने की कोई बात नहीं है. प्रेगनेंसी में अगर हम किसी प्रकार की चिंता में रहते हैं तो हमारे लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है. हेल्दी खाना खाते रहिए. खाना एक बार में बहुत सारा मत खाइए थोड़ा-थोड़ा खाना चबाकर अच्छे से खाइए. पानी की मात्रा दिन भर में 8 से 10 गिलास piye मौसम गरम है तो पानी पीने की मात्रा को और बढ़ाइए. दिनभर में तरल पदार्थ लिक्विड ज्यादा लीजिए. नींद का बहुत ध्यान रखिए प्रेगनेंसी में नींद का सही मात्रा में होना बहुत जरूरी है .नींद अच्छे से लीजिए. दोपहर में खाना खाने के बाद बाई करवट लेकर थोड़ी देर आराम भी कीजिए .रात में खाना खाकर तुरंत मत सोइए. खाना खाकर थोड़ी देर डॉक्टर की सलाह से 5 से 10 मिनट की हल्की वॉक लीजिए .उसके बाद सोइए. समय पर सोई है समय पर उठिए. आपकी प्रेगनेंसी हेल्दी रहेगी और बच्चा भी आपको हेल्दी हो जाएगा.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hello mem mera 7 month start ho gya he aur me 3 month se hi multani mitti khane lgi hun aur agar nhi khati hun to muh kadva rehta he aur kbhi2 ulti bhi aati he mitti khane se mere bachhe ko kuch hoga to nhi mujhe thyroid bhi he please mujhe iska jawab dijiye mujhe kya krna chahiye
उत्तर: प्रेगनेंसी में हमारे हारमोंस changes hote hai. जिसके कारण ऐसे बहुत से स्वाद khane ka maan होने लगते हैं .जो नहीं बनना चाहिए. chowk या मिट्टी ऐसा कोई भी पदार्थ जो प्रेगनेंसी में खाने के लिए सुरक्षित नहीं है हमें बिल्कुल भी नहीं खाना चाहिए .आयरन या कैल्शियम की कमी से हमारे ऐसे बहुत से खाने की चीजों का मन होता है. आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें .डॉक्टर को दिखाएं. आपका अगर मुंह कड़वा है तो ऐसे बहुत सारे घर के उपचार है जिनसे आप अपने मुंह का स्वाद अच्छा कर सकती हैं सबसे पहले आप छोटे से निंबू के टुकड़े में काला नमक लगाकर thoda thoda khaye. उससे बहुत अच्छा स्वाद बनता है . इलायची खा सकती हैं. मीठी सौंफ खा सकती हैं. आंवला के एक छोटे छोटे टुकड़े मुंह में रख सकते हैं जो कि बहुत फायदेमंद भी होगा. नॉर्मल थाइरॉइड स्टिमुलतिनग हार्मोस TSH प्रेग्नेन्सी के समय low रहता है नॉर्मल नोनप्रेगननसी लेवल के . 1st ट्रिमेस्टेर में 2.5 से कम रहता है .रेंज है 0.1 से 2.5 . 2nd ट्रिमेस्टेर में 0.2 से 3.0 तक . अगर प्रेग्नेंसी में थायराइड हो गया है तो परेशानी की कोई बात नहीं है डॉक्टर द्वारा दी गई दवाइयां को समय पर ले. समय-समय पर अपना ब्लड टेस्ट कराएं और ध्यान रखें कि आप डॉक्टर से सलाह करके ही थायराइड में सहायक होने वाले व्यायाम या एक्सरसाइज या कोई प्राणायाम करें. आमतौर पर pregnancy के दौरान थायरॉयड के इलाज में दवाओं के डोज बढ़ा दिए जाते हैं लेकिन बच्चे के जन्म के बाद इसे जरूरत के हिसाब से कम कर दिया जाता है। थायराइड आजकल ऐसी प्रॉब्लम है जो बहुत सी लेडीस को होती है ।परेशान मत होइए। हमारे गले में थायराइड ग्लैंड से होती हैं। जो शरीर से आयोडीन लेकर थाराइड हॉर्मोन्स बनाते हैं। यह हारमोंस शरीर में मेटाबॉलिज्म को बनाए रखने में मदद करते हैं। जब इन हारमोंस की मात्रा बढ़ती है या कम होती है तब थायराइड की प्रॉब्लम हो जाती है। जिससे हमारे शरीर में अंदर बाहर बहुत से बदलाव होते हैं । यह दो प्रकार के होते हैं १।हाइपो थायराइड और २।हाइपर थायराइड। थायराइड होने पर आप इन्हें अपने खाने में जरूर शामिल करें। मशरूम -मशरूम में सेलेनियम होता है । थायराइड को कंट्रोल करता है। अंडा -अंडे में भी सेलेनियम होता है। जो थायराइड कम करने में मदद करता है। आप रोज एक अंडा खाए। नट्स खाने से भी थाराइड हारमोंस में मदद मिलती है। आप नट्स में बादाम और अखरोट खा सकती हैं अगर आपको कोई कैलेस्ट्रोल प्रॉब्लम है तो। दूध -दूध पीने से थायराइड हारमोंस को कंट्रोल करने में बहुत मदद मिलती है ।रोज एक गिलास दूध जरूर पीना चाहिए। साबुत अनाज -साबुत अनाज रोज में खाने से थायराइड के साइड इफेक्ट से आप बच सकते हैं। मेथी -मेथी में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो थायराइड हार्मोन कंट्रोल करते हैं । इन सभी चीजों को अपने रोज के आहार में शामिल करें आपके थायराइड समस्या में बहुत आराम मिलेगा। थायराइड होने पर क्या नहीं खाएं । आयोडीन नमक -ऐसा नमक नहीं है जिस में आयोडीन की मात्रा ज्यादा हो।ऐसा कोई आहार ना ले जिसमें आयोडीन बहुत हो। चाय व कॉफी कम से कम ले । अल्कोहल बिल्कुल भी ना लें। वनस्पति घी या डालडा का प्रयोग ना करें। कैपिंग अपना ध्यान रखें .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो मैम ... मेरा 5दैन मंथ लग चुका है.... और में उत्तर प्रदेश में रह रही हूं... नेक्स्ट वीक मुझे मुंबई जाना है...वो भी ट्रेन से .. तो प्लीज अगर कोई सजेशन है तो दीजिए.. की मुझे क्या सावध बर्त्नी चाहिए .. मेरे साथ क्या कैरी करना चाहिए और क्या नहीं .. जिससे नेगेटिव एनर्जी मुझसे दूर रहे .. प्लीज प्लीज प्लीज हेल्प
उत्तर: हेलो डियर डॉक्टर 3 से 4 मही ने तक ट्रेवलिंग करने के लिए मन ा करते है ं पर अभी आप को पांचवा महीना शुरू है और आप ट्रेन से जाने वाली है तो आपको ट्रैवलिंग में वैसे कोई दिक्कत नहीं हो गी आप बस कोई भी भारी सामान ना उठाएं आपके पेट पर प्रेशर है ऐसा कोई भी का म ना करें और ट्रैवलिंग में आपके को झटका ना लगने दें एक दम आराम से ट्रैवलिंग करिए और सबसे महत्वपूर्ण बात की आप अपने यूरिन को बिलकुल भी हो ना करें आपको जब भी यूरिन जाने का मन हो आप तुरंत बाथरूम जाए कि कि प्रेग्नेंसी में यूरिन होल्ड करने से यूरिन इन्फेक्शन बहुत ही जल्दी होता है और प्रेग्नेंसी में यूरिन इन्फेक्शन होना दर्द भरा होता है तो इसे जानने के लिए आप खूब सारा पानी पिए और यूरिन को बिलकुल भी हो ना करें एकदम आराम से जाए । अगर आपको कोई समस्या है तो आप एक बार आप के डॉक्टर की सलाह लेता के डॉक्टर आपको बता पाएंगे कि आपको कौन -कौन से मेडिसिंस कार्य करनी है आपको डॉक्टर ने प्रेग्नेंसी में जो आयरन, फोलिक एसिड और कैल्शियम की गोलियां दी है वह तो आपको लेनी ही है उसके अलावा डॉक्टर ने आपको प्रोटीनेक्स पाउडर भी दी होगी वह भी आप को साथ में लेकर जाना है और दवाइयां लेना बिलकुल भी ना भूले टाइम पर आप की दवाइयां लेते रहिए ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें