30 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: chest me bhot pain rhta h....wt can i do

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर-अक्सर महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी और छाती या पेट में जलन दरद और गैस होती है।गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और दरद एसिडिटी शरीर में हॉरमोनल बदलावों के कारण होती है। तैलीय या चटपटा मसालेदार खाना चॉकलेट, खट्टे फल, चाय और कॉफी, एसिडिटी को बढ़ाते है। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही लेने से एसिडिटी और जलन में आराम मिलता है।गर्भावस्था मे 12 गिलास पानी पीना चाहीये।एसीडिटि से बचने के लिये सोने से करीब तीन घंटे पहले खाना खा लेना चाहिए जीर्ण भोजन न करें जल्दी पचने वाले हल्के और सुपाच्य भोजन और फल फुल जूस हरी सब्जियां आदि लें।खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही सोना चाहिए जादा परेशानि होने पर डाक्टर से सलाह लें।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: kmr me pain rhta h...jisse bhot problem hoti h..kuch solution ho to bta do
उत्तर: गर्भावस्था मे कमर दरद--आपका वजन सामान्य से अधिक होना गर्भावस्था में कमर पर पड़ने वाले भार की वजह से कमर दर्द होता है तो आपको पीठ दर्द होने की संभावना अधिक रहती है।आपकी मांसपेशियों में थकान और हड्डियों पर आपके शरीर एवं शिशु का वजन पड़ने से होने वाले हल्के खिंचाव के कारण होता है।  आपको कम उचाई या फ्लैट और आरामदायक चप्पलें पहनें पैरो मे गुनगुने तेल हल्की मालीश लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरे राइट पर में बहुत पेन रहता ह
उत्तर: हेलो डियर प्रेगनेंसी में पैरों तक पर्याप्त रक्त संचार न हो पाने के कारण उसमें ऑक्सीजन की कमी से पैर दर्द होने लगता है। यह घुटनों, और पैरों की उँगलियों में भी होता है। कभी कभी पैर सुन्न पड़ सकता है।बदलते हॉर्मोन्स लेवल से पैरों में दर्द होता है। जैसे गर्भाशय का आकार बढ़ता है उस प्रकार बदन की निचली मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इस कारण महिलाओं में पैर दर्द होता है। बढ़ते वज़न के कारण उसकी पैरों की हड्डी पर प्रभाव पड़ता है जिससे मांसपेशियों और पैरों में दर्द होता है। पैरों के दर्द से बचने के लिए पैर की उँगलियों को हलके हाथ से दबाएं। साथ ही गुनगुने तेल से मालिश करें! यह धीरे धीरे बेहतर परिणाम देगा। गर्भावस्था में ऊँची हील की सैंडल न पहनें। आरामदायम फ्लैट्स और ढीली चप्पलें पहनें। इनसे भी आपके पैरों और एड़ियों को आराम मिलेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेंre बैक me बहुत पेन रहता h
उत्तर: प्रेग्नंसी में कमर दर्द होना नॉर्मल है इसलिए आप परेशान मत हो ।ऐसा प्रेग्नंसी के दौरान बॉडी मे होने वाले हर्मोनल परिवर्तन की वजह से होता है । जिसकी वजह से कमर में दर्द होने लगता है यह हारमोनल परिवर्तन के कारण भी होता है। कमर दर्द को दूर करने के लिए आप निम्न उपाय अपना सकती हैं ज्यादा देर तक एक ही स्थिति में ना बैठे ।संतुलित और पौष्टिक भोजन लीजिए ।ज्यादातर देर तक एक ही अवस्था में ना लेटे थोड़ी थोड़ी देर पर करवट बदलते रहे।कमर दर्द दूर करने के लिए आप कुछ एक्सरसाइज और योगा भी कर सकती हैं।कमर दर्द को दूर करने के लिए आप अपने कमर की मालिश सरसों के तेल से कीजिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें