30 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: hiii muje 7month chal rha hai bs ye bataye k mai kis side letna hai kyo ki agar mai sidha letati hu to muje sas lene me problem hoti hai

1 Answers
सवाल
Answer: left side best hota hai.....apko करवट me hi sona chahiy
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Mem aapne kaha ki vajan badha ne par SAs Lene me dikat hoti he.. Par Mera 4 mahina chal Raha he firbhi Mera vajan 1 kg bhi ny badha to muje kyo a sas Lene ne program ho Raha he..
उत्तर: हेलो प्रेगनेंसी के दौरान सांस का फूलना नार्मल है यह प्रेगनेंसी के दौरान बॉडी में बहुत प्रकार के हार्मोनल चेंजेस होते हैं और इन्ही हार्मोनल चेंजेज के कारण सांस फूलना चक्कर आना उल्टी होना और शरीर में दर्द होना होता है। जब आपको सांस लेने में दिक्कत होती है या आपको घबराहट और बेचैनी होती है। तो आप ठंडा पानी पी कर। खुली जगह में थोड़ी देर के लिए वॉक करें। नारियल पानी पिए। ठंडी ठंडी चीजें खाएं। और आराम करें। सोते समय बस यह ध्यान रखें कि आप सीधे ना सोएं। सीधे सोने पर बच्चा ऊपर की तरफ आ जाता है जिसके कारण सांस लेने में दिक्कत होती है जहां तक हो सके लेफ्ट करवट सोये लेफ्ट करवट में बेबी को ऑक्सीजन सप्लाई अच्छे से होता है। यह पोजीसन माँ और बेबी दोनो के लिये आरामदेह होता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera 9manth chal rha or muje sas lene me problam hoti hai vo bi raat ko
उत्तर: hello प्रेगनेंसी के आखिरी तिमाही में जब बच्चे का डेवलपमेंट पूरी तरीके से हो जाता है तब उसके लिए पेट में जगह कम पड़ने लगती है जिसके कारण सीने पर और पेट के आंतरिक अंगों पर जैसे लंग्स पर स्टमक पर बच्चे का दबाव पड़ता है जिसके कारण सांस लेने में दिक्कत होती है। जिसके कारण सोने में भी परेशानी होती है आपको जब भी अकबकाहट या सांस लेने में दिक्कत हो आप थोड़ी देर के लिए खुली हवा में वॉक करें।और ठंडा पानी पीकर लेफ्ट करवट करके लेट जाएं। आपको आराम मिलेगा सीधे बिल्कुल ना सोएं। सीधे सोने से बेबी ऊपर चढ़ता है जिसके कारण लंग्स पर दबाव पड़ता है और सांस लेने में दिक्कत होती है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: kabhi kabhi sas lene me mujhe problem hoti hai kya karu bataye
उत्तर: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय में वजन बढ़ जाने की वजह है सास फूलने लगती है ऐसा होना नार्मल बात है आप ऐसे में ज्यादा जीने से उतरे या चढ़े नही , एक ही पोजीसन में ज्यादा देर तक न रहे अपना पोजीसन बदल लें , breathing exercise करे मन मे 3गिनती करते हुए सास अंदर ले फिर बाहर छोड़े , ज्यादा भारी भरकम काम से बचे , भारी वजन न उठाएं , प्रेग्नेंसीय में सास फूलने वाली समस्या आपकी डिलीवरी के बाद कम हो जाएगी।
»सभी उत्तरों को पढ़ें