2 months old baby

Question: bar bar बुखार आने ka kya kaarn ho सकता है ?

2 Answers
सवाल
Answer: बुखार का आना मतलब आपकी बॉडी में किसी प्रकार का इंफेक्शन है। इसलिए आप अपने डॉक्टर से जाकर संपर्क कीजिए जिससे वह आपके बुखार के आने के कारण का पता लगाएंगे। अगर आप को तेज बुखार है तो आप अपने माथे पर गीले कपड़े की पट्टी लगा सकती हैं, जिससे कि आप का टेंपरेचर ज्यादा नहीं बढ़ेगा । अगर बहुत ज्यादा तेज बुखार है तो आप अपने बदन पर भी कपड़े की गीली नैपकिन से पूछकर 1 डिग्री तापमान कम कर सकती हैं । Aap अपना खास ध्यान रखिए पानी ज्यादा मात्रा में पिए और तरल पदार्थ लेते रहिए ।अपने खानपान में भी विशेष ध्यान रखें ताकि आप को कमजोरी ना हो..
Answer: डॉक्टर द्वारा बतायी गयी दवाइयाँ देने के साथ ही आप कुछ घरेलु उपाय भी अपना सकते हो नरम कपडे को पानी में भिगोकर ठंड़ी पट्टी बच्चे के सिर पर रख, पट्टी पूरी तरह से सुख जाये तब समझ जाये की पट्टी ने बुखार सोख लिया है और इससे शरीर का तापमान भी कम होता है नरम कपडे या स्पंज का उपयोग कर बच्चे के कुछ भाग जैसे बगल, पैर और हाथो को भी पोछ सकते हो, इससे बच्चे ke शरीर का तापमान भी कम होगा यदि आप फैन चला रहे हो तो ध्यान रहे की इसे धीमी स्पीड पर ही चलाये, ध्यान रहे की आपका बच्चे सीधे पंखे के निचे ना सोया हो. हल्के और मुलायम कपडे ही पहनाये
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: प्रेगनेंसी में बुखार भी हो सकता है kya
उत्तर: hmmmmm pr bohot jada bukhar aana thik nhi agar jada bukhar ho toh aap डॉक्टर k pas jaye
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: बच्चों को बुखार आने पे नेहला सकते है ??
उत्तर: हेलो डियर अगर आपके बेबी को फीवर आ रहा है तो आप उस समय बेबी को ना नहलाये बल्कि गीले कपडे से बेबी की बॉडी को अच्छे से पोछ दे , बेबी को बुखार आने पर ठंडी गीली पट्टी से बेबी के सर पे रख दे , और यही पट्टी अपने बेबी के हाथ ,पैर, पीठ ,चेस्ट को भी पोछ दे इससे आपके बेबी का बुखार कम हो जाएगा पर ध्यान रखे पट्टी ज्यादा ठण्डी ऐसे बर्फ जैसे ना होकर नार्मल ठण्डी हो !
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: बुखार आने पर क्या करे
उत्तर: आपने अपने प्रश्न में यह साफ नहीं किया कि किसे बुखार आ रहा है मैं यहां पर बच्चे के लिए सलाह देती हूं..आप का बेबी अभी बहुत ज्यादा छोटा है इसके लिए डॉक्टर की सलाह लीजिए बेहतर रिजल्ट मिलेगा। अगर आपके बच्चे को बहुत ज्यादा बुखार है तो आप उनके माथे पर गीली कपड़े की पट्टी बदल-बदल कर रखी है जिससे उनके सर में बुखार नहीं चढ़ेगा और बहुत ज्यादा बुखार बढ़ेगा नहीं। बच्चों को गीले कपड़े से पोछ भी सकती है लेकिन यह बहुत ज्यादा अधिक बुखार हो जाने पर ही किया जाता है क्योंकि इससे बच्चे को ठंडी लगेगी और उन्हें discomfort होगा लेकिन अगर जरूरत ना पड़े तो यह आप अवार्ड भी कर सकती हैं। आप अपना दूध हर 2 घंटे में बच्चे को पिलाते रहिए बुखार में उन्हें दूध पीने की भी इच्छा कम रहेगी,लेकिन दूध पिलाने से उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ेगी और वह जल्दी ठीक हो जाएंगे।
»सभी उत्तरों को पढ़ें