22 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: Mere bembi ke aas paas dard ho rha hai

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: meko toilet ke jagah ke aas paas barik barik dane ho raha h aasa kyu
उत्तर: Hello dear. private part में फुंसी होने पर ज्यादातर इलाज की जरूरत नहीं पड़ती . tritment तभी किया जाता है जब inka आकार या infection के कारण अधिक परेशानी ho तकलीफ होती हो| इसके कुछ घरेलू उपाय हैं जिनसे कि आप राहत पा सकते हैं. इसके लिए आपको ऑरेगैनो ऑयल में ऑलिव ऑयल मिलाकर लगाएं. अकेला ऑरेगैनो ऑयल खुजली कर सकता है इसलिए आप उसे डायरेक्ट ना लगाएं .olive oil mix kerke hi lagaye.ऑयल को दिन में एक से दो बaar लगा सकते hai. आप साफ सफाई का बहुत ज्यादा ध्यान रखें. कोई भी खुशबू वाली क्रीम हैya ऐसी कोई भी चीज वहां बिल्कुल भी मत लगाएं. आप डॉक्टर के पास जाएं डॉक्टर से सलाह लें और कॉटन पैंट पहने और ध्यान रखें pentyअच्छी तरीके से सूखी हुई हो .उन्हें बिल्कुल भी साबुन ना हो .प्रेगनेंसी में थोड़ा भी इन्फेक्शन वाली कोई चीज है तो आप घरेलू उपाय थोड़ा ट्राई करें लेकिन कोशिश करें कि आप डॉक्टर के पास जाएं और डॉक्टर की सलाह से उसे ठीक करें. Take care dear. .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere breast mai nipple k aas paas dark brown sa spots se ho rhe hai
उत्तर: जब आप गर्भवती होते हैं तभी से आपके ब्रेस्ट बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करवाने की तैयारी शुरू कर देते हैं निपल्स संवेदनशील और सूजे हुए हो जाते हैं प्रेगनेंसी के शुरूआती सिम्टम्स में से एक है यह शरीर में हार्मोन के बढ़ने की वजह से होता है निप्पल्स के चारों तरफ की त्वचा काली भी थोड़ा गहरा लग सकता है और उस पर छोटे-छोटे उभार दिखाई दे सकते हैं बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग की तरफ अट्रैक्ट करने के लिए यह एक नेचुरल तरीका है इसलिए आपका बच्चा जन्म के बाद से ही अपने आप निपल्स की तरफ अट्रैक्ट हो जाता है निपल्स में दूध बच्चे के जन्म के बाद से ही आना शुरू होता है आपके ब्रेस्ट काफी भारी और भरे हुए दिखाई देंगे
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere biwi ko nine month chal rha hai or pairo me bahut dard ho rha hai doctor ke paas lejaye
उत्तर: कभी-कभी मांसपेशियों और हड्डियों पर पड़ने वाले दबाव के कारण पैरो मे दर्द के साथ सूजन और ऐंठन भी हो सकती है यह दर्द और सुजन बच्चे के जन्म के साथ ही खत्म हो जाता है यह कभी किसी तो कभी किसी पैर में होता है यह परेशानी ज्यादातर प्रेगनेंसी में महिलाओं को होता ही है यह दर्द गर्भाशय में बच्चे के बढ़ने के कारण पड़ने वाले दबाव के कारण होता है दर्द से राहत के लिए आप पैरों और तलवों में हल्के गुनगुने सरसों तेल से मालिश ले सकती हैं नमक कम खायें।पैर के नीचे तकिया लेकर सोऐं। दर्द वाले की स्थिति में आप ज्यादा देर तक चले नहीं ना खड़े हो आपको आराम करना चाहिए और आपको फ्लैट आरामदायक नरम चप्पले पहननी चाहिए
»सभी उत्तरों को पढ़ें