36 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: Mam जो मैंने अब अल्ट्रासाउंड करवाया है उसमें बेबी का वेट जो लिखा हाँ वो ही अक्टुअल वेट होता है क्या

1 Answers
सवाल
Answer: पेट main दर्द होता क्यों कभी कभी
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mujhe 28 july ko 9th month lga hai maine 2 august ko ultrasound krvaya tha usme bby weight 250kg tha ab baby ka weight kitna hoga
उत्तर: आपका बच्चा आने को है .इस मंथ में बच्चे का वजन lagbhag 3 से 4 किलो का होगा और लंबाई 20 इंच तक हो सकती है. उसका वजन और मस्तिष्क अभी भी वृद्धि और विकास करेगा उसकी खोपड़ी के अलावा शरीर की सारी हड्डियां कठोर हो जाती हैं सिर्फ खोपड़ी की हड्डी इसलिए करो नहीं होती क्योंकि जन्म के समय कैनाल से वह आसानी से बाहर निकल सके. प्रेगनेंसी के 9 मंथ में बहुत ही सावधानी से रहना चाहिए . दो चीजों से आप पूरा परहेज करें बिल्कुल भी ना करें .पहला ट्रेवल. दूसरा सेक्स . खाने में आयरन और कैल्शियम की मात्रा अच्छी तरीके से लेते रहे . डॉक्टर के दिए हुए सप्लीमेंट्स के समय pr le. डॉक्टर के बताए हुए टेस्ट समय पर करवाएं. संतुलित पौष्टिक आहार खाती रहे. नींद का पूरा ध्यान दे. पानी खूब पिएं. खाना खाने के बाद आप थोड़ी walk करें . डॉक्टर के बताए अनुसार आप एक्सरसाइज या योगा या थोड़ी वक्त जरूर करें. नाइंथ मंथ बहुत शरीर का वजन बढ़ जाता है बच्चे के वजन के कारण भारीपन बहुत महसूस होता है .इसलिए बहुत देर खड़ी ना rahe . अपने पैरों को आप जब भी लेटे थोड़ा ऊंचा करके लेटे .तकिए का सहारा देकर उसे थोड़ा ऊंचा करें.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: कल मैंने लेवल 2 का अल्ट्रासाउंड करवाया उसमें प्लेसेंटा इंटीरियर लिखा है इसका क्या मतलब है
उत्तर: हेलो प्लेसेंटा एंटीरियर का मतलब प्लेसेंटा का पोजीशन खराब होना या नीचे की ओर होनाविक प्लेसेंटा नीचे प्लेसेंटा होने पर प्रेगनेंसी या डिलीवरी के टाइम अचानक से बिना दर्द के ब्लीडिंग होने लगती है जो कि बच्चे के लिए नुकसानदायक होता है आप अपने प्रेगनेंसी से डिलीवरी तक इंटरकोर्स करने से बचें। और झाड़ू पोछा बिल्कुल ना करें आप अकेले ना रहे हमेशा अपने साथ किसी ना किसी को रखें आप अपने खाने में भरपूर मात्रा में आयरन रिच फ़ूड ले हरे पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक मूली गाजर ले लाल मांस याने मीट खाएं दालें राजमा काबुली चना अनार भी ले भारी सामान ना उठाएं ज्यादा से ज्यादा पानी पिए हेल्दी डाइट लें और आराम करें। सही पोजीशन पर आराम करने से एक-दो हफ्ते में प्लेसेंटा की पोजिशन अपने आप ठीक भी हो जाती है। लेकिन अगर प्लेसेन्टा की पोजीशन सही नहीं होती तो नॉर्मल डिलीवरी नहीं हो पाती। थोड़ी सी भी ब्लीडिंग या दर्द होने पर देर ना करें तुरंत डॉक्टर के पास जाएं डॉक्टर जरुरी समझेगे तो सर्विक्स पर स्टीच् लगाएंगे। ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: hlo doctor ultrasound me jo weight aata hai baby ka usme placenta ka bhi weight add hota h kya
उत्तर: hello सोनोग्राफी के रिपोर्ट में जो फीटल वेट होता है वह सिर्फ बेबी का वेट होता है प्लेसेंटा का अलग वेट दिया रहता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें