26 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: Hello mam mujhe gale mai bhut jalan ho rhi hai mai kya kru

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय में गले मे जलन होना ज्यादा मसालेदार भोजन करने की वजह से आपको गले मे जलन होती है ऐसे में आपको एसिडिटी की वजह से भी गले मे जलन होती है ऐसे में खराब खराब डकार आने पर भी गले मे जलन होती हैं ऐसे में आपको अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए , सादा खाना खाना चाहिए , रात को सोने से पहले 2 से 3 घंटे के बाद खाना खाना चाहिए , इससे आपके पेट मे भी आराम मिलेगा , आपके गले मे जलन है तो आप एक गिलास गर्म पानी मे दो चमच्च शहद डालकर भी पीने से जलन दूर होती है , आप गुनगुने पानी मे नमक डालकर गरागरा करने से भी आराम मिलता , कच्चा लहसुन खाने से गले की खुजली में राहत मिलती हैं , अगर ज्यादा इन सब से ना ठीक हो तो डॉक्टर को दिखा दे!
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: gale me bhut jalan ho rhi h ky kru
उत्तर: हेलो प्रेगनेंसी के दौरान सीने में गले में जलन एक आम समस्या है गले की और सीने की जलन जरूरी नहीं हमारे खान-पान के ही कारण हो। ये जलन हमारे अनियमित दिनचर्या के कारण भी हो सकता है। जैसे समय पर ना सोना पूरी नींद नहीं लेना। जल्दी उठना या देर से उठना। समय पर नहीं खाना। और शरीर में पानी की कमी होने से पेट में सीने में और गले में जलन की प्रॉब्लम आती है। जलन से बचने के लिए आप एक ही बार में ज्यादा खाना ना खाएं थोड़ा थोड़ा करके दिनभर खाती रहें। ज्यादा से ज्यादा पानी पीएं ज्यादा देर तक एक ही पोजीशन पर बैठे ना रहे। खीरा ककड़ी तरबूज खरबूज मुसम्मी का जूस और नारियल पानी पिए अगर आप दूध पीती होंगी तो गर्म दूध ना पिए ठंडे दूध में रूह अफजा डालकर पिए। दूध के जगह छाछ पीने से पेट शांत होता है जलन नहीं होती
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mujhe gale me jalan ho rhi h me kya kru
उत्तर: यह काफी आम है और कोई नुकसान नहीं पहुंचाती,एसिडिटी की वजह से हार्टबर्न भी हो सकता है आप शायद एसिडिटी और जलन से पूरी तरह छुटकारा न पा सकें, मगर आप कुछ उपाय आजमाकर इसे कम करने का प्रयास अवश्य कर सकती हैं, जैसे कि तैलीय या मसालेदार भोजन, चॉकलेट, खट्टे फल, और कॉफी, ये सभी खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं। अगर, आपको असहजता महसूस हो, तो कुछ समय के लिए इन पदार्थों से परहेज रखें सोडायुक्त पेयों की बजाय पानी पीएं, रेडीमेड भोजन और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें, जैसे कि टॉमेटो कैचअप, अचार और चटनी आदि। इनमें बहुत ज्यादा मात्रा में नमक, प्रिजर्वेटिव्स और एडिटिव्स होते हैं। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और हार्टबर्न का सदियों पुराना इलाज माना जाता है। एक कप अदरक की चाय भी आपको राहत पहुंचा सकती है। केला खाने से भी इसमें फायदा होता है। थोड़ी मात्रा में, लेकिन बार-बार भोजन खाती रहें। भोजन को अच्छी तरह चबाकर खाएं। एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच लंबा अंतराल होने से भी एसिडिटी बनने लगती है। भोजन के दौरान बहुत ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ न पीएं। गर्भावस्था के दौरान रोजाना आठ से 12 गिलास पानी पीना जरुरी है, मगर ये एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच की अवधि में ही पीएं। कोशिश करें कि रात को आप सोने से करीब तीन घंटे पहले अपना भोजन कर लें। कई बार लेटने से भी छाती में जलन होने लगती है, क्योंकि गुरुत्व बल के कारण पेट से अम्ल बाहर निकलने लगते हैं। रात को देर से भोजन करने पर, कोशिश करें कि खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही लेटें तकिये लगाकर सोएं, ताकि आपके कंधे आपके पेट से ऊंचे रहें.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Hello mam 3 din se mere gale me bht jalan ho rhi h kya kru
उत्तर: Hello dear,,,,aap22 week ki preganet hai ...गले में जलन भूख से ज्यादा भोजन, अधिक तला हुआ , बासी खाना खाने के कारण भी हो जाती हैं गले मे जलन हो तों ये घरेलू उपचार करे , राहत मिलेगी .. अजवायन को तवे पर डालकर हल्का – हल्का भुन लें. अब भुनी हुई अजवायन को पीस कर इसका बारीक़ चुर्ण बना लें. फिर अजवायन के चुर्ण में थोडा सेंधा नमक डालकर मिला लें. अब एक गिलास गुनगुना पानी लें, और उसके साथ अजवायन के चुर्ण को फांक लें.सीने , गले की जलन में राहत मिलेगी| धनिया और चीनी का शरबत पीने से भी गले की जलन ठीक हो जाती हैl
»सभी उत्तरों को पढ़ें