9 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: Hello dr. Muze dr.ne NT scan karne ke baad blood test karne ke liye kaha hai NIPT test bola hai uski fees 10000/- bola hai kya hai ye Nt scan Ki date 22march bola hai

1 Answers
सवाल
Answer: NT scan like ultrasound होता hai वो ap kara lo or uske bad blood test usme bache k growth malum krte hai bt NIPT karane ki koi jarurt nahi hai agar blood test me sab normal aata hai to . ye test blood test p hi based hota hai agar kuch aata hai reports me to wrna koi jarurt nahi hai iski
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Dr.kya aap muze bata sakte hai ki NT scan kya hota hai or uski fees kitni hoti hai
उत्तर: hello dear *दूसरा स्कैन 11 से 13 सप्ताह के बीच में किया जाता है इसे NT स्कैन कहते हैं यह डाउन सिंड्रोम को चेक करने के लिए किया जाता हैl इस स्कैन में बच्चे में अगर कोई विकृति होती है वह पता की जाती हैl हर जगह का फीस स्ट्रक्चर अलग अलग होता है नॉरमल अगर देखा जाए तो 3000 तक मिनिमम फीस होती हैl
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरे डॉक्टर ने नॉट स्कैन टीआईएफएफए स्कैन के बारे में कुछ नहीं कहां. ये ज़रूरी है टेस्ट करने k लिए .
उत्तर: हेलो, अगर आपका डॉक्टर ने आपको एनटी स्कैन के लिए नहीं कहा है तब भी आप एक बार अपने डॉक्टर के पास में जा करके उससे पूछ लीजिए कि आपको इस टेस्ट की आवश्यकता है कि नहीं है क्योंकि आमतौर पर हर गर्भवती महिला का ये टेस्ट कराया जाता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Dr ne mujhe nt scan aur double marker blood test karne liye kaha hai ye normal hota hai na isme koi ghabarane wali bat nhi na
उत्तर: जी ये बिल्कुल नॉर्मल है घबराने जैसी कोई बात नही है NT scan सभी गर्भवती महिलाओं को न्यूकल ट्रांसलुसेंसी (एनटी) स्कैन करवाना होता है, ताकि उनके शिशुओं में डाउंस सिंड्रोम होने की संभावनाओं को आंका जा सके। यह पहली तिमाही में होने वाले विस्तृत स्कैन का ही एक हिस्सा होता है। न्यूकल ट्रांसलुसेंसी स्कैन शिशु में केवल डाउंस सिंड्रोम होने के खतरे के स्तर को इंगित करता है। यह आपको निश्चित तौर पर नहीं बता सकता कि आपके शिशु में यह असामान्यता है या नहीं। इसे स्क्रीनिंग टेस्ट के रूप में जाना जाता है, यह डायग्नोस्टिक टेस्ट नहीं है, जिसमें आपको सटीक आंकलन मिलता है। double marker test गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के गुणसूत्रों के विकास में कोई असामान्यताएं निर्धारित करने के लिए यह एक प्रकार का रक्त परीक्षण होता है। यह परीक्षण यह पता लगाने में मदद करता है कि क्या बच्चे को डाउन सिंड्रोम या एडवर्ड सिंड्रोम जैसे किसी भी प्रकार के तंत्रिका संबंधी विकारों का सामना करने का जोखिम है। गर्भ में क्रोमोसोमल असामान्यताएं गंभीर विकास संबंधी विकृतियां होती हैं और बच्चे के जन्म के बाद विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती हैं। लेकिन ऐसे दोषों का खतरा बहुत कम है। इस तरह के गुणसूत्र विकारों और डाउन सिंड्रोम (ट्राइसोमी 21), या एडवर्ड सिंड्रोम (ट्राइसोमी 18) जैसी पीड़ा की स्थिति की संभावना होने की संभावना बहुत दुर्लभ है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें