23 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: Hello aaj maine bas se travel kiya 1 ghante ka..mera thoda waite decharge huwa. Koi problem to nahi na, plz ans me..

1 Answers
सवाल
Answer: hello dear. pragnancy me thoda bhot white discharge hona normal h.aap jyada तली hui cheje na khaye.or jyada se jyada paani piye.or ager apko bhot jyada white discharge ho to ap apne dr se consult kre
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: hello aaj maine ganpati bappa aneke kushi mai thoda dance kiya wobhi garbha sirf 1 ya 2 mint plz koi prblem nhi na plz tell me
उत्तर: यदि डांस करने के दौरान आपको पेट में किसी प्रकार की दर्द महसूस होता है तो ऐसे में आपको समस्या हो सकती है लेकिन अगर डांस करने के बाद आपको कुछ भी ऐसा महसूस नहीं हो रहा है जिससे कि आपको परेशानी हो तो आप चिंता बिल्कुल ना करें इसकी वजह से कोई परेशानी नहीं होगा लेकिन आगे से ध्यान रखें आप ऐसा कोई काम ना करें जिसकी वजह से बच्चे को परेशानी हो
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Hello mam...anomaly scan kiya to usme placenta is situated anterior hai....koi problem to nahi na hoga...plz ans
उत्तर: नहीं, यह कोई समस्या नहीं है। अपरा के आगे की ओर स्थित होने (एंटीरियर प्लेसेंटा) से आपको या आपके शिशु को कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। साथ ही, यह स्वत: इस बात को भी प्रभावित नहीं करता कि आपका प्रसव किस तरह का होगा। निषेचन के बाद डिंब नीचे डिंबवाही नलिका (फैलोपियन ट्यूब) में आ जाता है और आपके गर्भाशय में प्रत्यारोपित हो जाता है। गर्भाशय में जहां डिंब प्रत्यारोपित होता है, ठीक उसी जगह आपकी अपरा (प्लेसेंटा) बनने लगती है। इसलिए, अपरा कहां प्रत्यारोपित और विकसित होती है, वह जगह हर महिला में अलग-अलग हो सकती है। 20 सप्ताह की गर्भावस्था में होने वाले अल्ट्रासाउंड स्कैन में दिखाई देगा कि आपकी अपरा कहां स्थित है। अल्ट्रासाउंड डॉक्टर अपरा के स्थान के बारे में अपनी अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट में भी लिखेंगे। अपरा की स्थिति निम्नांकित में से एक हो सकती है: अपरा आगे की तरफ स्थित होना (एंटीरियर प्लेसेंटा), इसमें अपरा गर्भाशय की आगे की दीवार पर स्थित होती है। अपरा का पीछे की तरफ स्थित होना (पोस्टीरियर प्लेसेंटा), इसमें अपरा गर्भाशय की पीछे की दीवार पर स्थित होती है। फंडल स्थिति, जिसमें अपरा गर्भाशय की ऊपरी दीवार पर स्थित होती है। दाएं या बाएं तरफ किनारे की स्थिति (लेफ्ट या राइट लेटरल पॉजिशन), जब अपरा गर्भाशय में दाएं या बाएं तरफ स्थित होती है। अपरा का नीचे की तरफ स्थित होना (प्लेसेंटा प्रिविया), इसमें अपरा ग्रीवा को आधा या पूरी तरह ढके हुए होती है। ध्यान दें, कि ऊपर दिए गए सभी स्थान अपरा के विकसित होने के लिए एकदम सामान्य हैं। इस सबके बावजूद, अपरा अगर आगे की तरफ स्थित हो, तो यह शिशु की हलचल को सीमित कर सकती है। इसका मतलब यह है कि: हो सकता है आपको गर्भ में शिशु की हलचल गर्भावस्था में कुछ देर से महसूस होना शुरु हो जिन महिलाओं की अपरा किसी और स्थिति में है, हो सकता है उनकी तुलना में आपको दूसरी तिमाही में शिशु की बहुत कम हलचल महसूस हो अपरा का आगे कि तरफ स्थित होना केवल उसी स्थिति में कोई समस्या उत्पन्न कर सकता है जब अपरा नीचे की तरफ हो और आपको पूर्वनियोजित या आपातकालीन सीजेरियन आॅपरेशन करवाने की जरुरत हो। ऐसे मामले में, प्रसव के दौरान आपको रक्तस्त्राव होने का गंभीर खतरा होता है। ऐसा नीचे दिए गए कारणों की वजह से होता है: इस बात की संभावना होती है कि शायद आपकी अपरा ठीक उसी जगह स्थित हो, जहां से डॉक्टर को सीजेरियन आॅपरेशन के दौरान शिशु को बाहर निकालने के लिए चीरा लगाना हो। हालांकि, यदि आपकी अपरा नीचे की तरफ हो तो पहले आपका अल्ट्रासाउंड स्कैन होगा। इससे डॉक्टर को आपके गर्भाशय में चीरा लगाने के सबसे बेहतर स्थान के बारे में पता चल सकेगा। ऐसे में डॉक्टर रक्तस्त्राव के खतरे को कम करने के लिए सामान्य से थोड़ी ऊपर की तरफ चीरा लगा सकती हैं। अगर आपका पहले भी सीजेरियन आॅपरेशन हो चुका है, तो इस बात की संभावना होती है कि अपरा शायद पहले वाले चीरे के निशान की जगह पर ही विकसित हो गई हो। बहुत ही दुर्लभ मामलों में, इस वजह से अपरा गर्भाशय की दीवार में और इसके आर-पार विकसित हो सकती है। इस स्थिति को प्लेसेंटा एक्रीटा कहा जाता है। ऐसा होने की संभावना उन महिलाओं में ज्यादा होती है, जिनका पहले सीजेरियन आॅपरेशन हुआ हो। हालांकि, अल्ट्रासाउंड और एमआरआई स्कैन से इसका पता उचित समय पर चल जाता है। इसलिए, डॉक्टर सुरक्षित सीजेरियन आॅपरेशन सुनिश्चित करने के लिए जरुरी योजनाएं पहले से ही बना लेते हैं। यदि दुर्भाग्यवश आपको रक्तस्त्राव की समस्या हो जाए, तो भी घबराएं नहीं। आप पहले से ही आॅपरेशन थियेटर में हैं और सभी जरुरी सुविधाएं आपके पास हैं। इसलिए, किसी भी समस्या का तुरंत उपचार किया जा सकता है। अपनी डॉक्टर से पहले ही पूछ लें कि जरुरत पड़ने पर अस्पताल या नर्सिंग होम में खून की सप्लाई के क्या इंतजाम हैं। अगर, 20 सप्ताह की गर्भावस्था में होने वाले एनॉमली स्कैन में आपकी अपरा के नीचे स्थित होने का पता चलता है, तो आपको 32 से 36 सप्ताह के बीच दोबारा स्कैन कराने के लिए कहा जा सकता है। फिर चाहे आपकी अपरा की स्थिति कुछ भी हो- आगे की तरफ, पीछे की तरफ, दाईं तरफ या बाईं तरफ। सामान्यत:, जैसे-जैसे आपका शिशु बढ़ता है, आपका गर्भाशय भी बढ़ता है और अपरा ऊपर की तरफ चली जाती है। इसलिए, इस बात की काफी संभावना होती है कि नीचे स्थित अपरा गर्भावस्था के दौरान ऊपर की तरफ खिसक सकती है और हो सकता है आपको कोई समस्या ही न हो। हालांकि, यदि गर्भावस्था के अंत में भी आपकी अपरा नीचे की तरफ की स्थित हो, तो इसका पहले से पता लगाया जाएगा और उसी अनुसार उपचार किया जाएगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere baby 1 month ka he usne 48 hours se toilet nahi kiya he koi problem to nahi hoti na
उत्तर: नही डियर तीन दिन ताक कोई प्रोब्लम नही ह phir भी आप उसके पेट पर सरसों के तेल को हल्क गरम करकें मालिश कर दो
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Hellow dr maine kal 6 hours ka travel kiya hai aur maine prega news cheq bhi kiya tha to 2lime show hui thi kit me so travel se mujhe koi problrm nahi hogi na
उत्तर: Travel ke bad gharpe mujhe jab mai washroom gayi to thoda sa na black balack bolood aya hai jyada nahi ekdam normal thodasa but ye kyu aya hai mujhe tension ho rahi mam
»सभी उत्तरों को पढ़ें