37 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: Hello Mam mera 36 week chal rha hai altrasound me pta chla ki baby ke head me blood flow normal se jyada hai isse koi problem hogi ky .. blood flow kitna chahiye

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: hello mam ... mera abhi 26 week chal rhe hai meri sonography report me baby ki kisi vein me blood kam velocity se jaa rha hai .. ye prblm aayi h आप btaiye isse baby me koi problem to nhi hogi ??
उत्तर: इसमें परेशान ना हो डॉक्टर के साथ लगातार संपर्क में बने रहें . जो भी वह टेस्ट बोले समय पर सारे टेस्ट करवाएं. दवाइयां जो डॉक्टर के द्वारा बताई गई है वह समय पहले . अपना पूरा ध्यान रखें . पौष्टिक आहार ले .समय पर सोए .पानी खूब पिएं.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 8 मंथ चल रहा ः ग्रोथ स्कैन करने पर पता चला की वाटर ज्यादा ः कोई प्रॉब्लम ः क्या
उत्तर:  ही डियर,  एमनीओटिक फ्लूइड या बेबी के आसपास का पानी एडुक्विटी मात्रा में होना बहुत ज्यादा जरूरी होता है ज्यादा होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि बेबी की बॉडी में फ्लूड का जम जाना , बेबी का एक्ष्केस में यूरीन पास करना बेबी का सही से एमनीओटिक फ्लूइड एबसोर्ब ना करना मां का डायबिटिक होना बेबी का डाइजेस्टिव ब्लॉकेज होना इसके बहुत सारे कारण हो सकते हैं इससे बच्चे की डिलीवरी प्रीटर्म हो सकती है बच्चे को एनआईसीयू में भी रखना पड़ सकता है इससे एक्सेसिव ब्लीडिंग हो सकती है आपको और अंबिलिकल कॉर्ड से बच्चे को खतरा भी हो सकता है लेकिन घबराइए नहीं इसके कुछ उपाय भी है आप डॉक्टर से लगातार संपर्क में रहे यदि ज्यादा मात्रा में आपका फ्लूड एक्सेस नहीं है तो कुछ उपाय भी हो सकते हैं इसके लिए एयर ट्रीटमेंट किया जाता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो मैम 36 वीक में afi कितना होना चाहिए
उत्तर: डियर, हेलो डियर जैसा कि मैं जानती हूं कि 8 से 18 के बीच afi नार्मल माना जाता है। 20 सप्ताह बाद और 35 सप्ताह तक यह 14सेमी हो सकता है और जैसे-जैसे डिलीवरी का समय पास आने लगता है वैसे वैसे वॉटर लेवल रिड्यूस होना शुरू हो जाता है.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Hello mera 5 month ka last week chal rha hai aur mujhe pta chla hai ki mera playsenta niche hai kya usse normal delvari m koi problam hai
उत्तर: हैलो डियर-इस स्थिति में जादा झुक कर थकने सफर करने और ज्यादा देर खड़े रहकर काम नहीं करना चाहिए ज्यादा थखने वाले एक्सरसाइज और योगा और वाकिंग भी नहीं करनी चाहिए। डॉ इस समय पर सेक्स करने से भी हमेशा मना करते हैं पूरी प्रेगनेंसी में आपको अपना खास ध्यान रखना पड़ता है लो प्लेसेंटा ज्यादातर स्कैन के द्वारा शुरुआती महीनों में ही पता चल जाता है यह प्रेगनेंसी के अंत अंत तक ठीक भी हो जाता है। क्योंकि हमारी यूटरस का साइज़ बढ़ता है और प्लेसेंटा नीचे से साइड की तरफ शिफ्ट हो जाता है। इसमें घबराने की कोई बात नहीं है इसमें आपको हमेशा नॉर्मल डिलीवरी अवॉइड करने की सलाह देते हैं क्यूकी प्लेसेंटा सर्विक्स को कवर करके रखता है और नॉर्मल डिलीवरी के केस में बच्चा पहले निकलना चाहिए उसके बाद प्लेसेंटा लेकिन लो प्लेसेंटा के केस में प्लेसेंटा पहले होता है और बच्चा बाद में इसलिए हमेशा सी सेक्शन करने की सलाह दी जाती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें