31 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: Hello Dr mujhe Dr ne Thyroid test karne lagaya hai meine kiya aur usks result 3.70 unit aya hai toh isme dar ne ki koi baat hsi kya plz rply on urgent basis

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mere bachhe ka head bada bataya hai dr. ne isme koi ghabrane ki baat toh nahi
उत्तर: हेलों आपके बेबी का हेड बड़ा है घबराये नही इसमें घबराने वाली बात नही है आपका बेबी हेल्थी है बच्चे का हेड बड़ा होने पर सी सेक्शन होने के चान्सेस बढ़ जाते है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: dr. mujhe शफ़ेद pani aa rha hai isme koi dar ne wali baat to ni hai
उत्तर: Hello dear.. प्रेगनेंसी में अगर वाइट डिस्चार्ज या सफेद पानी आए तो आप घबराएं नहीं . यह बहुत ही नॉर्मल है. यह शरीर की नेचुरल प्रोसेस है .जिसमें की योनि साफ और इन्फेक्शन फ्री होती है. यह पानी सर्वाइकल म्यूकस होता है जो गंधहीन होता है. is पानी में मृत कोशिकाएं होती हैं. प्रेगनेंसी में महिला का शरीर बहुत सारे बदलावों से गुजरता है जिसमें से एक क्या समस्या होती है जिसे वाइट डिस्चार्ज होना या सफेद पानी का निकलना कहते हैं. अगर यह समस्या बहुत ज्यादा बढ़ जाती है तो आप डॉक्टर से इस बात पर सलाह ले सकते हैं और आप ध्यान रखें कि आपके पेंटिंग गीली या गंदी ना रहे आप सफाई का बहुत ध्यान रखें. अगर आप सफेद पानी या वाइट डिस्चार्ज की समस्या से परेशान हो रही हैं तो थोड़े से कुछ घरेलू उपाय हैं जिन्हें प्रेगनेंसी में ya साधारण समय में भी कर सकती हैं. पानी में अदरक उबालें फिर पानी छानकर दिन भर में दो से तीन बार पिएं. गाजर पालक गोभी और चुकंदर का जूस पिए. मेथी चूर्ण बनाकर रखी पानी के साथ पिए. जीरा मिश्री को बराबर मात्रा में लें उसका पाउडर बनाकर रखें और चावल के माड़ के साथ लें. गुलाब की पत्तियों को सुखा लें उसका पाउडर बनाकर दूध के साथ पिए अपने गुप्तांगों को अच्छी तरह से साफ़ कर लें तथा उसे साफ़ सूती कपड़े से या टिशु पेपर से पोंछ कर योनि को सुखा लें. अच्छा होगा कि डॉक्टर के बताए हुए सोप से अपनी योनि को धोकर सुखालें. ऐसा दिन में कई बार करें.साफ़ सुखा और हलके फुल्के कॉटन के अंडरवियर ही पहनें और उन्हें समय समय पर बदलते रहें.सिल्क या नायलॉन के कपड़ों को बिल्कुल न पहनें और रात को सोते समय हल्के- फुल्के कपडे पहन कर सोयें.पैड्स (Pads) का उपयोग भी कर सकती हैं ताकि आपको कोई परेशानी न हो और आप comfortable महसूस करें.अपने गुप्तांगो पर खुशबूदार Artifical Creams, Sprays, Lotions पाउडर आदि का प्रयोग कभी भी न करें take care.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Dr ne mujhe nt scan aur double marker blood test karne liye kaha hai ye normal hota hai na isme koi ghabarane wali bat nhi na
उत्तर: जी ये बिल्कुल नॉर्मल है घबराने जैसी कोई बात नही है NT scan सभी गर्भवती महिलाओं को न्यूकल ट्रांसलुसेंसी (एनटी) स्कैन करवाना होता है, ताकि उनके शिशुओं में डाउंस सिंड्रोम होने की संभावनाओं को आंका जा सके। यह पहली तिमाही में होने वाले विस्तृत स्कैन का ही एक हिस्सा होता है। न्यूकल ट्रांसलुसेंसी स्कैन शिशु में केवल डाउंस सिंड्रोम होने के खतरे के स्तर को इंगित करता है। यह आपको निश्चित तौर पर नहीं बता सकता कि आपके शिशु में यह असामान्यता है या नहीं। इसे स्क्रीनिंग टेस्ट के रूप में जाना जाता है, यह डायग्नोस्टिक टेस्ट नहीं है, जिसमें आपको सटीक आंकलन मिलता है। double marker test गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के गुणसूत्रों के विकास में कोई असामान्यताएं निर्धारित करने के लिए यह एक प्रकार का रक्त परीक्षण होता है। यह परीक्षण यह पता लगाने में मदद करता है कि क्या बच्चे को डाउन सिंड्रोम या एडवर्ड सिंड्रोम जैसे किसी भी प्रकार के तंत्रिका संबंधी विकारों का सामना करने का जोखिम है। गर्भ में क्रोमोसोमल असामान्यताएं गंभीर विकास संबंधी विकृतियां होती हैं और बच्चे के जन्म के बाद विभिन्न स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती हैं। लेकिन ऐसे दोषों का खतरा बहुत कम है। इस तरह के गुणसूत्र विकारों और डाउन सिंड्रोम (ट्राइसोमी 21), या एडवर्ड सिंड्रोम (ट्राइसोमी 18) जैसी पीड़ा की स्थिति की संभावना होने की संभावना बहुत दुर्लभ है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें