35 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: 9 va महीना शुरू हो gaया है डिलीवरी कब हो सकती है ya पूर्ण महीना ख़त्म hone par ही होती है

2 Answers
सवाल
Answer: आपकी प्रेगनेंसी 39 वीक 1 day या 40 वीक्स होती है. डॉक्टर भी 37 वीक क्या बाद ऑपरेशन karne की सलाह dete है. Tab तक बेबी भी पूरी तरह mature हो जाता है. 37 वीक तक बेबी क्या लंग्स mature हो जते है. आप तब्ब तक वेट कीजिये .
Answer: किसी के 9मंथ स्टार्ट होte ही बेबी ho जाता h किसी k 9 मंथ ada niklne पर b...
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mera 9 va mahina khatam ho gaya hai aaj kab tak delivery ho sakti hai
उत्तर: सामान्यता प्रेगनेंसी 40 विक्स 10 दिन आगे पीछे होती है . डिलीवरी कब होगी ?इस बात पर निर्भर करता है कि आप की प्रेग्नेंसी हेल्दी है कि नहीं .आप इसमें परेशान ना हो डॉक्टर से सलाह करें डॉक्टर की बताई हुई सलाह को माने संतुलित पौष्टिक आहार लें. अच्छा सोचो अच्छा ही होगा . प्रेग्नेंसी में लेबर पेन का एक्सपीरियंस हर महिला के लिये अलग-अलग होता है। इसका कोई निश्चित ढंग नहीं होता है जिससे यह समझ सकें कि यह लेबर का दर्द है। प्रेग्नेंसी के आखिरी हफ्ते में ूट्रस में ऐंठन जैसी लगती हैं जिसे फॉल्स लेबर कहते हैं। फॉल्स लेबर डिलीवरी के कुछ देर पहले ही होता है इसलिए प्रग्नेंट लेडी के लिए यह जानना मुश्किल हो जाता है कि ये फॉल्स लेबर हैं या रीयल लेबर पेन है। लेबर पेन नहीं आने पर भी यदि शिशु अंदर achhe से है तो जबरदस्ती लेबर पेन लाने की बिल्कुल भी कोशिश ना करें .लेबर pain aane ka आप इंतजार करें और अगर ऐसा नहीं हो रहा है तो 42 weeks होने के बाद आप डॉक्टर के पास जरूर जाएं.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mera 9 va mahina bhi pura ho gaya hai delivari kab hogi
उत्तर: hello dear, ज्यादातर डिलीवरी 36 se 40 week के अंदर ही हो जाती है,जरूरी नहीं है कि बच्चे सिर्फ पेन से ही पैदा हो क्योंकि कभी कभी टाइम पूरा हो जाने के बाद बच्चे को ज्यादा देर तक पेट में रहने से भी नुकसान हो सकता है इसलिए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करिएl डॉक्टर आप का चेकअप करेंगे और वह चेकअप करके आपको एग्जैक्ट टाइम बता देंगे किस टाइम आप की डिलीवरी होगी क्योंकि अब कभी भी आप की डिलीवरी हो सकती हैl
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: kya baccha ulta hone se normal delevery ho sakti hai ya koi problam hoti hai
उत्तर: हेलो डियर ऐसा होता है बेबी उलट है मतलब बच्चे का सर ऊपर है और पैर नीचे ऐसी सिचुएशन को ब्रीच पोजिशन कहते है ब्रीच पोजीशन की डिलीवरी में शिशु का सर आखरी में निकला जाता है। इस कारन उसको निकालने में दिक्कतें आती है। ऐसे में कभी कभी अम्बिलिकल कॉर्ड गले में लपट जाती तब डॉक्टर सी सेक्शन से डिलिवरी करवाते है . कभी कभी समय आने पर बच्चे अपनी सही पोजिशन में आ जाते है बच्चे अन्दर मूव करते रहते है आप घबराये ना पॉजिटिव रहें सब अच्छा होगा आप अपना हेल्थी डायट लेती रहें और pani खूब पीये स्ट्रेस ना ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें