15 साल का बच्चा

Question: 7 month baby ka diet chart kaisa hona chahiye

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर 7 महीने के बच्चे को पतली दाल वेजिटेबल खिचड़ी वेजिटेबल दलिया मूंग दाल की खिचड़ी चावल का गाढ़ा पानी मीठा दलिया मैच किया हुआ आलू मैश किया हुआ पनीर मैच किया हुआ केला एप्पल की पूरी सभी फ्रूट की पूरी बनाकर अपने बच्चे को दे सकते हैं इस टाइम पर बच्चे को soup देना भी बहुत ही अच्छा रहता है और dear आप बच्चे को 2 साल तक अपना feed जरूर करवाएं बच्चा हमेशा हेल्दी बना रहता है ऑल द बेस्ट
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: 7 month baby ka diet chart kaisa hona chahiye
उत्तर: हेलो डियर अब आपका बेबी 7 महीने का हो गया है आप उसे सॉलिड फूड खिला सकती है । बेबी को हर 2 घन्टे मे आप कुछ खाने को देती हैं तो बेबी का वजन भी बढ़ेगा और बेबी का विकास भी होगा। आप दिन में 3 बार भोजन दे सकती हैं जिसे अच्छी तरह से पकाया जाना चाहिए। 8-- बजे - बीएम / एफएम सुबह 9 बजे रावा इडली , ओट्स रागी डोसा, सूजी खीर, केला, दलिया, पेन्केक सेब प्यूरी (कोई भी एक) सुबह 11बजे-- बीएम / एफएम 12बजे-- मसला हुआ केला, दही, 1बजे-- Khichdi, आलू और गाजर Khichdi, दही चावल, रागी दलिया, veggie के साथ suji upma 3बजे-- बीएम / एफएम 5बजे--कोई नरम फल, दही, उबले हुए आलू, सेब प्युरी 7बजे-- उत्तम, सूजी खीर, चावल के साथ मूंग दाल, कच्चे केले का दलिया, जौ अनाज, गेहूं अनाज दलिया। अन्य खाद्य पदार्थ जो आप 7 महीने के बेबी को खिला सकती हैं। रागी या बाजरा दलिया, रागी खीर, दाल पानी, चावल का पानी, ऐप्पल और केला, ऐप्पल प्यूरी, चिकू प्यूरी, कद्दू प्यूरी, गाजर प्यूरी, ब्रोकोली प्यूरी, आलू मैश, मीठे आलू प्यूरी, आलू और गाजर के साथ दलिया दलिया सूप, वेगी खिची, एवोकैडो प्यूरी, सब्जियों के सूप, मखाना खीर पपीता प्यूरी, तरबूज, ऐप्पल खीर, सूजी और केले दलिया। आदि।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: baby ka diet chart kaisa hona chahiye
उत्तर: हेलो डिअर आपके बेबी को अब सभी तरह से तत्व का मिलना बहुत जरूरी होता है इस समय आपके बेबी को पोटैशियम मैग्नीशियम , कार्बोहाइट्रेड , प्रोटीन , मिनरल जैसे तत्वों की जरूरत होती है आप अपने बेबी को इस तरह दे deit दे सकते है सुबह:- आप अपने बेबी को सुबह के समय दलिया , खिचड़ी , सूजी का हलवा , बेसन का चीला जैसी चीजो को दे सकती ह दोपहर:- आपको इस समय अपने बेबी को दाल चावल , राजमा चावल , कड़ी चावल , मिक्स सब्जियां के साथ रायता दे सकती हैं शाम :- आप अपने बेबी को सभी तरह के फल केला , संतरा , सेब , अंगूर रोज अलग अलग फल दे सकती है रात :- इस समय आप अपने बेबी को सब्जी रोटी , मिक्स सब्जी रोटी , पनीर , पराठा , घी में लगी चपाती दे सकती हैं!
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Baby do saal ka hai uska diet kaisa hona chahiye
उत्तर: दो साल के बच्चे को आप घर पे बना सभी पौष्टिक खाना दे. अपने बच्चे को प्रोटीन, कैल्शियम और ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त भोजन दें। जैसे पनीर, टोफू, सोयाबीन, दाल, राजमा, चिकन, अंडे, मछली, एवोकैडो, बादाम, अखरोट, केला आदि। यह सब आपके बच्चे के आहार में शामिल करने से उसकी लम्बाई, वजन और मस्तिष्क का अच्छी तरह से विकास होगा। रोज़ाना उसे कम से कम दो गिलास दूध पिलायें , आप उसे केले या एवोकाडो वाले मिल्कशेक भी दे सकती हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 6 मंथ्स बेबी का डाइट प्लान कैसा होना चाहिए
उत्तर: हेलो डियर सुबह के समय आप अपने शिशु को अपना दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु के लिए स्तनपान सबसे अच्छा माना जाता है। इसलिए शिशु के उठते के साथ ही आप उन्हें स्तनपान कराएं। जब आप शिशु को मालिश के लिए ले जा रही हों यानि कि नहाने से पहले तब आप उन्हें दाल का पानी पीने के लिए दे सकती हैं। क्योंकि यह उनके लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। लेकिन, इस बात का ध्यान रहे कि शिशु को इस समय सिर्फ उबला हु दाल का पानी दिया जाना चाहिए, बिना तड़का लगा हुआ। नहाने के बाद आप अपने शिशु को अपना ही दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु स्तनपान करते करते ही गहरी नींद में सो जाते हैं। क्योंकि, मालिश और नहाने के बाद बच्चे का बॉडी रिलैक्स हो जाता है। दोपहर के समय आप अपने शिशु को घर का बना हुआ ताज़ा जूस या सूप दे सकती हैं। क्योंकि, इस समय जूस देने से शिशु में जुकाम का खतरा नहीं रहता है। लेकिन, इस बात का जरूर ध्यान रखें कि आपअपने शिशु को घर का निकला हुआ ही जूस दें। क्योंकि, बाहरी या डिब्बाबंद जूस से संक्रमण होने का खतरा रहता है। शाम के समय आप अपने बच्चे को मूंग दाल की खिचड़ी दे सकती हैं, क्योंकि इससे शिशु का पेट भरा-भरा सा रहेगा, और साथ ही इसे पचने में भी आसानी होगी। रात में सोने से पहले कोशिश करें कि आप अपने बच्चे को सूजी की खीर या दलिया दे सकती हैं। क्योंकि, इससे शिशु का पेट तो भरा रहेगा ही साथ ही रात में वह बार-बार स्तनपान की डिमांड नहीं करेगा और वह आसानी से सोया रहेगा। क्योंकि, अक्सर बच्चे भूख के कारण ही रात में उठते हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें