7 महीने का बच्चा

Question: 6 महिने के बच्ची को क्या खिलायें

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर सुबह के समय आप अपने शिशु को अपना दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु के लिए स्तनपान सबसे अच्छा माना जाता है। इसलिए शिशु के उठते के साथ ही आप उन्हें स्तनपान कराएं। जब आप शिशु को मालिश के लिए ले जा रही हों यानि कि नहाने से पहले तब आप उन्हें दाल का पानी पीने के लिए दे सकती हैं। क्योंकि यह उनके लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। लेकिन, इस बात का ध्यान रहे कि शिशु को इस समय सिर्फ उबला हु दाल का पानी दिया जाना चाहिए, बिना तड़का लगा हुआ। नहाने के बाद आप अपने शिशु को अपना ही दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु स्तनपान करते करते ही गहरी नींद में सो जाते हैं। क्योंकि, मालिश और नहाने के बाद बच्चे का बॉडी रिलैक्स हो जाता है। दोपहर के समय आप अपने शिशु को घर का बना हुआ ताज़ा जूस या सूप दे सकती हैं। क्योंकि, इस समय जूस देने से शिशु में जुकाम का खतरा नहीं रहता है। लेकिन, इस बात का जरूर ध्यान रखें कि आपअपने शिशु को घर का निकला हुआ ही जूस दें। क्योंकि, बाहरी या डिब्बाबंद जूस से संक्रमण होने का खतरा रहता है। शाम के समय आप अपने बच्चे को मूंग दाल की खिचड़ी दे सकती हैं, क्योंकि इससे शिशु का पेट भरा-भरा सा रहेगा, और साथ ही इसे पचने में भी आसानी होगी। रात में सोने से पहले कोशिश करें कि आप अपने बच्चे को सूजी की खीर या दलिया दे सकती हैं। क्योंकि, इससे शिशु का पेट तो भरा रहेगा ही साथ ही रात में वह बार-बार स्तनपान की डिमांड नहीं करेगा और वह आसानी से सोया रहेगा। क्योंकि, अक्सर बच्चे भूख के कारण ही रात में उठते हैं।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: 6 महीने कि बेबी को क्या खिलायें ?
उत्तर: हेलो डिअर, आप अपने बेबी को 6 महीने होने पर ब्रैस्ट मिल्क के अलावा ऊपर का मिल्क और सॉलिड फ़ूड भी खिला सकती है , आप अपने बेबी को ठोस भोजन इस तरह से दें सकती है जैसे ,रागी या बाजरा दलिया, रागी खीर, दाल पानी , चावल का पानी, दाल चावल , ऐप्पल और केला, ऐप्पल प्यूरी, चिकू प्यूरी, कद्दू प्यूरी, गाजर प्यूरी, ब्रोकोली प्यूरी, आलू मैश, मीठे आलू प्यूरी, आलू और गाजर के साथ दलिया दलिया सूप, वगीतब्ले खिचड़ी , एवोकैडो प्यूरी, सूजी की खीर , उपमा , सब्जियां सूप, मखाना खीर , पपीता प्यूरी, तरबूज, ऐप्पल खीर, सूजी और केले, दलिया। आदि।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 2साल के बच्ची को क्या खिलायें जो हेल्थी गोगि
उत्तर: आप अपने बच्चे को निम्न प्रकार के भोजन करा सकते हैं लेकिन याद रखिए बच्चे को हर दिन बदल बदल कर खाना खाते हैं और उसके खाने में ताजे फल पौष्टिक आहार और हरी पत्तेदार सब्जियां जरूर शामिल करें. सोमवार सुबह का नाश्ता - Sandwich और एक गिलास दूध दोपहर का खाना - मुंग की दाल की खिचड़ी   शाम का नाश्ता - एक केला रात का खाना - एक कटोरा दाल और रोटी मंगलवार सुबह का नाश्ता - दलीय और एक गिलास दूध  दोपहर का खाना - मटर-गाजर की सब्जी और रोटी   शाम का नाश्ता - एक आम  रात का खाना - पनीर की सब्जी और रोटी बुधवार सुबह का नाश्ता -  सूजी का हलुवा और दूध  दोपहर का खाना - पांच दालों से बनी खिचड़ी    शाम का नाश्ता -  एक संतरा  रात का खाना - दाल और रोटी  गुरुवार सुबह का नाश्ता -  आलू पराठा और दही   दोपहर का खाना -  veg-पुलाव और रायता    शाम का नाश्ता -   एक सेब  रात का खाना -  पनीर की रोटी और सब्जी  शुक्रवार सुबह का नाश्ता - सूजी का उपमा और ग्लास दूध     दोपहर का खाना - राजमा और चावल      शाम का नाश्ता - एक अमरुद     रात का खाना -  भिंडी की सब्जी और रोटी  शनिवार सुबह का नाश्ता - मुंग दाल का चीला और दही दोपहर का खाना - पुलाव और पनीर की सब्जी  शाम का नाश्ता - नाशपाती      रात का खाना -  आलू मटर की सब्जी और रोटी  रविवार सुबह का नाश्ता -  पोहा और एक गिलास दूध   दोपहर का खाना - पौष्टिक दाल और सब्जी की खिचड़ी       शाम का नाश्ता - अंगूर     रात का खाना - रोटी और मुंग की दाल
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: बच्ची को खाना क्या खिलायें
उत्तर: हेलो डिअर आपके बेबी को अब सभी तरह से तत्व का मिलना बहुत जरूरी होता है इस समय आपके बेबी को पोटैशियम मैग्नीशियम , कार्बोहाइट्रेड , प्रोटीन , मिनरल जैसे तत्वों की जरूरत होती है आप अपने बेबी को इस तरह दे deit दे सकते है सुबह:- आप अपने बेबी को सुबह के समय दलिया , खिचड़ी , सूजी का हलवा , बेसन का चीला जैसी चीजो को दे सकती ह दोपहर:- आपको इस समय अपने बेबी को दाल चावल , राजमा चावल , कड़ी चावल , मिक्स सब्जियां के साथ रायता दे सकती हैं शाम :- आप अपने बेबी को सभी तरह के फल केला , संतरा , सेब , अंगूर रोज अलग अलग फल दे सकती है रात :- इस समय आप अपने बेबी को सब्जी रोटी , मिक्स सब्जी रोटी , पनीर , पराठा , घी में लगी चपाती दे सकती हैं!
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 6 मंथ्स के बेबी को क्या खिलायें
उत्तर: हेलो डियर सुबह के समय आप अपने शिशु को अपना दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु के लिए स्तनपान सबसे अच्छा माना जाता है। इसलिए शिशु के उठते के साथ ही आप उन्हें स्तनपान कराएं। जब आप शिशु को मालिश के लिए ले जा रही हों यानि कि नहाने से पहले तब आप उन्हें दाल का पानी पीने के लिए दे सकती हैं। क्योंकि यह उनके लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। लेकिन, इस बात का ध्यान रहे कि शिशु को इस समय सिर्फ उबला हु दाल का पानी दिया जाना चाहिए, बिना तड़का लगा हुआ। नहाने के बाद आप अपने शिशु को अपना ही दूध पिलाएं, क्योंकि इस समय शिशु स्तनपान करते करते ही गहरी नींद में सो जाते हैं। क्योंकि, मालिश और नहाने के बाद बच्चे का बॉडी रिलैक्स हो जाता है। दोपहर के समय आप अपने शिशु को घर का बना हुआ ताज़ा जूस या सूप दे सकती हैं। क्योंकि, इस समय जूस देने से शिशु में जुकाम का खतरा नहीं रहता है। लेकिन, इस बात का जरूर ध्यान रखें कि आपअपने शिशु को घर का निकला हुआ ही जूस दें। क्योंकि, बाहरी या डिब्बाबंद जूस से संक्रमण होने का खतरा रहता है। शाम के समय आप अपने बच्चे को मूंग दाल की खिचड़ी दे सकती हैं, क्योंकि इससे शिशु का पेट भरा-भरा सा रहेगा, और साथ ही इसे पचने में भी आसानी होगी। रात में सोने से पहले कोशिश करें कि आप अपने बच्चे को सूजी की खीर या दलिया दे सकती हैं। क्योंकि, इससे शिशु का पेट तो भरा रहेगा ही साथ ही रात में वह बार-बार स्तनपान की डिमांड नहीं करेगा और वह आसानी से सोया रहेगा। क्योंकि, अक्सर बच्चे भूख के कारण ही रात में उठते हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें