3 महीने का बच्चा

Question: हेलो मैम मैं बेबी के मालिश के लिए सरसो का तेल use कराती हूँ क्या ये ठीक है

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर बेबी की मालिश के लिए आपको नारियल का तेल इस्तेमाल करना चाहिए बादाम के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए जैतून के तेल का इस्तेमाल करना चाहिए आप सरसों के तेल का इस्तेमाल कर सकती है लेकिन आपको एक बार तेल से मालिश करके देखना चाहिए यदि सरसों के तेल से बेबी को कोई भी परेशानी नहीं हो तो आप मालिश कर सकती है लेकिन मालिश के लिए ज्यादातर नारियल बादाम और जैतून के तेल का इस्तेमाल किया जाता है अपना और बेबी का ख्याल रखना
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: हेलो मैम...क्या मैं अपने बेबी का मालिश सरसो तेल से कर सकती हूँ ....?? घर का बना हुआ पूरे सरसो ऑइल है.....
उत्तर: आप kr सकती है. लेकिन उससे बेबी के कलर पर असर पड़ता है इसकी जगह आप डॉक्टर से कोई अच्छा मसाज ऑइल पूछ ले ज्यादा बेटर है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी 6मंथ का है क्या use मैं सरसो के तेल की मालिश kr सकती हूँ
उत्तर: आपका बेबी 6मंथ का है घी से मालिश करना बच्चो के लिए सबसे अच्छा माना गया है, घी से बच्चो का शरीर मजबूत बनता है या नारियल के तेल से बच्चे की मालिश करनी चाहिए। इस तेल में एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं इससे बच्चे की त्वचा बहुत ही संवेदनशील होती है। बादाम का तेल में विटामिन ई होने के कारण यह बच्चों की मालिश के लिए सबसे अच्छे तेलों में से एक माना गया है। अगर तेल बिल्कुल शुद्ध हो तो बच्चे के लिए और भी फायदेमंद होता है। इसके अलावा बादाम का तेल खरीदने से पहले इस बात का ध्यान ज़रूर रखें कि वह खुशबूदार न हो क्योंकि कई बार खुशबु से बच्चों को एलर्जी हो जाती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: एम बेबी की मालिश के लिए कौन सी ब्रांड का सरसो का ऑइल use kr सकती हूँ
उत्तर: हेलो डियर , घी से मालिश करना बच्चो के लिए सबसे अच्छा माना गया है, घी से बच्चो का शरीर मजबूत बनता है या नारियल के तेल से बच्चे की मालिश करनी चाहिए। इस तेल में एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं इससे बच्चे की त्वचा बहुत ही संवेदनशील होती है। बादाम का तेल में विटामिन ई होने के कारण यह बच्चों की मालिश के लिए सबसे अच्छे तेलों में से एक माना गया है। कैमोमाइल ऑयल भी बच्चों के लिए बहुत ही बढ़िया तेल होता है। इसमें सभी प्रकार के आवश्‍यक तत्‍व होते हैं। इससे मालिश करने से बच्‍चे की त्‍वचा में रैशेस नहीं पड़ते हैं और उसे किसी प्रकार का संक्रमण भी नहीं होता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें