1 महीने का बच्चा

Question: हेलो मेम मेरी एक महीने की बिटिया है। वैसे वो दिन में 4-5 बार पोती करती थी लेकिन 2 दिन से बहुत मुश्किल से 1-2 बार कर रही है , और बिस्तर पे लिटाने पर रो रही है वैसे इतना कभी नही रोती थी , प्लीज़ आप कुछ उपाय बताओ .

1 Answers
सवाल
Answer: बच्चे की लैट्रिन इस बात पर डिपेंड करती है कि वह ब्रेस्ट फीडिंग करता है या फार्मूला मिल्क पीता ह अगर बच्चा ब्रेस्टफीडिंग करहा है तो वह दिन में 5 या उससे ज्यादा बार लेट्रिन कर सकता है ऐसा भी हो सकता है कि उसे दो-तीन दिन तक लैट्रिन ना आए पर इसमें कोई भी चिंता वाली बात नहीं है लेकिन जो बच्चा फार्मूला मिल्क पी रहा है उसे डेली फ्रेश होना बहुत जरूरी है जिससे उसके पेट को आराम मिलेगा और कॉन्स्टिपेशन की शिकायत नहीं होगी बस आपको इतना ध्यान रखना है कि बच्चे के लैट्रिन बिल्कुल मुलायम हो हां बच्चे की लैट्रिन ठोस बिल्कुल नहीं होनी चाहिए बच्चा अगर 7 से 8 लेट्रिन करता है तो तुरंत डॉक्टर से कंसल्ट करेंं
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेटी 2 दिन से रो रो करती है और गला भी बैठ गया है और सोते हुए भी रोती है Dr को भी दिखाया
उत्तर: हेलो डियर छोटे बच्चे अपने मन की बात या अपनी कोई समस्या खुद से तो बता नहीं सकते इसलिए अगर रोक कर बताते हैं. रोने के बहुत से कारण होते हैं जैसे कि उन्हें पेट में गैस बनती है तब या फिर कहीं और दर्द होता है तब भूख लगती है या फिर नींद आती है नींद पूरी नहीं होती है या उन्हें अगर कहीं कंफर्टेबल महसूस नहीं हो रहा है .उन्हें ठंड लग रही है क्या गर्मी लग रही है या उन्हें गोद में आने का मन है. ऐसी बहुत सारी वजह होती है. जिन्हें वह बता नहीं सकते इसलिए रोक कर बताते हैं. जब भी बच्चे शिशु पॉटी करते समय रोते हैं तो हो सकता है उनको या तो गैस बन रही हो जिस वजह से उन्हें पेट में दर्द हो रहा हो और या फिर उन्हें कहीं रशेस जैसी कोई समस्या हो गई है. जिसमें कि वह जलन महसूस कर रहे हैं. thode गर्म पानी में आप hing ubaale और गुनगुना करके बच्चे के नाभि के चारो और लगा दे .गैस से बहुत राहत भी मिलेगी और उसके पाचन क्रिया भी बच्चे की अच्छी बनेगी. रशेस के लिए आप साफ सफाई का बहुत ही ध्यान रखें .बच्चों की स्किन बहुत ही सेंसिटिव और नाजुक होती है बहुत ही पतली होती है इसलिए बच्चों को बिल्कुल भी ज्यादा gile में ना रखें .डायपर अगर आप पहnaती है तो समय-समय पर बदले .बहुत सारी सावधानियां डायपर यूज करने पर हमें करनी चाहिए वह करें. बच्चे नींद के वजह से भी बहुत ज्यादा रोते हैं. उन्हें नींद आती है लेकिन वह सो नहीं पाते और साथ ही साथ अगर उन्हें नींद पूरी नहीं हुई है उस समय भी वह बहुत रोते हैं तो कोशिश करें एकांत वाले माहौल में उन्हें लेकर जाएं और उन्हें अच्छे से sulaye और जब भी बच्चे सोए तो ध्यान रखें ज्यादा हल्ला गुल्ला ऐसा कुछ ना हो जिससे कि उनकी नींद पूरी हो सके. अच्छे जब भूखे होते हैं उस समय भी वह बहुत ज्यादा रोते हैं. कई बार उनकी bhuk किस तरीके से बढ़ जाती है कि वह chidchidane ने लगते हैं रोने लगते हैं .दूध पिलाने पर पीते भी नहीं तो सब कुछ का सबसे सही उपाय यह है कि आप समय-समय पर अपने बच्चे को feed देती रहे. जैसे कि वह अपने इस समस्या से बच सकें. छोटे बच्चे कभी कबार गोदी में आने के लिए भी रोते हैं .हमें समझ नहीं पाते लेकिन बच्चे अपने रोने से यह चीज हमें समझाते हैं .साथ ही साथ आप पर ध्यान रखें जब बच्चे को गोदी ले आप आरामदायक कपड़ों में रहे .जिससे कि आपके बच्चे को कोई भी चीज या कोई कपड़ा ऐसा gade नहीं . उसे कोई परेशानी nahi ho.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे .मासिक .टाइम .पे नही .होती .हेँ .कभी .महिने में .एक बार कभी दो .बार कुछ समझ मे.नही .आ .रही .हेँ .क्या .करना .हें .आप .कुछ .उपाय .बता .दीजये .प्लीज़ .
उत्तर: hello 15 15 दिन में पीरियड आने के लिए कुछ कारण हो सकते हैं अत्यधिक तनाव लेने से हारमोंस लेवल बढ़ जाता है जिसके कारण या तो जल्दी जल्दी पीरियड आने लगता है या बहुत देर से बर्थ कंट्रोल पिल्स का इस्तेमाल करने से भी जल्दी पीरियड आने लगता है ओवरी में सिस्ट होने की वजह से समय से पहले पीरियड आना या पीरियड का रेगुलर नहीं होना पीसीओएस की समस्या होती है यह हार्मोन अल इंबैलेंस के कारण होता है या किसी बीमारी की वजह से लंबे समय तक ली गई दवाइयों के कारण भी समय से पहले पीरियड होने की समस्या आती है इसके लिए आप अपनी दिनचर्या नियमित रखकर हेल्दी डाइट लेकर और शांत रहकर या तनाव कम करके इस समस्या से राहत पा सकती हैं साथ ही साथ आप डॉक्टर से सलाह जरूर लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बच्ची दो दिन से बहुत रो रही हैं वरना ये इतना रोती नही है
उत्तर: हेलो डियर ध्यान दीजिए कई बच्चे को कोई अंदरूनी प्रॉब्लम तो नहीं है कहीं उसका पेट दर्द वगैरह तो नहीं हो रहा है या फिर वह अंदर से कुछ अच्छा फील नहीं कर रही हो यह भी हो सकता है , कभी-कभी बच्चों के साथ ऐसा होता है क्योंकि वह अपनी बात बोल तो पाते नहीं है हो सकता है उसे पेट दर्द हो उसके पेट पर हींग लगा दीजिए शायद बच्चे को रिलीज मिले या हो सकता है उसे गैस बन रही हो तो थोड़ा ध्यान दीजिए बच्चे के साथ क्या प्रॉब्लम हुई है और अगर आपको फिर भी लगे कि बच्चा बहुत ज्यादा रो रहा है और चुप नहीं हो रहा है तो एक बार डॉक्टर को दिखा लीजिए हो सकता है कुछ अंदरूनी प्रॉब्लम है
»सभी उत्तरों को पढ़ें