14 weeks pregnant mother

Question: हेलो डॉक्टर मेरी पत्नी को 3.5 महीने हो गये हैं फिर भी उल्टी और घबराहट होती रहती हैं कृपया aap batye kya kre

1 Answers
सवाल
Answer: आप बिल्कुल चिंता ना करें कुछ लोगों को यह समस्या ज्यादा दिनों तक होती है लेकिन यह घबराने वाली बात नहीं है क्योंकि यह बहुत ही आम समस्या है इस टाइम आप को थोड़ा-थोड़ा करके खाना खाना चाहिए एक साथ पेट भर कर पूरा खाना ना खाएं पूरे दिन में थोड़ा थोड़ा करके कुछ न कुछ खाते रहें खाली पेट ना रहे पानी नींबू और पुदीना मिलाकर पिएं इससे भी आराम मिलता है लेकिन फिर भी उल्टी और घबराहट बहुत ज्यादा दिनों तक नहीं होना चाहिए क्योंकि कभी-कभी बीपी की प्रॉब्लम होने से भी ऐसा होता है इसलिए डॉक्टर से एक बार जरूर कंसल्ट करें
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मुझे बहुत ज्यादा उल्टी होती हैं और acid भी बनता है कृपया बताइये मैं क्या करें
उत्तर: गर्भावस्था में उल्टीप्रोजेस्टेरोन का उच्च स्तर समय से पहले प्रसव को रोकने के लिए गर्भाशय (गर्भ) की मांसपेशियों को शिथिल करता है। हालांकि यह पेट और आंतों को भी शिथिल करता है, जिसके परिणामस्वरूप पेट में अतिरिक्त एसिड एकत्रित हो सकता हैआमतौर पर इसमें उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि विभिन्न घरेलू उपचार जैसे पूरे दिन कुछ न कुछ खाते रहना और अदरक युक्त पेय पदार्थों का सेवन करने से अक्सर मितली को दूर करने में मदद मिलती है।  Home  Pregnancy and Child care - बच्चों की देखभाल गर्भावस्था में उल्टी और जी घबराना – Morning Sickness in Pregnancy 8037 गर्भावस्था में उल्टी और जी घबराना बहुत आम समस्या है। यह Morning Sickness कहलाता है। गर्भावस्था की शुरुआत के महीनो में लगभग 90 % महिलाओं को उल्टी और जी घबराने की परेशानी होती है। ज्यादातर यह हल्का फुल्का ही होता है और इसके लिए किसी विशेष उपचार की जरुरत नहीं होती। इसका कारण इस्ट्रोजन हार्मोन बढ़ना , तनाव , एसिडिटी, गंध ज्यादा आना इत्यादि हो सकते है। यह सभी को अलग तरह से यानि कम या ज्यादा , कम देर तक या अधिक देर तक या किसी को कम दिन के लिए और किसी को अधिक दिनों तक हो सकता है। किसी को सिर्फ जी घबराता है उल्टी नहीं होती और किसी को उल्टी भी होती है।  यह सामान्यतया डेढ़ – दो महीने बाद शुरू होता है। ज्यादातर महिलाओं को यह चौथे महीने के बाद ठीक हो जाता है। हालाँकि कुछ को यह पूरे समय भी हो सकता है। उल्टी होने या जी घबराने के कारण थोड़ी  मुश्किल जरूर होती है पर परिवार के सदस्य और दोस्तों की मदद से इससे आसानी से निपटा जा सकता है। बहुत ज्यादा उल्टी हो तो उपचार की आवश्यकता होती है क्योकि इसकी वजह से शरीर में पानी की कमी होने की संभावना हो सकती है। सामान्यतया उबकाई आने से या थोड़ी उलटी होने से बच्चे को नुकसान नहीं होता है। बच्चे को पोषक तत्व शरीर से मिलते रहते है। बल्कि विशेषज्ञ गर्भावस्था में उल्टी होना या जी घबराने का मतलब गर्भावस्था की प्रक्रिया सही रूप से आगे बढ़ने का संकेत मानते है। सामान्य तौर पर गर्भावस्था के शुरू के महीनो में होने वाली उल्टी या जी मिचलाने के लिए किसी टेस्ट आदि की जरूरत नहीं होती है। परंतु यदि ऐसा बहुत ज्यादा हो या इसके कारण खाना पीना ही बंद हो जाये या तेजी से वजन गिरना शुरू हो जाये तब रक्त या पेशाब की जाँच करवानी पड़ सकती है। क्योकि कभी कभी इसके दूसरे कारण भी हो सकते है। कृपया ध्यान दें : किसी भी लाल रंग से लिखे अक्षर पर क्लिक करके उस शब्द के बारे में विस्तार से जान सकते हैं । गर्भावस्था में उल्टी व जी घबराना होने पर क्या करें – Prenancy me vomit ho to kya kare प्रेगनेंसी  में थोड़ा बहुत जी मिचलाना या उल्टी हो जाना सामान्य होता है। इसके लिए किसी विशेष उपचार की जरूरत नहीं होती। खाने पीने में और रहन सहन में थोड़ा बदलाव लाने से इनमे आराम मिलता है । नीचे लिखी कुछ बातों का ध्यान रखने से मदद मिल सकती है : —  गर्भावस्था में अपनी मर्जी से उल्टी की या जी मिचलाने की अंग्रेजी दवा ना लें । कोई भी अंग्रेजी दवा लेने से पहले डॉक्टर से जरूर पूछ लें। जब तक ज्यादा जरूरत ना हो दवा ना लें। —  सुबह उठते समय झटके से ना उठे। सहारा लेकर धीरे से उठें। दो मिनट बैठे रहें फिर खड़े होना चाहिए। —  एक बार में अधिक भोजन ना लें। थोड़ा थोड़ा खाना चार पाँच में करके खाएं । —  जिस भोजन में कार्बोहाइड्रेट अधिक हो ऐसा भोजन लें। —  खाली पेट बिल्कुल ना रहें। थोड़ा बहुत खाते रहने से इस परेशानी में कमी ही आती है। —  गर्म खाने में गंध आती हो तो थोड़ा ठंडा होने के बाद खाएं। —  खाना बनाते समय उबकाई आती हो तो कुछ समय के लिए खाने की कोई दूसरी व्यवस्था कर लें। या जल्दी सुबह के बजाय थोड़ी देर से खाना बनायें। जिस सब्जी या दाल को बनाने से ज्यादा परेशानी होती हो वो ना बनायें। —  कभी कभी किसी विशेष  परिस्थिति के कारण उबकाई आने लगती है। ऐसी परिस्थिति से बचने की कोशिश करें। जैसे कोई विशेष प्रकार की गंध या किसी प्रकार का तनाव आदि । —  थकान हो जाये इतना काम न करें। थकान होने पर उल्टी और जी घबराना बढ़ सकता है। —  पानी पर्याप्त मात्रा में पियें। पानी कितना पीना चाहिए यह जानने के लिए यहाँ क्लिक करें। —  कोल्ड ड्रिंक, शराब आदि नुकसान करने वाले ठन्डे पेय ना लें। —  गर्भावस्था के समय आयरन की गोलियां शुरू करनी पड़ती है। कभी कभी इन गोलियों के कारण जी मिचलाने लगता है। ऐसे में डॉक्टर से इनको बदल कर दूसरी तरह की दवा देने का अनुरोध कर सकते है। —  प्रेग्नेंट होने पर थोड़ा बहुत खुली और ताजा हवा में पैदल घूमना फिरना अच्छा रहता है। इससे मन भी खुश रहता है। कब्ज परेशान नहीं करती। पेट साफ होने से जी मिचलाना कम होता है। —  कपड़े आराम दायक पहनने चाहिए। —  कब्ज नहीं होने दें। —  उल्टी होने के बाद थोड़ा सा नमक अंगुली में लेकर दांतों पर हल्का सा रगड़ कर कुल्ला कर —  चावल50 ग्राम  धोकर एक गिलास  पानी में भिगो दें। आधा घंटे बाद इसमें  एक चम्मच धनिया पाउडर डाल दें। तीन-चार घंटे बाद पानी को मसल कर छान लें। यह पानी थोड़ा थोड़ा करके चार पाँच बार में पियें । इससे उल्टी होना कम होता है। —  नींबू को काटकर बीज निकाल दें। कटे हुए नींबु पर थोड़ा सेंधा नमक औरकाली मिर्च पाउडर डालकर चूसने से उल्टी और जी मिचलाना कम हो जाता है। —  हरा धनिया का रस निकाल कर एक एक चम्मच लेते रहने से उल्टी होना बंद होता है। —  संतरिऔर अनार खाने से उल्टी में आराम मिलता है। —  दो चम्मच भुने हुए चने का सत्तू पाउडर एक गिलास पानी में घोलकर इसमें स्वाद के लिए चीनी या नमक मिलाकर पीने से उल्टी और जी घबराना कम होता 
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो डॉक्टर मेरा 20 सप्ताह चल रहा है मुझे सिर दर्द भी हो रहा है मछली की भी शिकायत रहती हैं और थकान बहुत होती है
उत्तर: हेलो प्रेगनेंसी के शुरुआती महीनों में ऐसे दर्द होते हैं इसमें घबराने वाली बात नहीं है। शुरुआती 3 महीने थोड़ी कॉम्प्लिकेटेड और परेशानी भरा होता है इस दौरान शरीर के अंदर बहुत प्रकार के हार्मोनल चेंजर्स होते रहते हैं जिसके कारण पेट में पेट के नीचे पेडु में दर्द सीने में दर्द कमर में दर्द सिर दर्द दांतों में दर्द उल्टी लगना एसिडिटी होना कमजोरी लगना और चक्कर आना जैसे कई समस्याएं होती ही है। इस दौरान खाने पीने का खास ध्यान रखना चाहिए कोई भी गरम चीजें नहीं खानी चाहिए। ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए और आराम करना चाहिए। किसी तरह की मेडिसिन डॉक्टर के सलाह के बिना ना लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी प्रेग्नन्सी को 11 हफ्ते हो गये हैं, मुझे छिंके आ रही हैं, कृपया सुझाव दे
उत्तर: अगर आपको बहुत जल्दी जल्दी जुकाम हो जाता है तो आप संक्रमित व्यक्ति से थोड़ा दूरी बना कर रही है। वैसे भी प्रेग्नेंसी में हमारे रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है और नाजुक रहती है जिसके लिए हम जल्दी-जल्दी बीमार पड़ सकते हैं। आप अपना ध्यान रखें साफ एंटीबैक्टीरियल सोप में धुले हुए कपड़े धूप में सूखे हुए कपड़े यूज कीजिए और ठंड से दूर रहिए आप ठंडे पदार्थ भी भोजन में कम लीजिए फिर भी अगर आपको जुकाम हो जाता है तो आप कुछ घरेलू उपाय कर सकती हैं.. आप घबराय नहीं, १)आप जुकाम के लिए तुलसी अदरक का रस, अदरक का रस एवं शहद मिलकर उसका सेवन कर सकती है। २)आप भाप लीजिए उससे आपके सीने में कफ नहीं जामग। ३)आप सरसो के तेल में कुछ कलिया लहसुन की डालकर उसे गर्म करके फिर ठंडा करके गले एवं सीने में मालिश कर सकती है। इस तेल को आप अपने पैरो के तलवो में भी लगा सकती है। ४)आप नारयल तेल में एक टुकड़ा कपूर का डाल के उसे सीने में massage के लिए use कर सकती है। Agar ज्यादा परेशानी हो to डॉक्टर ko jarur दिखाए..
»सभी उत्तरों को पढ़ें