22 महीने का बच्चा

Question: हाइ मेरी बेटी के चिक फैट राहें है ठण्ड के करन माई क्या करु

3 Answers
सवाल
Answer: डियर ..बेबी के चेहरे का आपको ठंड के दिनों में khaas ख्याल रखना होगा. छोटे बच्चों में गाल का फटना ठंड में आम होता है इसलिए आप गालों में हल्की साबुन लगाकर मलमल के कपड़े या कॉटन के कपड़े से हल्के हाथों से गोल घुमाते हुए रब करे और जब भी बेबी को ना लाएं इसी तरह रब करते हुए महिलाएं इससे मेल बेबी के बॉडी पर नहीं बैठेगी ज्यादा तेज और जोर से बेबी के अंगों को ना रगड़े बेबी को नहाने के बाद आप अच्छी क्रीम या तेल का इस्तेमाल करें जिससे बेबी की स्किन सॉफ्ट रहे . ओके
Answer: ठंडी के समय वैसे भी स्किन बहुत दुखी हो जाती है इसके लिए आप बच्चे के शरीर में आप नारियल का तेल या फिर ग्लिसरीन और गुलाब जल को मिलाकर बच्चे के शरीर में हमेशा लगाए रखेंisse skin rukhi नहीं होगी और ठंड से बचने के लिए आप बच्चे को हमेशा गर्म कपड़ा पहना कर रखें जब भी बच्चे को ना लाते हैं उससे पहले आप उनके शरीर को अच्छे से नारियल के तेल से मालिश करें या फिर सरसों के तेल se भी मालिश कर सकते हैं
Answer: आप उसमें कोई भी antiseptik क्रीम लाग सकती हैं . या ऑलिव ऑयल . इससे उनकी स्किन सॉफ्ट रहेगी ।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेटी को खासी है कभी कभी हाइ अती है पर 3 डा 4 बार अती है एक टाइम माई क्या करु नॉर्मल है क्या
उत्तर: छोटे बच्चों को सर्दी खांसी बहुत जल्दी होती है और खांसी ठीक करने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय कर सकती है.. आप ख़ासी ठीक करने के लिए सरसो क तेल में २ से ३काली लह्सुन की भूरी होने तक पका ले फर उसे ठंडा करके बच्चे के सीने में मालिश कीजिए इससे उनको आराम मिलेंगा। आप बच्चे को भाप दे इससे उनके सीने में कफ जमेगी नहीं ।भाप देने के लिए बाथरूम में तब में गर्म पानी निकल कर रख दे जिससे बाथरूम में भाप भर जाये फिर थोड़ी देर अपने बच्चे को लेकर बाथरूम में बैठे।।।इससे उनको बहुत आराम मिलेगा । आप बच्चे का सिर हल्का सा ऊपर रखकर ने दूध pilaiye और सुलाएं जिससे उन्हें खांसी काम आएंगी सिर का पोजीशन थोड़ा सा ऊपर होना चाहिए इसके लिए आप पतला तकिया कभी यूज कर सकती है। अगर आपको आराम नहीं मिलता है तो आप डॉक्टर के पास जाइए और बच्चे का इलाज करवाइए बच्चे की खांसी देखकर सीने को चेक करके आपको बेहतर सलाह देंगे।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 3 साल की है वो बहुत हाइ जिद्दी है माई क्या kru
उत्तर: बच्चो में गुस्सा करने के कई कारण हो सकते है इसके लिए हर माता-पिता को अपने बच्चे के गुस्से का कारण जानने की कोशिश करनी चाहिए. बच्चों के गुस्से को कम करने के कुछ आसान और असरदार उपाय है जिसके द्वारा माता-पिता बच्चों के गुस्से को कम करने में उनकी मदद कर सकते है. 1. खुद शांत रहे और अपने बच्चे को समय दे माता-पिता को अपना पेसेंस लेवल कभी भी कम नहीं करना चाहिए जब भी बच्चों को गुस्सा आये तो खुद गुस्सा करने के बजाय शांत रहने की कोशिश करनी चाहिये ये याद रखे कि दिन भर की थकान के बाद जब आप थके होते है तो छोटी-छोटी बात पर भी बच्चों पर भड़क जाते हैं. बच्चे जो देखते हैं, वही सीखते हैं. इसीलिए बच्चों को समय दे. 2. खुद आक्रामक व्यवहार करने से बचे कभी भी बच्चे से कोई गलती होने पर उसपर हाथ उठाने से बचना चाहिए. अगर आप बच्चों को सुधारने के लिए हिंसक रुख अपनाते हैं तो आप बच्चे को सुधारने की बजाय उन्हें और भी गुस्सेल बना रहे होते है. इसीलिए बच्चों से हमेशा प्यार से पेश आये. 3. बच्चों को गुस्से पर काबू पाना सीखाये जब कभी भी बच्चा गुस्सा करे तब उसे उसके गुस्से पर कण्ट्रोल करना सीखाये. आप अपने व्यवहार के द्वारा बच्चों को सीखाये कि गुस्से पर कैसे काबु पाया जाए. 4. बच्चे को अच्छा व्यवहार करना सीखाये अपने बच्चे को अच्छा व्यवहार करना सीखाये. कौन सी परिस्थिति में कैसा व्यवहार किया जाना चाहिए यह उसे सीखाते रहे. अपने से बड़ों और छोटे से कैसा व्यवहार करना है यह भी बताये. 5. बच्चों को कभी भी अनदेखा न करे कई बार देखा गया है की बच्चे अपनी ओर ध्यान खींचने के लिए भी गुस्सा करने लगते है जब बच्चो को लगता है कि उनकी अनदेखी हो रही है तब वह गुस्सा करके अपनी ओर सबका ध्यान खींचने की कोशिश करते है. अपने बच्चे को गुस्से से बचाने के लिए उन्हें भरपूर समय दे.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी डूड पीने के बाद भूत हाइ पतला ग्रीन पोट्टि कर रही है थोड़ा थोड़ा माई क्या karu
उत्तर: हेलो डियर, बच्चे को आप अपना ही फीड करवाएं, ऊपर का दूध,गाय का दूध या फॉर्मूला मिल्क बिल्कुल भी ना दें क्योंकि ऊपर का दूध देने से बच्चों को कॉन्स्टिपेशन की प्रॉब्लम बहुत ज्यादा होती हैl अगर आपका बच्चा हरी potty कर रहा है तो हो सकता है उसको इंफेक्शन हुआ है इसलिए सबसे पहले तो आप हाइजीन maintain करो उसको अपना ही feed कराएं फॉर्मूला मिल्क बिल्कुल नहीं देना है और जब भी वह feed करें उसे अपने कंधे पर लगाकर कि उसको डकार दिलवाई lगर्म कपड़े पहनाए धूप में जरूर रखेंl बच्चों की पॉटी का कलर हरा है, पीला है, हल्का पीला है तो टेंशन नहीं लेना चाहिए बच्चे अगर एक दिन में छह से सात बार भी पॉटी करते हैं तो नॉर्मल है ya 7 दिन में एक बार करता है तब भी नॉर्मल है क्योंकि इतना छोटा बच्चा मां का दूध पीता है और उसमें इतने पोषक तत्व होते हैं जिसे बच्चे की बॉडी इडली डाइजेस्ट कर लेती हैl बिल्कुल भी टेंशन नहीं लेना चाहिए धीमे-धीमे उसकी potty सही हो जाएगीlअगर उसकी पॉटी का कलर सफेद है काला है या potty के साथ blood aa रहा है या पोटी पानी जेसी आ रही है उस केस में हमें डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए क्योंकि बच्चे के शरीर में उस case में पानी की कमी हो सकती हैl
»सभी उत्तरों को पढ़ें