12 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: हलो mam मेरा तिसारा महीना है हम को टिका किस महीने में लगवानी cahiye

1 Answers
सवाल
Answer: अगर आपने अभी तक कोई टिका नही लगवाया है तो अब आप लगवा सकती है आपका दो टिका लगना hai
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा तिसारा महीना चल रहा है ऑर मुझे सांस लेने में परेशानी होती है खाना खायें तो काम कर ले तो परेशानी होती है हम क्या करे
उत्तर: हेल्लो डीयर प्रेग्नन्सी मैं सांस लेने की परेशानी बहुत कॉमन है। ये ७५% प्रेगनेंट वीमेन को होती है जो नार्मल है। सांस फुल्ने के कारण प्रेगनेंसी के दौरन बॉडी मैं बहुत से परिवर्तन होते हैं उनमे से एक है हारमोनल परिवर्तन। प्रेगनेंसी टाइम मे प्रोजेस्टोजेन एक हर्मोने है इसका लेवल जब हाई होने लगता है तोह रेस्पिरेटरी सिस्टम मै बहत प्रेशर आता है जिस्सकी वजह से प्रेगनेंसी मैं सांस लेने मै प्रॉब्लम होती है। प्रेग्नन्सी की शुरुवात मै आपका ब्लड ५०,% बढ़ जाता है जिस्सकी वजह से हार्ट को पंप करने मे बहुत लोड पड़ता है जिस्सकी वजह से सांस लेने मै दिक्कत होती है। बेबी के वेट की वजह से आपके लुंग्स पर प्रेशर पडता है जिस्सकी वजह से आपको सांस लेने मै प्रॉब्लम होती है। बेबी की वजह से ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ जाती है जिस्सकी वजह से साँस लेने मै प्रॉब्लम होती है। सांस न फूले उसके लिए ये टिप्स फॉलो करे १)जब भी सांस लेने मै प्रॉब्लम हो तब २०मिन्स तक डीप ब्रीथिंग करे। २)ज़्यादा भरी या हैवी लोड वाला कोई काम न करे। ३)अगर आप कहीं बैठे या लेटे हैं तो आपकी सांस फूल रही है तो आप पोजीशन चेंज करे। ४)डेली थोड़ी एक्सरसाइज करें जैसे की वॉकिंग,दीप ब्रीथिंग आदि।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेम मेरा बाबु किस महीने में आएगा मेरा 3 महीना अभी चल रह है
उत्तर: हेलो डियर,एक स्वस्थ पेट में से 4 ईसवी की मानी जाती है अभी आपका लगभग बारवा भी चल रहा है और ज्यादातर डिलीवरी 36 वीक के बाद और 40 वीक के अंदर होती हैl इसलिए अभी आप की डिलीवरी को टाइम में तब तक आप हेल्दी डाइट लिखो पानी पिए और भरपूर नींद लेl
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: बेबी को टीके किस किस महीने में लगते है
उत्तर: शिशुओं को जन्म के समय दिए जाने वाले टीके 1 1/2 माह में शिशु टीकाकरण शिशुओं को 1 1/2 माह की आयु में निम्न टीकों की प्रथम खुराक ज़रूर दिलाएं। – बी.‍सी.जी. का टीका – हेपेटाईटिस B का प्रथम टीका – डी.पी.टी.का प्रथम टीका – पोलियो की प्रथम खुराक – हेमोफिलस इन्फ्लुएंजा बी (HIB) की प्रथम ख़ुराक़ – रोटावायरस की प्रथम खुराक (मुँह में लिया जाने वाला डायरिया वैक्सीन) – न्यूमोकोकल कन्जुगेटेड वैक्सीन पहली ख़ुराक़ 2 1/2 माह में शिशु वैक्सीनेशन शिशुओं को 2 1/2 माह की आयु में निम्न टीकों की द्वतीय ख़ुराक़ अवश्य दिलाएं। – डी.पी.टी. का द्वितीय टीका – हेपेटाईटिस B का द्वितीय टीका – पोलियो की द्वितीय ख़ुराक़ – हेमोफिलस इन्फ्लुएंजा बी (HIB) की द्वितीय खुराक – रोटावायरस की द्वितीय खुराक (मुँह में लिया जाने वाला डायरिया वैक्सीन) – न्यूमोकोकल कन्जुगेटेड वैक्सीन द्वितीय ख़ुराक़ 3 1/2 माह में शिशु टीकाकरण शिशुओं को 3 1/2 माह की आयु में निम्न टीकों की तृतीय ख़ुराक़ देना बिलकुल भी न भूलें। – डी.पी.टी. का तृतीय टीका – हेपेटाईटिस B का तृतीय टीका – पोलियो की तृतीय खुराक – हेमोफिलस इन्फ्लुएंजा बी (HIB) की तृतीय ख़ुराक़ – रोटावायरस की तृतीय खुराक (मुँह में लिया जाने वाला डायरिया वैक्सीन) – न्यूमोकोकल कन्जुगेटेड वैक्सीन तृतीय ख़ुराक़ 12वें माह में शिशु वैक्सीनेशन बच्चे को 10 से12 महीने की उम्र में ये टीके अवश्य लगवाएं – टाइफ़ाइड कन्जुगेटेड वैक्सीन (TCV 1) पहली ख़ुराक़ – हेपेटाइटिस A पहली ख़ुराक़ – थोड़े समय बाद हेपेटाइटिस A की दूसरी खुराक (लेकिन बच्चें के एक साल के होने से पहले, दोनों ख़ुराक़ दे देनी चाहिए) 1 वर्ष की आयु में वैक्सीनेशन 1 वर्ष की उम्र में ये टीके अवश्य लगवाएं कॉलरा – जैपनीज़ इन्सेफेलाइटिस की पहली ख़ुराक़ – जैपनीज़ इन्सेफेलाइटिस की दूसरी ख़ुराक़ – जैपनीज़ इन्सेफेलाइटिस की तीसरी ख़ुराक़ – वेरिसेला की पहली खुराक 15-18वें महीने में टीकाकरण 15-18 महीने की उम्र में ये टीके अवश्य दिलवाएं – एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) पहली ख़ुराक़ – वेरिसेला की दूसरी खुराक – D.P.T. का पहला बूस्टर डोज़ – हेमोफिलस इन्फ्लुएंजा बी (HIB) का बूस्टर डोज़ – न्यूमोकोकल कन्जुगेटेड वैक्सीन का बूस्टर डोज़ – मुँह में लिया जाने वाला पोलियो वैक्सीन का चौथा ख़ुराक़ – टाइफाइड कन्जुगेटेड वैक्सीन (TCV 2) की दूसरी ख़ुराक़ 5वें वर्ष में टीकाकरण 5 वर्ष की उम्र में ये टीके अवश्य दिलवाएं – एम एम आर (मम्प्स, खसरा, रूबेला) की दूसरी ख़ुराक़ – D.P.T. का दूसरा बूस्टर डोज़ – मुँह में लिया जाने वाला पोलियो वैक्सीन की पाँचवी ख़ुराक़ 10वें वर्ष में वैक्सीनेशन 10 वर्ष की उम्र में ये टीके ज़रूर लगवाएं – टीडी (टेटनस, डिप्थीरिया) इस तालिका का मुख्य उद्देश्य इन बीमारियों को पूरी तरह से ख़तम कर बच्चों को रोगमुक्त बनाना हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें