गर्भावस्था की तैयारी

Question: सेक्स की पोजिशन क्या होनी चाहिए क्या ये करने के बाद साफ़ न्ही karna chaiye

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डिअर मिशनरी सेक्स पोजीशन में होते हुए कूल्हों के नीचे एक तकिया रखकर सेक्स किया जाए तो प्रेगनेंसी के बहुत चान्सेस रहते हैं और करने के बाद उठे नहीं १५-२० मिस तक लेते रहे
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: प्रेग्नेन्सी मे सेक्स पोजिशन कौन्सी होनी चाहिए
उत्तर: प्रेग्नेन्सी के दौरान आपकी पोजिशन ऐसी हो जीस्से पेट पर किसी प्रकार का दबाव ना पड़ें । और शुरू के 3 से 4 महीने आपको सेक्स नहीं करना चाहिए इससे प्रेगनेंसी पर बुरा प्रभाव पड़ता है कभी-कभी ब्लीडिंग भी हो जाती है अतः 4 महीने बाद जब आपकी प्रेगनेंसी नॉर्मल और हेल्दी हो तब आप अपनी डॉक्टर की सलाह लेकर सेक्स कर सकती हैं यदि किसी भी प्रकार की समस्या हो तो सेक्स से परहेज करें ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: सोने की पोजिशन कैसी होनी चाहिए
उत्तर: हेलो आप 16 वीक प्रेगनेट है .प्रेगनेंसी में आप जैसे सोने में कम्फर्टेबल हो वैसे सोएं लेकिन कमर के बल पूरा जोर लगाकर सोना सही नहीं है। गर्भवती महिला को किसी एक ओर हल्‍की करवट से सोना चाहिए। इससे उसे किसी प्रकार की कोई समस्‍या नहीं hogi.हमारा हार्ट लेफ्ट साइड होता है ऐसे में बाएं ओर करवट लेकर सोना सबसे ज्‍यादा सही रहता है। इससे पेट पर भी ज्‍यादा जोर नहीं पड़ता, हार्ट बीट भी सही रहती है और ब्‍लड़प्रेशर भी कंट्रोल रहता है प्रेग्नेंसी के शुरुआती दिनों में अगर आप पीठ के बल सोती हैं तो चिंता की कोई बात नहीं है लेकिन जैसे-जैसे महीने बीतते जाते हैं वैसे-वैसे शरीर का अगला हिस्सा भारी होने लग जाता है. गर्भ बढ़ने के साथ ही पीठ पर भी बल पड़ने लगता है. जब गर्भवती महिला पीठ के बल लेटती है तो गर्भाशय का पूरा भार शरीर के दूसरे अंगों पर पड़ता है. इससे ब्लड सर्कुलेशन भी बिगड़ सकता है.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: सेक्स करने के कितने टाइम बाद स्य्म्तोम शो होनी लागतें हैं प्रेग्नेन्सी के
उत्तर: हेलो ओव्यूलेशन लिए पर सेक्स करने से नेक्स्ट मंथ पीरियड मिस हो जाता है पीरियड मिस होने के 10 दिन के बाद प्रेगनेंसी टेस्ट किट से टेस्ट करने पर प्रेगनेंसी कंफर्म होती है लेकिन उसके 1 हफ्ते पहले ही प्रेगनेंसी सिम्टम्स आने लगते हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: प्रेगनेंसी में स्लीपिंग पोजिशन क्या होनी चाहिए।
उत्तर: हेलो डियर प्रेगनेंसी में कभी भी पेट के बल या फिर पीठ के बल नहीं सोना चाहिए क्योंकि ऐसे सोने से बच्चे को दबाव पड़ता है और उसे तकलीफ हो सकती है इसलिए प्रेगनेंसी में पूरे 9 महीने तक लेफ्ट करवट लेकर ही सोना चाहिए या फिर करवट बदलकर भी सोया जा सकता है यदि एक करवट में नींद नहीं आती है तो आप करवट बदल बदल कर सो सकते हैं और सोने के समय में पैरों पर तकिया लगाकर सोए इससे नींद अच्छी आएगी
»सभी उत्तरों को पढ़ें