37 weeks pregnant mother

Question: 35 वीक प्रेगनेट गले मे जलन हो रहि

सवाल
Answer: हेलों गर्भावस्था में एसिडिटी और उसकी वजह से सीने में जलन होना भी गर्भवती महिलाओं की आम शिकायत है। इसमें सीने के बीच में जलन होती है।इस बढ़ती दिक्कत को आप तब महसूस करेंगी, जब आपका बढ़ा हुआ गर्भाशय आपके पेट में होने वाली इस समस्या को आपके गले तक पहुंचा देता है। आप पूरे दिन में तीनों समय थोड़ी थोड़ी मात्रा में भोजन करें।हो सके तो सोने या झपकी लेने से कुछ घंटे पहले कुछ भी न खाएं ।खाना खाने के बाद कुछ समय तक सीधे बैठें, जब आप सोएं, कुछ तकियों से सिर को सहारा दें ऐसा करने से पाचन क्रिया में मदद मिलती है।पूरे दिन में, पानी और तरल पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करें।खाने के बाद चूइंगम चबाने की कोशिश करें। सीने में जलन की शिकायत होने पर ढाले कपड़े पहनें। टाइट कपड़े बिलकुल न पहनें। खाने के बीच में तरल पदार्थ न पिएं।धनिया और चीनी का शरबत मिलाकर पिएं इससे पेट में ठंडक पहुंचेगी जिससे गले का जलन दूर होगा |ice ko हल्का-हल्का चूसने से भी गले में जो जलन है वह कम होने लगती है क्योंकि शरीर में डिहाइड्रेशन व एसिडिटी इसके प्रभाव से कम होने लगता है |एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और हार्टबर्न me aapko rahat milegi. एसिडिटी और सीने में जलन होने पर चॉकलेट,चीनी,चाय, कॉफी, सोडा आदि, कैफीन ,प्याज,टमाटर,खट्टे फल ka सेवन नहीं करना चाहिएlआयरन सप्प्लिमेंट्स से भी सीने में जलन होती है। ऐसी स्थिति में डॉक्टर से परामर्श लें।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मुझे गले मे बहुत जलन हों रहि हें प्लीज़ बतय मैं क्या करू
उत्तर: गले में जलन को ठीक करने के लिए या गले के इन्फेक्शन को ठीक करने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय कर सकते हैं पहला एक कप पानी उबालें शहद और नींबू इसमें मिलाएं इस को ठंडा होने दें और फिर le दूसरा vapour ले सकती हैं इससे आपके गले को काफी आराम मिलेगा तीसरा गरारे करें गर्म पानी में नमक मिलाकर गरारे करें चौथा ग्रीन टी लें इसमें शहद मिलाकर पानी के साथ बॉयल करें इसे पीने से भी काफी आराम मिलेगा पांचवा भाग अदरक का पानी, एक cup पानी पानी उबालें और इसमें अदरक डालें 5 मिनट तक बॉईल करें इसमें mint भी मिला सकते हैं आपको काफी आराम पहुंचाएगा गले में
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी पेट मे जलन होती हे मे 25 वीक प्रेगनेट
उत्तर: महिलाओं को पहली बार गर्भावस्था के दौरान एसिडिटीे छाती में जलन होती है यह काफी आम और कोई नुकसान नहीं पहुंचाती मगर इससे काफी असहजता और दर्द हो सकता है गर्भावस्था के दौरान सीने में जलन और एसिडिटी शरीर में हार्मोनल और शारीरिक बदलाव के कारण होती है आप कुछ उपाय आजमा कर इसे कम करने का प्रयास अवश्य कर सकती हैं जैसे कि तेलिया मसालेदार भोजन ,चॉकलेट खट्टे फल, कॉफी यह सभी खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं इस समय आप इन्हें अवॉइड करें पानी पिएं टोमेटो केचप डिब्बाबंद चीजें ना खाएं इनमें प्रिजर्वेटिव्स यूज़ करते हैं एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और का सदियों पुराना इलाज माना जाता है अदरक की चाय भी आपको राहत पहुंचा सकती है कुछ लोगों का मानना है कि केला खाने से भी इसमें फायदा होता है फिर भी अगर आपको आराम नहीं होता है तो आप अपने डॉक्टर से भी परामर्श ले सकते हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: गले मे जलन है
उत्तर: यह काफी आम है और कोई नुकसान नहीं पहुंचाती,एसिडिटी की वजह से हार्टबर्न भी हो सकता है आप शायद एसिडिटी और जलन से पूरी तरह छुटकारा न पा सकें, मगर आप कुछ उपाय आजमाकर इसे कम करने का प्रयास अवश्य कर सकती हैं, जैसे कि तैलीय या मसालेदार भोजन, चॉकलेट, खट्टे फल, और कॉफी, ये सभी खाद्य पदार्थ एसिडिटी को बढ़ाने के लिए जाने जाते हैं। अगर, आपको असहजता महसूस हो, तो कुछ समय के लिए इन पदार्थों से परहेज रखें सोडायुक्त पेयों की बजाय पानी पीएं, रेडीमेड भोजन और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें, जैसे कि टॉमेटो कैचअप, अचार और चटनी आदि। इनमें बहुत ज्यादा मात्रा में नमक, प्रिजर्वेटिव्स और एडिटिव्स होते हैं। एक गिलास ठंडा दूध या एक कटोरी दही का सेवन एसिडिटी और हार्टबर्न का सदियों पुराना इलाज माना जाता है। एक कप अदरक की चाय भी आपको राहत पहुंचा सकती है। केला खाने से भी इसमें फायदा होता है। थोड़ी मात्रा में, लेकिन बार-बार भोजन खाती रहें। भोजन को अच्छी तरह चबाकर खाएं। एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच लंबा अंतराल होने से भी एसिडिटी बनने लगती है। भोजन के दौरान बहुत ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ न पीएं। गर्भावस्था के दौरान रोजाना आठ से 12 गिलास पानी पीना जरुरी है, मगर ये एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच की अवधि में ही पीएं। कोशिश करें कि रात को आप सोने से करीब तीन घंटे पहले अपना भोजन कर लें। कई बार लेटने से भी छाती में जलन होने लगती है, क्योंकि गुरुत्व बल के कारण पेट से अम्ल बाहर निकलने लगते हैं। रात को देर से भोजन करने पर, कोशिश करें कि खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही लेटें तकिये लगाकर सोएं, ताकि आपके कंधे आपके पेट से ऊंचे रहें.
»सभी उत्तरों को पढ़ें