36 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: वाटर ब्रेक कोनसे वीक मे होता hai

1 Answers
सवाल
Answer: प्रेग्नेंसी के आखिरी मंथ में कभी भी आपको वाटर लीक हो सकता है यह आप को नोटिस करते रहना पड़ेगा.. लास्ट लास्ट के month मे आप कुछ बातों का खास ध्यान रखिए। बच्चे का मूवमेंट दिन में कम से कम 15baar होना जरुरी हैं कभी कभी बच्चे सोते रहते हैं. यदि आपको मूवमेंट मेहसुस नहीं हो रही है तो आप ठंडा पानी पीजिए अपने पेट me हाथ फेरते रहिये... अगर कुछ मूव मेंट ना दिखे तो डॉ को जरूर दिखाए. लास्ट लास्ट प्रेग्नेन्सी में बच्चे का सर पेल्विक एरिया मि फिक्स होने लगता है जिससे बेबी का मुवमेंट थोड़ा कम या अलग लग सकता है. आप किसी भि प्रकार का वेजिनल लीकेज को नोटिस करते रहिए । जिससे आपको पता चलेगा अगर आपका वाटर लीक होगा तब और किसी भी प्रकार का डिस्चार्ज होगा तब आपको डॉ से संपर्क करना है।।।सफेद डिस्चार्ज नार्मल है उसमें घबराने की बात नहीं है।।। अगर किसी भी प्रकार का तेज़ पेट में दर्द होता है तो अपने डॉ से मिलिये।।यह लेबर पेन भी हो सकता है। आप अपने बेबी के लिए एक हॉस्पिटल बैग तैयार कर लीजिये जिसमे कुछ जरुरी सामान रखना होगा जेसे बच्चे के २...३ सेट धुले कपडे और धुप में अच्छे से सुखाय हुये।आपके २...३ सेट फीडिंग वाले गाउन दो तीन पैर अंडर गारमेंट... जरूरी हॉस्पिटल के डॉक्युमेंट्स... diaper... बेबी वाइप... एक टॉवल और बेबी को ढाक्ने और cuddle करने के लिए ब्लंकेत... दूध पिलाने के लिए एक स्टॉल... कोई भी एंटीसेप्टिक लिक्विड सोप और हैंड सैनिटाइजर.. पैड... एक छोटा मिरर और comb। आप अच्छा सन्तुलित खाना लीजिये।।खुश रहिये और अपने बेबी का वेट कीजिये।... प्रेगनेंसी की पूरी अवधि ४०वीक्स मानी जाती है। बहुत से बच्चे ३७वीक से ४० वीक के अंदर पैदा हो जाते है। वीक्स आपके पीरियड के पहले दिन से काउंट किय जाते है। जरूरी नहीं है कि बच्चे सिर्फ पेन से ही पैदा होते हैं कभी-कभी अवधि पूरी हो जाने के बाद बच्चों को ज्यादा देर तक पेट में रहने से नुकसान भी हो सकता है इसलिए आप डॉक्टर के निर्देशों का पालन करते रहिए।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: वाटर ब्रेक कौनसे सप्ताह मे होता है
उत्तर: हेलो डियर पेट में बच्चा जिस पानी में रहता है उसे एमनीओटिक वाटर कहते हैं. जो एक पतली थैली से घिरा रहता है. इसके अंदर बच्चा सुरक्षित रहता है. जब यह पतली झिल्ली टूटती है तो उसे हम वाटर ब्रेक या पानी गिरना कहते हैं .इससे पहले प्रेग्नेंट लेडीज को पेट में संकुचन याने कि कंट्रक्शन बनाते हैं. यह कंट्रक्शन aane से जल्दी टूटती है और वाटर ब्रेक हो जाता है .वाटर ब्रेक last स्टेप होता है डिलीवरी का. वाटर ब्रेक होने के 24 घंटे के अंदर में डिलीवरी की जा सकती है. pehle se hum nahi kah sakte ki water break kab hoga.. last month 40 week ke aas paas me hona normal hai..
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: वाटर ब्रेक क्या होता है
उत्तर: हेलो गर्भावस्था के दौरान आपका शिशु एक तरल पदार्थ से भरी थैली से घिरा रहता है जिसे amniotic sac कहते हैं। आपके प्रसव के शुरुवात में संकुचन के साथ-साथ आपके amniotic sac की झिल्ली टूट जाएगी। इसके द्वारा आपके शरीर से एक रंगहीन स्त्राव निकलेगा जिसे वाटर ब्रेक कहते हैं वाटर ब्रेक होने में एक हल्क सी आवाज़ आती है और वैजिना से पानी गिरने लगता है जिसको आप होल्ड नही कर सकते ये वाटर ब्रेक कभी भी कही भी हों सकता है और आपको हल्क हल्क पिरियड जैस दर्द होना शुरू हों जाता है जो रूक रूक के होता है वाटर ब्रेक होने पर लेडी को बॉडी से कुछ गिरने जैसा फील होता है जहाँ किसी तरल पदार्थ की धारा के गिरने जैसा महसूस होता है।गर्भवती महिला को कहा जाता है की अगर उनका वाटर ब्रेक हो गया है तो उन्हें शिशु का जन्म 24 घंटे के अंदर ही कर देना चाहिए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: वाटर ब्रेक क्या होता है
उत्तर: हेलो गर्भावस्था के दौरान आपका शिशु एक तरल पदार्थ से भरी थैली से घिरा रहता है जिसे amniotic sac कहते हैं। आपके प्रसव के शुरुवात में संकुचन के साथ-साथ आपके amniotic sac की झिल्ली टूट जाएगी। इसके द्वारा आपके शरीर से एक रंगहीन स्त्राव निकलेगा जिसे वाटर ब्रेक कहते हैं वाटर ब्रेक होने में एक हल्क सी आवाज़ आती है और vagina से पानी गिरने लगता है जिसको आप होल्ड नही कर सकते ये वाटर ब्रेक कभी भी कही भी हों सकता है और आपको हल्क हल्क पिरियड जैस दर्द होना शुरू हों jata है जो रूक रूक के होता है water break hone पर lady को body से कुछ गिरने जैसा feel hota है जहाँ किसी तरल पदार्थ की धारा के गिरने जैसा महसूस होता है।गर्भवती महिला को कहा जाता है की अगर unka water break ho gaya है तो उन्हें शिशु का जन्म 24 घंटे के अंदर ही कर देना चाहिए। 
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: जब हमें वाटर ब्रेक होता है तो हमें कैसे पता चलता है की हमें वाटर ब्रेक हुआ है .
उत्तर: जब वाटर ब्रेक होता है तो यह ऑटोमेटिक यूरिन की तरह अपने आप निकल जाता है जिसमें आपका कंट्रोल नहीं होताl उसके बाद आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाने की जरूरत होती है क्योंकि पानी निकल जाने के बाद बच्चे को गर्भ में परेशानी होती है इसलिए आप water break होने के बाद तुरंत हॉस्पिटल जाए
»सभी उत्तरों को पढ़ें