36 weeks pregnant mother

Question: रात से mere pet me और kamar me rah rah kr drd hora hy dard se kmjori lg rhi per bhi kaap rhee kya jaldi hi mujhe लेबर pein chalu ho jayega

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: mere sir me 2 din se bhot dard ho raha hai ..... aur mere pet me bhi dard hora ..... muze 4 month chalu hai....
उत्तर: प्रेगनेंसी के दौरान सिर दर्द की कोई भी मेडिसिन आप अपनी मर्जी से ना लें यह आपके प्रेगनेंसी पर बुरा प्रभाव डाल सकती है डॉक्टर से कंसल्ट करने के बाद ही आप मेडिसिन ले या फिर आप कुछ घरेलू उपाय हैं जिन्हें अपना सकती हैं जो कि बहुत ही लाभदायक रहेंगे आपके लिए यदि आपको सिर में दर्द है तो आप अपने सिर की गुनगुने तेल से मालिश करवाएं इससे आपको आराम मिलेगा शुद्ध हवा में बैठकर सांस लेने वाले व्यायाम हल्के-फुल्के कर सकती हैं जैसे सांस को धीरे-धीरे ऊपर की ओर खींचे और फिर धीरे-धीरे सांस को छोड़ें ऐसा 5 बार करें इससे आपको शुद्ध ऑक्सीजन मिलेगी आपके मस्तिष्क को और सिर दर्द भी कम होगा.प्रेगनेंसी के दौरान पेट दर्द होना एक आम समस्या होती है पेट में दर्द कभी-कभी गैस की समस्या से या फिर लिगामेंट संकुचन के कारण भी होता है । यदि आपके पेट में दर्द लिगामेंट संकुचन के कारण हो रहा है तो ऐसे में आपको रेस्ट करना चाहिए और सहजता के साथ उठना बैठना चाहिए सीढ़ियां ज्यादा चढ़ना उतरना नहीं चाहिए और अचानक से जमीन पर भी ना बैठे हैं । और यदि पेट दर्द गैस की समस्या की वजह से हो रहा है तो आपको फाइबर युक्त भोज्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए और अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए 10 से 12 गिलास पानी प्रतिदिन पीना चाहिए और नारियल पानी का सेवन प्रतिदिन करें इससे आपका शरीर हाइड्रेटेड बना रहेगा और आपको किसी प्रकार के इन्फेक्शन नहीं होंगे खासकर यूरिन इन्फेक्शन नहीं होगा ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: kal रात se mere pet or pith kamar me dard hai or baby bhi bahut movenent ker raha
उत्तर: हेलो डियर आप बिल्कुल परेशान ना हो .प्रेगनेंसी में जब हमारा शरीर बहुत सारी हारमोंस बदलावों से गुजरता है साथी बहुत सारे परिवर्तन हमारे शरीर के अंदर और बाहर होते हैं उसमें हमें कहीं ना कहीं ऐसा दर्द होते हैं .आप परेशान ना हो. अपना ध्यान रखें. कुछ घरेलू उपाय से आपको आराम मिल सकता है. आप सबसे पहले गर्म पानी की सिकाई कर सकती हैं. पेन रिलीफ वाले कोई से अपॉइंटमेंट लगा सकती हैं . अपने पैरों को थोड़ा ऊंचा रखकर सोए साथ ही जब भी आप उठे और बैठे आप ध्यान रखें कि आप सही तरीके से उठे और बैठे . आप आरामदायक जगह पर लेटे हैं. सही तरीके से लेट है. बैठने के समय भी अपना naram जगह पर बैठे. आप अपने खाने में पौष्टिक आहार लेने .पानी खूब पिएं . डॉक्टर की dihui सप्लीमेंट समय पर ले . दर्द होने पर आप कोई भी एक्सरसाइज या कोई भी ज्यादा काम ना करें . आप बहुत देर तक खड़ी भी ना रहे. अपना पूरा ध्यान रखें बच्चे की मूवमेंट कम ज्यादा हो सकते हैं .ऐसी कोई फिक्स्ड नंबर नहीं है या ऐसा कोई मेज़रमेंट नहीं है जिससे क्या पता कर सकें कि बच्चे की मूवमेंट इतने ही होने चाहिए .ye जरूर होता है कि कभी कम होते हैं कभी ज्यादा होते हैं. कभी-कभी हम दिनभर इतने व्यस्त होते हैं कि हमें बच्चे की मूवमेंट पता नहीं चलते. बच्चे की ग्रोथ हमेशा हो रही है इसलिए हर week बच्चे की मूवमेंट अलग अलग होंगे. आपकी अगर सेकंड सेमेस्टर में जो मोमेंट्स है वह लास्ट के ट्रांसफर में बिलकुल भी पैसे नहीं रहेंगे क्योंकि बच्चे को बहुत ही कम जगह हो जाती है पेट में इस वजह से उसके movment में कुछ अलग तरीके के होते हैं. बच्चे पेट में सो भी जाते हैं .जिस वजह से उस बीच आपको कोई मूवमेंट पता नहीं चलता. अगर ऐसा कभी आपको लग रहा है कि बच्चे की मूवमेंट पूरे पूरे दिन आपको महसूस नहीं हुए हैं .आप या तो सीधी बैठ जाए या फिर आप बाई करवट लेकर लेटे और पेट पर अपने धीमे धीमे हल्के हाथों से हाथ fere. साथ ही आप ठंडा पानी पिए या फिर आप थोड़ा गुनगुना पानी पी लें .इससे कि आप को 5 से 10 मिनट में बच्चे की मूवमेंट पता चल जाएंगे. अगर ऐसा हुआ है कि 2 से 3 दिन हो रहे हैं आपको बच्चे की मूवमेंट बिल्कुल भी पता नहीं चल रहे हैं तो ऐसे संदेह होने पर आप डॉक्टर के पास जाएं .डॉक्टर बच्चे की हार्ट बीट सुनकर आपको बता देंगे कि बच्चा ठीक है.
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mere pet me chubjan ho rhi h pet drd h mere or kamar me bhi kya krun plz rply chala nhi ja rha mjhse
उत्तर: प्रेगनेंसी में कभी कभी पेट में और आपकी छाती में या स्तन में दर्द होना आम बात है| प्रेग्नेंसी के दौरान आपका गर्भाशय बड़ा हो रहा है जिसकी वजह से डायाफ्राम पर भी प्रेशर आता है| डायाफ्राम पेट और छाती को अलग करने वाली एक पतली सी झिल्ली है| तो इस वजह से आपको ब्रेस्ट में थोड़ा पेन हो सकता है| प्रेग्नेंसी के दरमियान ब्रेस्ट का कद भी थोड़ा बढ़ता है और इस प्रक्रिया के दरमियान भी थोड़ा दर्द होता है| प्रेगनेंसी में पेट और छाती या ब्रेस्ट में दर्द का दूसरा कारण इनडाइजेशन या गैस की समस्या हो सकता है| प्रेगनेंसी में कई चीजों खाने से इनडाइजेशन हो सकता है और जिससे गैस की समस्या से कारण पेट या तो फिर छाती में दर्द या जलन होता है| ऐसा ना हो इसके लिए आप खाने में ध्यान रखें| ज्यादा ऑइली य स्पाइसी फूड ना खाएं| और जब भी खाना खाए थोड़ा-थोड़ा करके ज्यादा बार खाए एक बार बहुत सारा खाना ना खाए| प्रेगनेंसी में हो रहे बॉडी changes और hormonal changes की वजह से हमें वीकनेस महसूस होती है और कभी इसके कारन कमर में भी दर्द होता है. आप पौष्टिक आहार लेते रहे. पानी और प्रवाही ज्यादा ले. एक साथ बहोत सारा खाना न खाये पर थोड़ा थोड़ा करके हर दो घंटे में कुछ खाये. लम्बे समय तक खड़े होक काम ना करे बिच बिच में थोड़ा आराम ले. और सोते वक़्त अपनी जांघ के निचे तकिया रखकर सोये तो कमर दर्द में रहत होगी.
»सभी उत्तरों को पढ़ें