कुछ दिनों का बच्चा

Question: मे रे बे टी 10 दी न की हें उ स कें श री र मे रेशेस हो रह हैं .

1 Answers
सवाल
Answer: आपके बच्चे को रशेस के कई कारण होसकते है। सबसे पहले आप कारण का पता लगाइये और फिर उसका निवारण किजिए। १)बच्चे के कपड़ो को साफ़ एंटीबैक्टीरियल लिक्विड डाल के धो के धूप में सुखा के रखिये। २)आप बच्चे को कुछ दिन कोई भी आयल या क्रीम ना लगाएं। ३)बच्चे को गर्मी से बचाकर राखिय। छोटे बच्चों की स्किन बहुत ज्यादा नाजुक होती है इसलिए आप उसमें अभी किसी भी प्रकार का कोई भी क्रीम और ऑइल यूज़ नहीं कीजिए.. हो सकता है किसी kide ने काटा हो.. बिल्कुल घबराइए नहीं बेबी बहुत ज्यादा छोटा है इसलिए उनके ऊपर कोई भी घरेलू उपाय कोशिश नहीं कीजिए कि बच्चे की स्किन ज्यादा नाजुक होती है.. घर पर रखी सामग्री अगर उन्हें लगाने से इनका इन्फेक्शन aur inflamation और बढ़ भी सकता है इसलिए बेहतर यही होगा कि आप डॉक्टर के पास जाइए उन्हें अपने बच्चे को दिखाइए और उन से सलाह लेनी चाहिए क्योंकि बच्चे को देखकर डॉक्टर ऑइंटमेंट क्रीम बताएंगे। आप एक बार डॉक्टर की सलाह लीजिये ताकि वह बच्चे की घमौरियां देखकर उनके कारण का पता लगा सके और उस हिसाब से आपको सलाह देंगे..
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: में री बे टी 6 मा ह की हे उ से क्या आ हा र दूँ
उत्तर: पहला दिन – सबसे पहले एक बड़े चम्मच से शुरुआत करें (सबसे पहले भोजन के रूप में सेब की प्यूरि दी जा सकती है (यह मीठी भी होती है ), इसे पतला करने के लिए माँ का दूध या डिब्बे का दूध मिलाया जा सकता है ) दूसरा दिन – सेब की प्यूरि के दो बड़े चम्मच दिन में दो बार दिये जा सकते हैं। तीसरा दिन— अब सेब की प्यूरि की मात्रा को बढ़ाकर तीन बड़े चम्मच दिन में दो बार की जा सकती है । चौथा दिन – आज से इसके साथ कुछ ठोस सब्जी जैसे गाजर के साथ भी शुरू की जा सकती है। इसके साथ में या तो गाजर का जूस या गाजर प्यूरी भी एक बड़े चम्मच के रूप में दिन में एक बार दी जा सकती है। पाँचवाँ दिन- गाजर के जूस /प्यूरी की मात्रा को बढ़ा कर दो बड़े चम्मच, दिन में दो बार की जा सकती है। छठा दिन- आज से दिन में दो बार गाजर के जूस या प्यूरी को तीन बड़े चम्मच दिये जा सकते हैं। सातवाँ दिन- अब सुबह सेब की प्यूरी और शाम को गाजर की प्यूरी दी जा सकती है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मे री बे टी ब हु त क म ज़ो र हें औ र वों 3 सा ल कि ह औ र उ स का व ज न 8 कि लों h
उत्तर: हेलो डियर , आपके बेबी का 3 साल के हिसाब से अगर वेट 8 किलो है तो बेबी का वेट कम है , आप अपने बेबी का वेट बढ़ाने के लिए या स्वस्थ करना चाहती है तो आप दूध में केले को मैश करके खिला सकती है इससे बेबी बहुत जल्दी हेल्दी होता है आप बेबी को खाने में बहुत तरह की चीज दे सकती है जैसे :- सूबह में उठने के बाद दूध के साथ बादाम का पेस्ट डालकर बेबी को पीला सकती है । सूबह के नास्ते में आप बेबी को फार्मूला दूध , मसूद , डोसा , khichdi, दाल का पानी दूध के साथ रोटी , बॉयल्ड एप्पल , फल , फ्रेश जूस , रागी दूध के साथ दे सकती हैं । दोफार के खाने में - दाल रोटि, दाल चावल ,उपमा , सूजी का हलवा , खिचड़ी दे सकती है । शाम में बेबी को मिल्क या ड्राई फ्रूट्स का हलवा बना के दे । रात में आप बेबी को सूजी का खीर , दाल रोटी या दलीया दे सकती हैं और दूध दे आप बेबी का सारा खाना घी में ही बनाये
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मे री बे टी4 म हि ने की हे वो खा ने के त्तु र त पो टी क र दे टी हे ओ र उ स की पो टी हरि हो टी हे मे की या करू
उत्तर: हेलो डियर छोटी बेबी का दिन में 5 से 6 बा hari पॉटी करना बिल्कुल नॉर्मल है यदि बेबी फीड करने के बाद पॉटी कर देता है तो इसमें भी घबराने वाली कोई बात नहीं है क्योंकि यह बिल्कुल सामान्य बात है यदि आपका बेबी अच्छी तरह से दूध पी रहा है फार्मूला मिल्क है या फिर मां का दूध अच्छे से पी रहा है और बेबी को पांच छह बार पोटी हो रही है दिन में तो बिल्कुल भी घबराए नहीं आपका बेबी स्वस्थ है यदि आपका बेबी दिन में 8 से 10 बार पतली पानी की तरह पोटी करता है तो आप बेबी को डॉक्टर के पास ले जाएं और किसी भी तरह का घरेलू नुस्खा आजमाएं डॉक्टर के सलाह से ही मेडिसिन दें
»सभी उत्तरों को पढ़ें