16 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरे बॉडी में सुजन आ रही है . क्यू ? और कैसे कम होगी ?

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर ,प्रेगनेंसी में हाथ पैरों का शरीर में सूजन आना बहुत ही नॉर्मल है सूजन हो सोडियम कीअधिकता लेना ,अधिक देर तक खड़े होकर काम करना,अत्यधिक काम कर लेना हो सकता है kuch upya se सूजन में कमी कर सकती हैं लंबे समय तक एक ही पोजीशन में खड़े हैं बैठे ना रहे बीच-बीच में पोजीशन चेंज करते रहे|पापड़ ,अचार ,नमकीन , कोल्ड ड्रिंक ,आदि का सेवन कम करते हैं|पहनने वाले वस्त्र को अत्यधिक टाइट ना पहने ,इनरवियर व चप्पलें सॉफ्ट वह हल्की पहने |8 से 10 गिलास पानी का सेवन जरूर करें |हल्की वॉक एक्सरसाइज जरूर करें|
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मुझे 5 मंथ चल रहा है मेरे पैरों में सुजन है ये सुजन क्यू है और ये कम कैसे होगी
उत्तर: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय के दौरान हार्मोन परिवर्तन की वजह से बॉडी में बहुत से changes होने लगती है जिसकी वजह से बॉडी में सूजन और पैरो में सूजन आ जाती है प्रेजेंसीय के दौरान बॉडी में रक्त प्रवाह बहुत ज्यादा बढ़ जाता है जिसकी वजह से भी पैरो में सूजन आ जाती है जो चलने में दर्द होता है ऐसे में आप कही भी ज्यादा देर तक खड़े न रहे जिसकी वजह से सूजन और बढ़ जाता है , पैरो की गर्म पानी से सिकाई करे ऐसा करने से पैरो की सूजन कम हो जाती है , ऐसे में आप खूब पानी पीते रहे , थोड़ा थोड़ा चले फिर आराम कर ले , पैरो की एक्सरसाइज करें , एक ही मुद्रा में ज्यादा देर तक नA सोये
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरे पैरों में सुजन आ रही है मेडम सुजन कम करने का इलाज बताओ
उत्तर: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय के दौरान हार्मोन परिवर्तन की वजह से बॉडी में बहुत से changes होने लगती है जिसकी वजह से बॉडी में सूजन और पैरो में सूजन आ जाती है और पैर दर्द भी करने लगता है , प्रेग्नेंसीय के दौरान बॉडी में रक्त प्रवाह बहुत ज्यादा बढ़ जाता है जिसकी वजह से भी पैरो में सूजन आ जाती है जो चलने में दर्द होता है ऐसे में आप कही भी ज्यादा देर तक खड़े न रहे जिसकी वजह से सूजन और बढ़ जाता है , पैरो की गर्म पानी से सिकाई करे ऐसा करने से पैरो की सूजन कम हो जाती है , ऐसे में आप खूब पानी पीते रहे , थोड़ा थोड़ा चले फिर आराम कर ले , पैरो की एक्सरसाइज करें , एक ही मुद्रा में ज्यादा देर तक नA सोये!
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरे पूरी बॉडी मैं सुजन आ रही है ऐसा क्यों ??
उत्तर: हेलो डियर प्रेग्नेन्सी में हार्मोस चेंज होने के कारण पूरे शरीर में सूजन आ जाती है प्रेगनेंसी के दौरान body पर आने वाली सूजन ko एडिमा कहते है यह वाटर रिटेंशन के कारण या bp बढ़ने के कारण ऐसा होता है जैसे जैसे बेबी का वजन बढ़ता है तों उसका दबाव शरीर के निचले अंगों पर ज्यादा पडता है जिसके कारण निचले अंगों को ब्लड ले जाने वाली नशे दबती है नसों के दबने की वजह से पूरी बॉडी पर सूजन आ जाती है प्रेगनेंसी में होना नॉर्मल है बस आपको अपना थोड़ा ज्यादा ध्यान रखने की जरूरत हो कभी भी आप पैर लटकाकर ना बैठे सोते समय हमेशा लेफ्ट करवट सोये लेफ्ट करवट सोने से आपकी nichali नसों पर दबाव कम पड़ता है और ब्लड सरकुलेशन अच्छे से होता है aap ज्यादा से ज्यादा पानी पिये खाने में नमक का प्रयोग कम करें gungune सरसों के तेल से बॉडी पर मसाज कराएं |
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरे पयरोमे सुजन आ रही है मेरा बी.पी. नॉर्मल है तो क्यू सुजन आ रही है क्या करें कम होने के लिये ??
उत्तर: Hello डियर , प्रेग्नेन्सी में पैरो पे सुजन आना आम बात है क्युकी बेबी का और आपका वेट पैरो पर भारी पडता है आपको जब भी संभव हो, अपने पैरों को थोड़ी ऊंची सतह पर रखकर बैठें। दफ्तर में अपनी डेस्क के नीचे स्टूल या बक्सा रखकर पैरों को उसपर रखें। बीच-बीच में उठें और थोड़ा चले-फिरें।घर में जब भी संभव हो अपने बाईं तरफ करवट लेकर लेटें क्योंकि इससे वीना कावा नस पर दबाव नहीं पड़ता।सुबह बिस्तर से निकलने से पहले सीवन या जोड़ रहित जुराबें पहन लें, ताकि खून को आपके टखनों के पास इक्ट्ठा होने काात करें। वे आपको कम्प्रेशन स्टॉकिंग पहनने के बारे में सलाह दे सकती हैं।खूब सारा पानी पीएं। हैरत की बात यह है कि आप जितना ज्यादा पानी पीएंगी, उतना ही कम पानी आपका शरीर प्रतिधारित करेगा।नियमित व्यायाम करें, खासकर कि चलना-फिरना, तैराकी, प्रसवपूर्व योग या एक्सरसाइज बाइक का इस्तेमाल। पौष्टिक व संतुलित आहार खाएं और ज्यादा नमक वाले खाद्य पदार्थ जैसे कि जैतून, नमकीन, चिप्स और नमक वाले मेवे न खाएं। ये पानी प्रतिधारण को बढ़ा सकते हैं।अगर आपकी त्वचा में ज्यादा कसाव और दर्द न लगे, तो किसी से अपने टखनों और पैरों की मालिश करवाएं। मालिश के दौरान नीचे से ऊपर की तरफ घुटनों तक जाएं। इससे पैरों से तरल पदार्थ को हटाने में मदद मिल सकेगी।कोशिश करें कि आप खुश और निश्चिंत रहें! हालांकि, आपके सूजे हुए टखने शायद आपको असहज महसूस करा सकते हैं, मगर इडिमा एक अस्थाई स्थिति है, जो कि शिशु के जन्म के बाद दूर हो जाती है। ख्याल रखें डियर
»सभी उत्तरों को पढ़ें