5 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरी लास्ट पिरियड डेट 30th jan हैं . मेरी साइकल 30 डेज की हैं . मेरे शादी के 10 साल कम्प्लिट हुई हैं . हम लास्ट फीजिकल हुएं थे 15th feb को . अभी मुझे उल्ती ,गैस सिरदर्द ,पेट में बबल्स उठने जेइसा महसूस , ब्रेस्ट में दर्द ,खट्टा खाने की तिब्र इछा , sex organ se श्वेत पानी जैसे पदार्थ का निरगमन हो रहें हैं . मेंं ऍक्चुअली माँ बन ना चाहती हूँ . प्रेग्नेन्सी टेस्ट से इतने पहले रिजल्ट शो नही करती हैं एज़ पार डॉक्टर . तो क्या इसको में प्रि प्रेग्नेन्सी सीम्प्टम समझ सकती हूँ ? Kindly मुझे ये भी बतयिएगा की में प्रेग्नेन्सी टेस्ट कब करु .

1 Answers
सवाल
Answer: Aap hospital me jakr BHCG test krke jldi प्रेग्नन्सी टेस्ट kr skti hai
  • avatar
    P K601 days ago

    BHCG Test se pregncy hai kya nhi ye pata kr skti hai

समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: हेलो मैंम , हम दोनों पति-पत्नी जॉब करते हैं और बैंगलोर में अकेले रहते है।मेरी डेढ़ साल की बच्ची है, उसको डे केयर में रखते हैं। हमारा पूरा परिवार यू पी में रहता है। बच्ची की हालत देखकर मेरे पति कहते हैं कि बच्ची को यू पी में माँ के पास भेज देते हैं। मेरा दिल बैठा जा रहा है। मैं अपनी बेटी को नहीं भेजना चाहती और मैं ये भी चाहती हूँ कि उसकी परवरिश भी अच्छे से हो। प्लीज मुझे सुझाव दीजिये, मैं क्या करूँ ?
उत्तर: हेलो डियर, आप बिल्कुल भी परेशान ना हो आपके जैसी ही समस्या मेरे साथ भी थी। मेरी बेटी 2 साल की हो गई और तब मैंने जॉब ज्वाइन की, हम दोनों ही पति पत्नी ऑफिस जाते थे और बच्ची को डे केयर में रखने लगे। पहले हमने डे केअर अपने घर के पास ही चुना था। शुरुआत में बच्ची बहुत ज्यादा रोती थी और कई बार मुझे ऑफिस से घर आना पड़ता था। इससे मेरी ऑफिस की और घर की दोनों ही लाइफ बहुत ज्यादा डिस्टर्ब चल रही थी, फिर हम पति पत्नी ने यह डिसाइड किया कि बच्ची का डेकेयर मैं अपने ऑफिस के बगल में ही या आसपास चुनु ताकि मेरी बच्ची जब भी रोए तो मैं उसके पास जाकर उसके साथ कुछ समय बिता सकूं या लंच में जा सकूं। फिर हमने अपने ऑफिस के पास ही बल्कि ऑफिस के बगल वाले डे केयर को चुना और वहां उसका एडमिशन करा दिया। उसे एडजस्ट करने में 2 महीने लगे लेकिन मैं हर समय उसके साथ रहती थी। ऑफिस के समय में भी 10 मिनट- 15 मिनट का समय निकालकर मैं उससे मिलने जाती थी, लंच में उसके साथ ही रहती थी और उसके साथ ही लंच करती थी। इस तरह से धीरे-धीरे मेरी बच्ची उस माहौल में एडजस्ट हो गई और आज यह स्थिति है कि वह उस डेकेयर से घर वापस ही नहीं आना चाहती है। तो बच्चे का एडमिशन डे केअर में कराने से पहले एक बार उस डे केयर के बारे में भी अच्छे से पता कर ले। वहां लोग कैसे हैं, बच्चे की केयर कैसे करते हैं और आप सीसीटीवी का भी एक्सेस उनसे ले लें। आप इस तरह से अपनी बच्ची को अपने पास ही रख सकती हैं और आपकी ऑफिस की लाइफ भी डिस्टर्ब नहीं होगी । इसके साथ-साथ एक काम आप और भी कर सकती हैं कि आप अपने ससुराल या मायके से किसी को यानी अपनी मां को या सास को बुलाकर थोड़े दिन यहां रखें और एक मेड परमानेंट घर पर लगा दे जो आपके बच्चे और घर की देखभाल करें और इससे कोई घर में बड़ा रहेगा तो वह मेड आपके बच्चे की और अच्छे से देखभाल करेगी लेकिन याद रखें बच्ची को कभी भी अकेले मेड के भरोसे ना छोड़ें। मेरे भाई ने शुरू से ऐसा ही कर रखा है और उसके बच्चे की परवरिश बहुत अच्छे से हो रही है, अब वह 6 साल का हो गया है। मेरी मां या मेरी भाभी की मां कोई ना कोई घर पर बना रहता है और एक मेड परमानेंट रहती है जो बच्चे और घर की देखभाल करती है इस तरह से आपके पास दो ऑप्शन है आपको जो बेहतर लगे आप उसे चुन सकती हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो मैंम , हम दोनों पति-पत्नी जॉब करते हैं और बैंगलोर में अकेले रहते है।मेरी डेढ़ साल की बच्ची है, उसको डे केयर में रखते हैं। हमारा पूरा परिवार यू पी में रहता है। बच्ची की हालत देखकर मेरे पति कहते हैं कि बच्ची को यू पी में माँ के पास भेज देते हैं। मेरा दिल बैठा जा रहा है। मैं अपनी बेटी को नहीं भेजना चाहती और मैं ये भी चाहती हूँ कि उसकी परवरिश भी अच्छे से हो। प्लीज मुझे सुझाव दीजिये, मैं क्या करूँ ?
उत्तर: हेलो डियर, आप बिल्कुल भी परेशान ना हो आपके जैसी ही समस्या मेरे साथ भी थी। मेरी बेटी 2 साल की हो गई और तब मैंने जॉब ज्वाइन की, हम दोनों ही पति पत्नी ऑफिस जाते थे और बच्ची को डे केयर में रखने लगे। पहले हमने डे केअर अपने घर के पास ही चुना था। शुरुआत में बच्ची बहुत ज्यादा रोती थी और कई बार मुझे ऑफिस से घर आना पड़ता था। इससे मेरी ऑफिस की और घर की दोनों ही लाइफ बहुत ज्यादा डिस्टर्ब चल रही थी, फिर हम पति पत्नी ने यह डिसाइड किया कि बच्ची का डेकेयर मैं अपने ऑफिस के बगल में ही या आसपास चुनु ताकि मेरी बच्ची जब भी रोए तो मैं उसके पास जाकर उसके साथ कुछ समय बिता सकूं या लंच में जा सकूं। फिर हमने अपने ऑफिस के पास ही बल्कि ऑफिस के बगल वाले डे केयर को चुना और वहां उसका एडमिशन करा दिया। उसे एडजस्ट करने में 2 महीने लगे लेकिन मैं हर समय उसके साथ रहती थी। ऑफिस के समय में भी 10 मिनट- 15 मिनट का समय निकालकर मैं उससे मिलने जाती थी, लंच में उसके साथ ही रहती थी और उसके साथ ही लंच करती थी। इस तरह से धीरे-धीरे मेरी बच्ची उस माहौल में एडजस्ट हो गई और आज यह स्थिति है कि वह उस डेकेयर से घर वापस ही नहीं आना चाहती है। तो बच्चे का एडमिशन डे केअर में कराने से पहले एक बार उस डे केयर के बारे में भी अच्छे से पता कर ले। वहां लोग कैसे हैं, बच्चे की केयर कैसे करते हैं और आप सीसीटीवी का भी एक्सेस उनसे ले लें। आप इस तरह से अपनी बच्ची को अपने पास ही रख सकती हैं और आपकी ऑफिस की लाइफ भी डिस्टर्ब नहीं होगी । इसके साथ-साथ एक काम आप और भी कर सकती हैं कि आप अपने ससुराल या मायके से किसी को यानी अपनी मां को या सास को बुलाकर थोड़े दिन यहां रखें और एक मेड परमानेंट घर पर लगा दे जो आपके बच्चे और घर की देखभाल करें और इससे कोई घर में बड़ा रहेगा तो वह मेड आपके बच्चे की और अच्छे से देखभाल करेगी लेकिन याद रखें बच्ची को कभी भी अकेले मेड के भरोसे ना छोड़ें। मेरे भाई ने शुरू से ऐसा ही कर रखा है और उसके बच्चे की परवरिश बहुत अच्छे से हो रही है, अब वह 6 साल का हो गया है। मेरी मां या मेरी भाभी की मां कोई ना कोई घर पर बना रहता है और एक मेड परमानेंट रहती है जो बच्चे और घर की देखभाल करती है इस तरह से आपके पास दो ऑप्शन है आपको जो बेहतर लगे आप उसे चुन सकती हैं।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हैलो! मैं पिछले कुछ समय से कंसीव करने की कोशिश कर रही हूँ। ये क्लोमिफेन100mg पर मेरा दूसरा साइकल है। 14वें दिन मेरी लेफ्ट ओवरी में फॉलिकल 24*19mm और एंडोमेट्रियल थिकनेस 8.3 mm थी। डॉक्टर ने उसी दिन मुझे एच सी जी 5000IU इंजेक्शन लगाया, इस महीने मेरे गर्भवती होने की कितनी सम्भावनाएं हैं? प्लीज कोई सुझाव दीजिए।
उत्तर: HCG इंजेक्शन एग को फॉलिकल से बाहर रिलीज करवाने के लिए दिया जाता है। ये इंजेक्शन के 36 घण्टे बाद रिलीज होता है। रेग्युलर सैक्स करें, आइडियली शॉट के दिन, उसके अगले दिन और उसके बाद एक दिन छोड़कर एक दिन सैक्स करें। 8mm से ज्यादा होना बढ़िया है। मेरे एक दोस्त ने 6mm एंडोमेट्रियल थिकनेस पर कंसीव किया था। ऑल दी बैस्ट!
»सभी उत्तरों को पढ़ें