15 महीने का बच्चा

Question: मेरी बेबी ज़िद बहुत कार ती हि बात बात पर शार फ़ोदटी हि 14 मंथ की हि .

1 Answers
सवाल
Answer: जब बच्चे एक साल के होते है फिर उनमे बहुत साडी बदलाव देखने के लिए मिलता है और ये बदलाव हर तीन चार महीने में बदले तरहटा है आपको न चिंता करना है और न ही गुस्सा आप बच्चे को बहुत प्यार से संभाले क्युकी ऐसे ही बच्चा करता है उनको प्यार कि कमी होती है आप उनको प्यार से samjhaye अपना इमोशनल दिखाई कि आपको उसके ऐसा करने से दिक्कत हो रही है तो बच्चा काम करेगा ओर जब वो करता है तो करने से न रोकि ताब बच्चे को अहसास होता है कि इन लोगो को कोई फर्क नहीं होता तो अपने सेछोड़ने लगता है ये सब बरकत
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेबी का वेट नही बैड रहा हे .14 मंथ की हि 7 के.जी. वेट he
उत्तर: hello dear अगर आपके बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा है तो पहले आप यह जानने की कोशिश करें कि आपके बच्चे का वजन क्यों नहीं बढ़ रहा है एक बार आपको सही कारण का पता चल जाए जिसकी वजह से आपके बच्चे का वजन नहीं बढ़ रहा है तो आप बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए सही दिशा में कदम उठा सकती हैं। वजन ना बढ़ने के निम्न कारण हो सकते हैं: 1) बच्चे को पौष्टिक आहार नहीं मिल पा रहा है। 2) शिशु के साफ सफाई पर ध्यान दें। 3) बच्चे के लिए नींद है महत्वपूर्ण 4) के पेट में कीड़ों की वजह से भी उनका वजन नहीं बढ़ता है। 5) बच्चे को ज्यादा रोने ना दे। अपने बच्चे का वजन बढ़ाने के लिए आप बच्चे को निम्न आहार दे सकती हैं जैसे: 1)मलाई के साथदूध। 2) घी और मक्खन। 3) दलिया, खिचड़ी 4) सब्जियों से बने सूप 5) दाल का पानी
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी बहुत रो ती हि. ऐज हि 2 ईअर
उत्तर: छोटे बच्चों के रोने की कई कारण हो सकते हैं जैसे उनके पेट में कृमि , सर्दी, या गैस।कई बार छोटे बच्चे भूख लगने पर भी रोते हैंकहीं बच्चे के पेट में दर्द तो नहीं।कभी-कभी बच्चे भूखे रहते हैं तब भी रोते हैं।उन्हें ज्यादा ठंडी या गर्मी लगे तब भी वह रोते हैं क्योंकि वह बता तो नहीं पाते कभी-कभी बच्चे थकावट की वजह से रोते हैं तो उन्हें मालिश कर देनी चाहिए जिससे उन्हें अच्छी निंद आय आपको परेशान होने के बजाए धैर्य के साथ यह पता करने की कोशिश करनी चाहीये कि आखीर बच्चे के रोने कि वजह क्या है।क ई बार समझ ही नही आता तब आप को डाक्टर को दीखाना चाहीये।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी दो साल की है बहुत ज़्यादा जिद्दि है हर एक बात पर ज़िद करती है क्या karu
उत्तर: यह बच्चे का स्वाभाविक स्वभाव है बच्चे कभी-कभी अपनी बातों को एक्सप्रेस करने के लिए जिद करते हैं उनकी बातों को गौर से सुने उनकी बातों में सहभागी बने उन्हें अपने सही गलत जो भी विचारों को एक्सप्रेस करने दें उन्हें प्यार से समझाएं और सही और गलत का मतलब बताएं बच्चे के आसपास के माहौल पर भी ध्यान दें कभी-कभी बच्चा किसी चीज से इरिटेट हो कर जिद करता है ऐसे में बच्चे को उस चीज या व्यक्ति से दूर रखें प्रॉपर कम्युनिकेशन होने पर बच्चा जिद करने की जगह अपनी बातों को एक्सप्रेस करेगा
»सभी उत्तरों को पढ़ें