2 महीने का बच्चा

Question: मेरी बेबी गर्ल 1 मंथ 15 डिन की है वो सोती नही है क्या kru

2 Answers
सवाल
Answer: डिअर कुछ बच्चे सेट होने में काम टाइम लेते हैं तोह कुछ बच्चे ज़्यादः टाइम लेते हैं आप बेबी को जब भी सुलाओ डब्से पहले बेबी की मालिश कर दे फिर बेबी को अच्छे से फीड करवाये और जहाँ सुलाए शांति रखें जिससे बेबी को समझ मई आने लगता है की दिन और रात में क्या फर्क होता है बिलकुल शोर न करे और बेबी के पास आप रहरिन जिससे बेबी को सिक्योर फील होता है अगर आप अवेलेबल नहीं हो तोह कोई बात नहीं आप बेबी के ास पास पिलो लगा दे जिससे बेबी डरे नही और रूम में डिम लाइट हु रखें इससे बेबी की स्लीपिंग पैटर्न चेंज होने लगेगा
Answer: hi dear sbhiबच्चों की अलग-अलग प्रतिक्रियाएं होती है कोई बच्चे ज्यादा jagteहैं कोई बच्चे ज्यादा सोते हैं इसमें कोई टेंशन की बात नहीं चाहिए क्योंकि सभी बच्चों की अलग अलग adateहोती है यदि वह ज्यादा जागती है तो इसमें कोई प्रॉब्लम नहीं है क्योंकि वह अपनी पूरी नींद कर ही लेती होगी|क्योंकि छोटे में बच्चे जल्दी जल्दी सो जाते हैं और जल्दी जल्दी जाग जाते हैं और उनकी इसी बीच नींद पूरी हो जाती है|
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा बेबी 4 मंथ 15 डेज की है वो नाइट मि तिक से सोती नही है क्या kru
उत्तर: हेलो डियर ,,,,आप परेशान न हो बच्चे जैसे जैसे ग्रोथ करने लगते हैं मतलब कि जैसे जैसे बच्चों की आयु बढ़ती जाती है नींद की मात्रा में कमी होती जाती है इसलिए बच्चे धीरे-धीरे कम सोने लगते हैं अगर बच्चे सो रहे हो तो आप इस बात का ध्यान रखें कि वातावरण पूरी तरह से शांत हो जिस कमरे मे बच्चा सो रहा वहां की लाइट बहुत ही उजाला युक्त ना हो ना ही एकदम अंधेरे में बेबी को सूलाएं कोशिश करेगी बेबी सो रहा हो उस समय किसी भी प्रकार का शोर इत्यादि ना हो|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेबी 1 मंथ 26 डेज की है वो दीन्भर सोती है पर रात को सोती हि नही डिन मि उठाने से बी नही उठती क्या करु की वो रात मे अछेसे सोएं
उत्तर: Sb babies mostly asa krte hai....kuch dino me vo apne ap rat ko soygy....ap preshn na ho..
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेबी 1 मंथ 13 डिन की है वो गैस बहुत निकालती है क्या करु bataye
उत्तर: baby के पेट में गैस हवा जमा होने के कारण होती है। new born baby ko feed करते समय या बोतल से दूध पीते समय बहुत सारी हवा भी अंदर निगल लेते हैं। कभी-कभी रोते समय और सांस लेते समय भी हवा अंदर ले जाते है। पेट में हवा जमा होने से new born baby को पेट भरा-भरा सा महसूस होता है। पेट के अंदर हवा होने से शिशु को बहुत असहजता महसूस होती है और इसी को हम गैस का नाम देते हैं। डकार दिलवाना - डकार दिलवाने के लिए तीन तरीके हैं। आप इन तीनों को ही आजमा कर देखें। बच्चे को कंधों के ऊपर लगाएं और उसके कमर को अपने हाथ से थपथपाएं या सहलाएं और मलें। कंधे पर बच्चा तना हुआ और सीधा होता है इसलिए ऐसे में बच्चे को डकार आने में आसान होती hai , new born baby को गैस हो जाए तो क्या करना चाहिए · बच्चे को अपनी गोद में उसकी पीठ आपके पेट का सहारा लिए हुए बैठाएं। बच्चे की साइड से अपना हाथ निकालते हुए बच्चे को हल्के से आगे की ओर झुकाएं। दूसरे हाथ से बच्चे की कमर को थपथपाएं या मलें। · अपनी गोद में बच्चे को पेट के बल लिटाएं। बच्चे को एक हाथ से कसकर पकड़े रहें और दूसरे हाथ से उसकी पीठ को हल्के-हल्के मलें। · हींग का पेस्ट- हींग का पेस्ट बनाने के लिए एक चममच में थोड़ा गर्म पानी डालें और उसमें 2 चुटकी हींग डालकर पेस्ट बना लें। बच्चे की नाभि के चारों तरफ गोलाकार विधि में घुमाते हुए इस पेस्ट को लेप जैसे लगा दें। कुछ ही देर में बच्चे को दर्द से आराम मिल जायेगा। ग्राईप वाटर पुराने समय से चला आ रहा एक effective remedies है। ग्राईप वाटर में जड़ी-बूटियां और सोडियम बाइकार्बोनेट होता है जो बच्चे के पेट में गर्माहट पहुंचाती हैं और जमा हवा के बुलबुलों को तोड़कर गैस को डकार या दूसरे माध्यम से बहार कर देती हैं। सोडियम बाइकार्बोनेट अम्ल (एसिड) को भी प्रभावहीन बनाकर पेट में गैस दर्द से relief दिलाती हैं। बच्चे को गैस होने पर दो चम्‍मच ग्राईप वाटर की पीला दें। बच्चे को गैस में आरंभ आएगा। घर पर ग्राईप वाटर बनाने के लिए 50 मिलीलीटर पानी में 2 चम्मच सौफ मिलाएं और इसे उबालें। इसको तब तक उबालें जब तक ये आधा ना रह जाएँ। अब इस पानी को बच्चे को पिलायें। आप बाजार से भी ग्राईप वाटर खरीद sakte hai,
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 7 मंथ की है पी.आर. ये बिल्कुल नही सोती सिर्फ़ रैट को सोती डिन मि नही सोती क्या करूँ
उत्तर: हेलो अगर आपके बच्चे को दिन में नींद नहीं आती तो आप यह देखिए कि आपका बेबी खुश रहता है। खेलता है। प्रॉपर ब्रेस्टफीडिंग करता है। उसके मोशन क्लियर है ज्यादा रोता नहीं और एज के हिसाब से उसका वेट भी सही है तोआपको इतना परेशान होने की जरूरत नहीं है। कुछ बच्चों की नींद छोटी होती है आप बच्चे की दिन में तीन या चार बार मसाज करें। गुनगुने पानी से बच्चे को रोज नहलाए। और पेट भरकर ब्रेस्टफीड कराएं।या खाना खिलाये बच्चे को नींद जरूर आएगी। जहां तक हो सके आप बच्चे को अपने साथ लेकर सुलाएं। कम रोशनी में शांत माहौल में बच्चे को सुलाएं। टीवी की आवाज से या बच्चे के पास मोबाइल लेकर बैठने से भी बच्चों के नींद पर असर पड़ता है। घर में पेट डॉग होने से उसके अचानक भौंकने से बच्चे सो नहीं पाते। अगर बार-बार बच्चों के नींद में डिस्टरबेंस होता है तो बच्चों का नींद धीरे धीरे उड़ने लगती है। सुलाते समय आप बच्चे के बालों पर हाथ फेरीये उसके कानों पर उंगलियां घुमाइए। धीरे-धीरे बच्चे को नींद आने लगेगी। फिर आप उसे बिस्तर पर सुला कर साइड में तकिए रख दे और उसे सीने तक चादर से ढके। साइड में तकिया रहने से बच्चे को अपने साथ किसी के होने का एहसास होता है और वह शांति से सोता है। आप ये सब करके जरूर देखें
»सभी उत्तरों को पढ़ें