गर्भावस्था की तैयारी

Question: मेरी बेटी 5 महीने की एच उसकी मलीस के.बी. टी.के. करनी chaiye

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर आप बेबी की मलीस कम से कम 1 या 2 साल तक ज़रूर करना चाहिए मलीस करने से बच्चे के रक्त का सनचर बढ़ता है जो की बेबी के विकास में बहुत फ़ायदे मन्द होता है बेबी जैस जस बडे़ होते है उतना ही जादा चलते ऑर दौड़ते है इसलिए वो थक जाते है तो उन्हें आराम देना भि ज़रूरी है इसलिए दीन में 2 टाइम मलीस ज़रूर करें बेबी को मलीस करने से नीन्द भि अच्छी आती है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेटी 5 महीने की हो गयी एच यूज़ कोण शा सेरेलेक देन chaiye
उत्तर: हेलो डियर आप बेबी को 6 मंथ के बाद हि बाहर का खाना देना चाहिए . आप उससे पहले नही दे सकती डियर अपना और बेबी का ख्याल रखना ..
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी बहुत कमज़ोर है उसकी किस tel से मलीस kare वो 8 महीने की hai
उत्तर: आप ध्यान रखे आपका baby दिन में 4 बार याने उठते साथ , दोपहर में ,शाम को , और रात में सोने से पेहल।। आपका दुध ले और 3 टाइम याने नाश्ता , दोपहर का भोजन फिर रात का खान।। जो भी आप ताज़ा बनाये वह थोड़ा थोड़ा खै। आप डेरी प्रोडक्ट दिया करे। जैसे घर का बना दही , पनीर ।। आप बाकी ये सब दे सकती है।। Chawal kheer , सूजी की kheer , गाजर की kheer ,ल्वाकि की kheer।। मूँग दाल की खिचडी मासूर दाल की खिचडी दाल चवाल दाल रोटी दुढ रोटी केला शीक फ्रुइट्स की स्मूथिएस काधी चवाल आते का हल्वा सूजी का हल्वे सब्जीयू का सूप काऊ मिल्क याने gaay का दुध pine नहीं द. बच्चे के 1 साल होने के बाद है उसे गाय का दूध देना चाहिए .6 महीने तक के बच्चे के लिए आप जो भी खाना बनाती हैं उसमें आप गाय का दूध इस्तेमाल कर सकते हैं. पर दूध पीने के लिए बिल्कुल भी ना दें. गाय के दूध में पर्याप्त मात्रा में आयरन नहीं होता. जिससे कि उसके शरीर एनिमिक होने की समस्या हो सकती है . मां के दूध में और फार्मूले में गाय के दूध की तुलना में आयरन ज्यादा होता है इसलिए आप 1 साल तक गाय का दूध बिल्कुल भी ना दें . 1 साल के बाद अगर आप गाय का दूध देना भी चाहती हैं तो आप ध्यान रखें कि दूध अच्छी तरह उबला हो और ताजा हो साथ ही दूध की मात्रा 350 ml से 400 ml तक ही दें .गाय के दूध में प्रोटीन कैल्शियम मैग्नीशियम और विटामिन बी12 बी2 होता है. आप जब भी गाय का दूध दे वह मलाई सहित दे मतलब की फुल क्रीम दूध दे. गाय का दूध अगर आप ज्यादा देंगे तो बच्चे को सॉलिड आहार लेने के लिए पेट में जगह नहीं बचेगी .जिससे कि उसका पूरा पोषण तत्व मिलना कम हो जाएगा और शरीर कमजोर होने लगेगा. बच्चे को समय से खाना दे . उसके भूक के होने का वेट नही करे . क्यू की बच्चे बाटा नही पाते .. वो चिदचिदते है या रोते है . आप समय तय करिए फ़िर उसी समय पे खिलायें पिलाया और सोने का टाइम भी कोशिश करे की सेट हो . टाइम लगेगा सोने का टाइम सेट होने में लेकिन अच्छा रहटा है बच्चे के लाइए समय से खाना पीना और सोना होतो . लंच में खिचड़ी या दाल रोटी दे . या डोसा इडली दे . रात में दूध रोटी या दाल चावल दे . बहुत अच्छे से पका हुआ और तज़ा बना खाना खिलायें . और अच्छे से मॅश किया हुआ . बडे़ टुकडे़ नही हो . मॉर्निंग में फ़लो दे शाम को थोड़ा सब्जियो का सूप दे . आप सरसों तेल से मालिश कर सकती हैं. आप 1 दिन या 2 दिन करके देखें साथिया पर भी ध्यान रखें किसी भी प्रकार की एलर्जी या आपको लग रहा है कि बच्चे को रेड कलर के reshes arahe रहे हैं .अब ऑलिव ऑयल से भी कर सकती हैं. बच्चों के लिए फिगारो तेल सबसे अच्छा होता है. मालिश के बाद सफाई का भी बहुत ध्यान रखें. त्वचा बहुत ऑयली हो जाने के कारण उसके अगर सफाई नहीं होती दाने निकल आते हैं क्योंकि उसके स्क्रीन के रोमछिद्र है वह बंद हो जाते हैं और स्क्रीन खुलकर सांस नहीं ले पाती .जिस वजह से दाने हो जाते हैं .मालिश के बाद ध्यान रखें गुनगुने पानी की स्पंज bath अच्छी तरीके से दें. ताकि उसके किसी भी प्रकार की एलर्जी ना हो .अगर आपको लग रहा है किन oils से एलर्जी हो रही है तब डॉक्टर के द्वारा भी सलाह करके बच्चे की सेंसिटिव स्किन के हिसाब से आपको ऐसा दूसरा तेल ले सकती हैं. आप बेबी की २ से ३ साल ताक और बाद में भी कभी कभी मालिश कर सकती है।। बाछो की मालिश करने से अच्छा लगता है साथ ही।। उनकी मंश्पेशियों में ब्लीड सेक्युलेशन अच्छा होता है।। आयल अंदर ताक जाकर उनके मजबूत बनाता है।। बच्चो की मालिश जरूर करे।। उसस्के उनके हेअल्थी भी ाची होती है।। तुरंत कुछ खिलाकर नहीं करे।। थोड़ा १० मं बाद करे।। और माल८श के भी तुरंत बाद कुछ खिलाये नाहि।।१० मीन्स वाइट् करे। मालिश टोटल ५ से ८ मं ताक करे दिन में २ बार। मालिश के १५ मं बाद नहलाए।।। सफाई अच्छे से करे ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 1 महीने की ह उसकी मलीस के लाइए हिमालय की किट यूज़ कर सकते है क्या
उत्तर: हेलो डियर,,,, हिमालय oil ka use कर सकते हैं baby की मालिश के लिए नारियल तेल ,सरसों तेल ,जैतून तेल या बादाम तेल का उपयोग आप कर सकते हैं चाहे तो आप इन तीनoils को मिलाकर भी मालिश कर सकती है | इन oilsमें किसी भी प्रकार का कोई आर्टिफिशियल कलर या खुशबू को mix नहीं किया जाता है इसके अलावा इसमें विटामिन e की प्रचुर मात्रा होती है जो की बेबी की स्किन को अच्छी तरह नमी प्रदान करने व कलर को फेयर करने में भी सहयोगी होती है बाजार में मिलने वाले विभिन्न प्रकार के ऑयल कलर युक्त व आर्टिफिशियल खुशबू व रंगो से परिपूर्ण होता है जिसका प्रभाव बेबी के बॉडी पर पड़ सकता है|
»सभी उत्तरों को पढ़ें