5 महीने का बच्चा

Question: मेरी बेटी 4 महिने की हे और वो शुशु बोहोत कम करती हे ?

1 Answers
सवाल
Answer: अगर आपकी बच्ची दिन में ८- १० बार सु सु करती है या दिन के ५- ७ डायपर गीले करती है तो ये नार्मल है. अगर इससे कम सु सु करती है तो आप चेक करे की उसे कोई उऋण की जगह इन्फेक्शन तो नहीं है न और आपके दूध का फ्लो भी चेक करे.
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेटी 4 महिने की हे वो Hari potty करती और 1 दिन बाद करती हेँ
उत्तर: ग्रीन कलर की potty का मतलब होता है आपके बेबी को cuff है .. उन्हें हाल hi में सर्दी खासी हुई होगी ..cuff जो बेबी बहार नही निकाल पते to gatak lete हैं जो पेट से पचते हुए potty के dwara बहार निकल jata है . आप बच्चे को भाप dilaye जिससे उनके सीने मि cuff नही jamegi .. और पेट से होते हुए पती से निकल जायेगी ऐगर यह samsya jyada लम्बी चल रही है बार बार दस्त jese हरी potty होरी है तो ये किसी प्रकरण का इन्फेक्शन भि हो सकता है जिसके लाइए आपको डॉक्टर से मिल्क सलाह लेनी चाहिए जरुरत pade टु वो आपको स्टूल टेस्ट मतलब potty टेस्ट भी कराने बोल सकते हैं .. आप अपना दूध अच्छे से पिलाते रहिए ...
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 6 महिने की हे उसक wight और हाइट दोनो कम हे मे क्या करु
उत्तर: 6 महीने के बच्चे को इस प्रकार से भोजन करा सकती हैं जिससे उसका vajan badega वह स्वस्थ रहेगी और एक्टिव भी rahegi आहार जो आप अपने 6 माह के बच्चे को दे सकते हैं।    जितने बजे भी सुबह आपका बच्चा उठे, सबसे पहले आप उसे या तो अपना दूध पिलायें या formula milk पीने को दें। सुबह उठते ही दूध पिलाने के बाद डेढ़ से दो घंटे के बाद आप अपने बच्चे को नाश्ते (breakfast) मैं ठोस आहार दे सकते हैं। पहले एक सप्ताह बच्चे को नाश्ते में सिर्फ फल खाने को दें।   केला - सप्ताह में तीन से चार बार दें  सेब - इसे हर दिन दिया जा सकता है चीकू - इसे भी हर दिन दिया जा सकता है नाशपाती - सप्ताह में तीन से चार बार दें  पपीता - सप्ताह में चार से पांच बार दें दोपहर का खाना पहला सप्ताह - गिला चावल या खिचड़ी  दूसरा सप्ताह - गाजर के साथ खिचड़ी को पका के दें  तीसरा सप्ताह - रागी का खिचड़ी ये गेहूं/ओट्स का दलीय  चौथा सप्ताह - मूंग दाल या मुंग दाल की खिचड़ी लो बाकी का आधा दिन आप अपने बच्चे को अपना दूध पिलायें या formula milk पीने को दें। दोपहर का खाना खिलने के दो घंटे के बाद ही बच्चे को दूध पिलायें।   बच्चे की हाइट के लिए मनुष्य के शरीर में ह्यूमन ग्रोथ हार्मोन या HGH हार्मोन श्रावित होता है ।जो कि हमारी पिट्यूटरी ग्लैंड से स्रावित होता है जब इसकी मात्रा कम स्रावित होती है तो बच्चे की हाइट पर असर पड़ता है या बहुत ज्यादा साबित होती है तो भी बच्चे की हाइट पर असर पड़ता है hgh हार्मोन के secretion को संतुलित बनाए रखने के लिए बच्चों को दूध ,ताजे फल ,हरी सब्जियां अनाज ,अंडा ,चिकन ,डेयरी प्रोडक्ट्स और मछली आदि का सेवन कराना चाहिए इससे बच्चे की हाइट बढ़ती है। बच्चे की हाइट अनुवांशिक भी होती है । मां पिता की हाइट जैसी ही बच्चे की हाइट लगभग होती है और कभी-कभी वह अपने दादा-दादी या नाना-नानी के परिवार के लोगों की हाइट के अनुसार बढ़ता है इसलिए आप बहुत ज्यादा हाइट तो नहीं बना सकती हैं लेकिन कुछ उपाय हैं जिनसे बच्चे की हाइट थोड़ी बहुत बढ़ सकती है। पहला बच्चे को आउटडोर एक्टिविटीज ज्यादा करवाइए। दौड़ने भागने वाले खेल बच्चे के लिए अच्छे रहेंगे। दूसरा व्यायाम योगा और एक्सरसाइज पर जोर दीजिए। तीसरा सीढ़ियां ऊपर नीचे चढ़ने से भी बच्चे की हाइट पर असर पड़ेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी बोहोत चिढऩ करती हे
उत्तर: अक्सर बच्चे अपनी भावनाओं का प्रदर्शन गुस्से के रूप में ही करते हैं लेकिन हर छोटी छोटी बात पर गुस्सा होना हमेशा सही नहीं होता इसके लिए हमें बच्चे की परेशानी को जल्दी से समझ ना होता है और उसका उपाय भी जल्दी से ढूंढा होता है गुस्सा आया वह भाव होता है जो मनुष्य के अंदर में रहता है या एक प्रकार का नकारात्मक भाव होता है कहां जाता है कि कभी-कभी गुस्से को हमारे लिवर से जोड़ा जाता है अगर हमें लीवर में कुछ प्रॉब्लम होता है तो बहुत चिड़चिड़ापन आने लगता है आजकल के बच्चे स्कूल जाते हैं ट्यूशन जाते हैं और फिर घर में भी पढ़ाई करते हैं कभी-कभी उनको नींद भी कम खाने की वजह से नींद की कमी हो जाती है उनके खाने में ग्लूकोस की मात्रा की कमी होने की वजह से भी गुस्सा आता है जो बच्चे डिप्रेशन में ज्यादा रहते हैं उन्हें गुस्सा बहुत जल्दी आता है और कभी-कभी मां पापा के बातों को नहीं मानने की वजह से उसे डांट पड़ने पर भी उनको गुस्सा आता है इसलिए आपको कुछ घरेलू उपाय अपनाना चाहिए जैसे| आपको अपने बच्चे की बात सुनना चाहिए उनको बाहर फिजिकल एक्टिविटी के लिए भेजें ताकि उनका मन शांत हुआ उनकी नींद भी पूरी होनी चाहिए जिसकी वजह से उनको गुस्सा कम आएगा जाम और आंसू के निकलने की वजह से भी गुस्सा कम होता है अगर आप बच्चे की शादी और मानसिक बदलाव को समझेंगे तो उन पर विश्वास होगा और उनको गुस्सा कम आएगा
»सभी उत्तरों को पढ़ें