2 साल का बच्चा

Question: मेरी बेटी 2 साल की हे वो बोहोतहि जिद्दी हो गयी है उसकी माँगी चीज़ ना देनेपर जमिनपर letkr roti hai

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो dear आज कल क सभी बच्चो का यही हाल है..कीसी की बात ही नहीं सुनते..बड़ा गुस्सा अaतa है नa..पर हमें बच्चो क ज़िद करने पर उन्हें बिना Dante भी समझने की कोशिश कर नि चहिये.बच्चों को कोई भी बात मानवने क लिए दातये नाहि..प्यार से मनaये..वरna वो और भी ज़िद्दी हो जयyge।उनहे कोई भी बात खेल में समझने की कोशिश करे..ओर एक बात धयान रखे की उन्हें किसी भी प्रकार का लालच न द..की तुम मेरी ये बात मनोगे तो तुम्हे ये डिलवंगe.. ऐसा लालच देne पर उन्हें इस चीज़ की आदत padh जायगी ..tum कुछ भी बात अगर बड़ो की मानेगे तो इस क बदले में कुch।मिलेंगा...esse से बच्चो की आदत ख़राब होगी.. आप अपने बेबी के साथ अधिक से अधिक रहने का प्रयास करें . ओके
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेटी 11 महिने की हो गयी है पिछले कुछ दिनों से वो बोहोत जिददी हो गयी है अगर उसे उसकी मन पंसद चीज़ नही मिलती तो बहुत रोती है उसे जिद्दी hone se kaise rok skte hain
उत्तर: हेलो डिअर, बच्चे अगर जिद्दी होते है तो कई बार बच्चा अपनी जिद्द मनवाने के लिए रोता है. आप ने न कहा तो उस ने अपना सिर पटका, जब वह जमीन पर लोटने लगता हैं तो आप ने घबरा कर उसे हां कह दिया. यहीं से बच्चा समझ जाता है कि रोने से कुछ नहीं होता. जमीन पर लोटने से जिद मनवाई जा सकती है. बस, तब से वह वही काम करने लगता है. जिस तरह से आप उसे आकार देगी वो वैसा ही होगा , अगर बच्चे को आप ने किसी चीज के लिए न कहा है तो आप उस का कारण अवश्य बताइए. बच्चा कितना भी रोएचिल्लाए, आप अपनी बात पर कायम रहें, दृढ़ रहें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 2 ईअर 3 मंथ की हो gai है वो बहुत hi जिद्दी है और roti भि बहुत hai
उत्तर: hello कुछ बच्चे अपनी बात मनवाने के लिए गुस्से या जिद का सहारा बचपन से लेने लगते हैं बच्चों को जब यह पता हो जाता है कि उनके जिद्द का या रोने से उनकी मांग पूरी होगी तो वह अक्सर ऐसी हरकत करते हैं बच्चे के जिद करने और रोने-चिल्लाने पर अपना फैसला न बदलें। ऐसा करने पर वह इसे आपकी कमजोरी समझेगा और हर बार अपनी बात मनवाने के लिए यही तरीका अपनाएगा।  बच्चे के किसी बात पर जिद करने पर उसे इसके फायदे या नुकसान के बारे में बताएं जिससे वह खुद जिद छोड़ने के लिए प्रेरित हो सके। बच्चों को छोटी उम्र से अनुशासन में रहना और सब्र करना सिखाए जाने पर उनकी जिद करने की आदत को कम किया जा सकता है।जिद्दी बच्चे ज्यादा मेहनती और उनमें संघर्ष करने की क्षमता दूसरे बच्चों से ज्यादा होती है। ऐसे बच्चे अगर कुछ करने की ठान लें तो उसे पूरा किए बिना चैन से नहीं बैठते। सही मार्गदर्शन किए जाने पर ऐसे बच्चे अपने जीवन में बड़ी कामयाबी हासिल करते हैं  
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 2 साल 2 महीने की हो गयी है वो अभी भि मेरा दूध पीटी है उसकी ये आदत कैसे छुड़ा plz reply
उत्तर: अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा दूध पीना बंद कर दे तो आप अपने निप्पल में कुछ कड़वी चीजें लगा ले जैसे कि करेले का रस नीम या हल हल्दी जिसे चखतें के बाद बच्चा दूध पीने की कोशिश नहीं करेगा और यह सारी चीजें बचे को नुकसान भी नहीं पहुंचाएंगे fresh एलोवेरा का गोदा बहुत ही कड़वा होता है इसकी बिल्कुल थोड़ी सी मात्रा आप अपने निप्पल में लगाएं बच्चा दूध पीना बिल्कुल ही बंद कर देगा मेरे बच्चे ने एलोवेरा जेल को चखतें ही दूध पीना बंद कर दिया .आप भी करके देखिए
»सभी उत्तरों को पढ़ें