8 months old baby

Question: मेरी बेटी 8 महीने की है और वो इस समय बहुत रोती और chidchidati है क्या kare

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो इस उम्र में बच्चे की रोने चिडचिडे होने और ठीक से नहीं सोने का सिर्फ एक ही रीजन होता है बच्चे का भूखा होना। क्या आपका बच्चा दूध के अलावा और कुछ लेने लगा है। 8 महीने के बच्चे को दूध के अलावा सॉलि़ड फूड की जरूरत पड़ने लगती है। लेकिन इतने छोटे बच्चे सॉलि़ड फूड अच्छे से नहीं खा पाते इसलिए इन्हें सेमी सॉलि़ड फूड दिया जाता है सेमी सॉलि़ड फूड में सेरेलक फ्रूट सेक दलिया या दाल चावल की खिचड़ी दूध रोटी या दाल रोटी भीगा और मसला हुआ। खीर या स्मूदीज भुने हुए सूजी का या भुने हुए गेहूं के आटे का पतला हलवा। इन सारी चीजों में से कोई भी चीज जो आपके बच्चे को पसंद है और आपका बच्चा आसानी से खा ले उसे आप अपने बच्चे को खिलाइए जब आपके बच्चे का पेट भरेगा तो उसे नींद अच्छी आएगी और नींद अच्छी आएगी तो उसकी चिड़चिड़ा हट भी दूर हो जाएगी।
Answer: आपका बच्चा बार बार रोता है इसके कई कारण हो सकते हैं हो सकता है उसे कोई तकलीफ हो पेट में ऐसा भी होता है कि बच्चे को सुसु आती है उस टाइम भी वह बच्चा रोता है आपके बच्चे के पेट में गैस बनती हो जिस वजह से बच्चा रोता है मैं आपको कुछ घरेलू उपचार बताना चाहती हूं जिसमें बच्चा रोता है उस समय आप उसके नाभि में हल्का गुनगुना पानी में हींग मिलाकर लगा सकते हैं उसके पेट को तुरंत आराम मिलेगा बच्चा जिस समय रोता है उसको सुसु करा सकते हैं इस समय बच्चा थोड़ी देर से करता है पर उसमें भी उसे आराम मिलता है रात में सोने से पहले बच्चे की मालिश जरूर किया करें जिस से बच्चे को आराम मिलेगा फिर भी आप एक बार डॉक्टर से मिलकर जरूर एडवाइज लें
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेटी को कबज़ बहुत होता वो बहुत रोती लैटिन करते समय ..15 महीने की है ..
उत्तर: हेलो डियर,, कब्ज की समस्या है यह कोई गंभीर समस्या नहीं है 1) बच्चे को सुबह उठते ही सबसे पहले गर्म पानी का सेवन कराएं गर्म पानी के सेवन से बच्चे के शरीर में उपस्थित सभी विषाक्त पदार्थ बाहर निकलते हैं जिससे कब्जियत की समस्या दूर होती hai... 2)रात में आप छुहारा या मुनक्का को रात में गर्म पानी में भिगोकर रख दें सुबह इसे आप बेबी को खिलाएं | 3)फाइबर युक्त आहार जैसे दलिया चना आदि बच्चे को दें जिससे कब्जियत दूर होगी| 4) छोटी इलायची या बेल का शरबत भी आप घर पर खुद से बना कर बच्चों की पसंद से फ्लेवर मिलाकर बच्चे को दे| 5)बच्चों को फल सलाद व संतुलित आहार देने का प्रयास करें| 6)बेबी को हमेशा गर्म भोजन व पर्याप्त मात्रा में पानी पिलाए|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 2 महीने की ह वो यूरिन पोटी और गैस निकालते समय रोती ह क्या करू
उत्तर: हेलो डियर ,मूत्रमार्ग संक्रमण एक ऐसा संक्रमण है, जो कि मूत्रमार्ग में होता है। आपके बच्चे के मूत्रमार्ग में गुर्दे, मूत्राशय, मूत्रवाहिनियां और मूत्रमार्ग शामिल होता है। मूत्रमार्ग वह नलिका होती है, जो कि बच्चे के मूत्राशय से उसके गुप्तांगों तक जाती है। कुछ बच्चो को अन्य की तुलना में मूत्रमार्ग संक्रमण होने का खतरा ज्यादा रहता है। मगर बच्चे को इससे बचाने के लिए आप कुछ चीजों को आजमा सकती हैं जैसे कि बच्चे के मल त्याग करने के तुरंत बाद उसकी नैपी बदल दें।सुनिश्चित करें कि जीवाणु को शरीर से बाहर निकालने के लिए पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थ ले। यदि आपका बच्चा केवल स्तनपानकरता है तो उसे ज्यादा बार स्तनपान करवाएं। यदि वह फॉमूला दूधपीता है तो उसे नियमित अंतराल पर उबाल कर ठंडा किया हुआ पानी दे | डॉक्टर की सलाह ज़रूर ले |
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी बहुत कमज़ोर है उसकी किस tel से मलीस kare वो 8 महीने की hai
उत्तर: आप ध्यान रखे आपका baby दिन में 4 बार याने उठते साथ , दोपहर में ,शाम को , और रात में सोने से पेहल।। आपका दुध ले और 3 टाइम याने नाश्ता , दोपहर का भोजन फिर रात का खान।। जो भी आप ताज़ा बनाये वह थोड़ा थोड़ा खै। आप डेरी प्रोडक्ट दिया करे। जैसे घर का बना दही , पनीर ।। आप बाकी ये सब दे सकती है।। Chawal kheer , सूजी की kheer , गाजर की kheer ,ल्वाकि की kheer।। मूँग दाल की खिचडी मासूर दाल की खिचडी दाल चवाल दाल रोटी दुढ रोटी केला शीक फ्रुइट्स की स्मूथिएस काधी चवाल आते का हल्वा सूजी का हल्वे सब्जीयू का सूप काऊ मिल्क याने gaay का दुध pine नहीं द. बच्चे के 1 साल होने के बाद है उसे गाय का दूध देना चाहिए .6 महीने तक के बच्चे के लिए आप जो भी खाना बनाती हैं उसमें आप गाय का दूध इस्तेमाल कर सकते हैं. पर दूध पीने के लिए बिल्कुल भी ना दें. गाय के दूध में पर्याप्त मात्रा में आयरन नहीं होता. जिससे कि उसके शरीर एनिमिक होने की समस्या हो सकती है . मां के दूध में और फार्मूले में गाय के दूध की तुलना में आयरन ज्यादा होता है इसलिए आप 1 साल तक गाय का दूध बिल्कुल भी ना दें . 1 साल के बाद अगर आप गाय का दूध देना भी चाहती हैं तो आप ध्यान रखें कि दूध अच्छी तरह उबला हो और ताजा हो साथ ही दूध की मात्रा 350 ml से 400 ml तक ही दें .गाय के दूध में प्रोटीन कैल्शियम मैग्नीशियम और विटामिन बी12 बी2 होता है. आप जब भी गाय का दूध दे वह मलाई सहित दे मतलब की फुल क्रीम दूध दे. गाय का दूध अगर आप ज्यादा देंगे तो बच्चे को सॉलिड आहार लेने के लिए पेट में जगह नहीं बचेगी .जिससे कि उसका पूरा पोषण तत्व मिलना कम हो जाएगा और शरीर कमजोर होने लगेगा. बच्चे को समय से खाना दे . उसके भूक के होने का वेट नही करे . क्यू की बच्चे बाटा नही पाते .. वो चिदचिदते है या रोते है . आप समय तय करिए फ़िर उसी समय पे खिलायें पिलाया और सोने का टाइम भी कोशिश करे की सेट हो . टाइम लगेगा सोने का टाइम सेट होने में लेकिन अच्छा रहटा है बच्चे के लाइए समय से खाना पीना और सोना होतो . लंच में खिचड़ी या दाल रोटी दे . या डोसा इडली दे . रात में दूध रोटी या दाल चावल दे . बहुत अच्छे से पका हुआ और तज़ा बना खाना खिलायें . और अच्छे से मॅश किया हुआ . बडे़ टुकडे़ नही हो . मॉर्निंग में फ़लो दे शाम को थोड़ा सब्जियो का सूप दे . आप सरसों तेल से मालिश कर सकती हैं. आप 1 दिन या 2 दिन करके देखें साथिया पर भी ध्यान रखें किसी भी प्रकार की एलर्जी या आपको लग रहा है कि बच्चे को रेड कलर के reshes arahe रहे हैं .अब ऑलिव ऑयल से भी कर सकती हैं. बच्चों के लिए फिगारो तेल सबसे अच्छा होता है. मालिश के बाद सफाई का भी बहुत ध्यान रखें. त्वचा बहुत ऑयली हो जाने के कारण उसके अगर सफाई नहीं होती दाने निकल आते हैं क्योंकि उसके स्क्रीन के रोमछिद्र है वह बंद हो जाते हैं और स्क्रीन खुलकर सांस नहीं ले पाती .जिस वजह से दाने हो जाते हैं .मालिश के बाद ध्यान रखें गुनगुने पानी की स्पंज bath अच्छी तरीके से दें. ताकि उसके किसी भी प्रकार की एलर्जी ना हो .अगर आपको लग रहा है किन oils से एलर्जी हो रही है तब डॉक्टर के द्वारा भी सलाह करके बच्चे की सेंसिटिव स्किन के हिसाब से आपको ऐसा दूसरा तेल ले सकती हैं. आप बेबी की २ से ३ साल ताक और बाद में भी कभी कभी मालिश कर सकती है।। बाछो की मालिश करने से अच्छा लगता है साथ ही।। उनकी मंश्पेशियों में ब्लीड सेक्युलेशन अच्छा होता है।। आयल अंदर ताक जाकर उनके मजबूत बनाता है।। बच्चो की मालिश जरूर करे।। उसस्के उनके हेअल्थी भी ाची होती है।। तुरंत कुछ खिलाकर नहीं करे।। थोड़ा १० मं बाद करे।। और माल८श के भी तुरंत बाद कुछ खिलाये नाहि।।१० मीन्स वाइट् करे। मालिश टोटल ५ से ८ मं ताक करे दिन में २ बार। मालिश के १५ मं बाद नहलाए।।। सफाई अच्छे से करे ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 1 महीने की है ऑर वो बहुत jyada रोती है mai kya kru??
उत्तर: बच्चे के रोने और ना सोने का बहुत सारा कारण हो सकता है। हो सकता है उनको पेट में दर्द हो जिसकी वजह गैस हो सकती है, हो सकता है उनको किसी प्रकार का rashes हो गया है जिस जो बच्चे नहीं बता पाते हैं, आप को खुद से चेक करना पड़ेगा। हो सकता है उनको उनके कपड़ों में discomforts हो रहा हो, हो सकता है उन्हें कुछ टाइट लग रहा ho कपड़ा या ज्यादा गर्मी लग रही हो। हर बच्चों की अपनी अलग sleeping पैटर्न होती है...इसलिए आप चिन्ता ना करे। आप अपने बच्चे के diaper हमेसा चेक करे कभी कभी बच्चों को diaper से रशेस हो जाती है जिससे उन्हें डिस्कम्फर्ट होता रहता है।या गीले नैपकिन से भी उनकी नींद खुल जाती हैं,और वो रोने लगते हैं। आप बच्चे को हर बार दूध पिलाने के बाद अच्छे से डकार दिलवाय ताकि बच्चे के पेट में गैस न बने उससे भी कभी कभी उन्हें तकलीफ होती है। कभि कभी बच्चे का पेट भरा न होने की वजह से भी वे सो नहीं पाते इसलिए हर २ घंटे में उन्हें स्तनपान करते रहिय। आप संतुलित और acchi diet लिजिए इससे आपका दूध भी अच्छा आएगा । ज्यादा तकलीफ़ हो तो डॉ से जरूर मिलिये
»सभी उत्तरों को पढ़ें