3 महीने का बच्चा

Question: मेरी बेटी 3 महीने कि हे और उसका टॉयलेट ग्रीन colar का होता हे तो क्या कोई प्रॉब्लम हि

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो मां के दूध पीने वाले बच्चों की पॉटी का रंग अक्सर हरा छिछडा कभी-कभी ब्राउन और कभी हल्के वाइट कलर का और ब्लैक कलर का और चिपचिपा होता है। यह नॉर्मल बात है दूध पीने वाले बच्चों के पॉटी का कलर ऐसा होता रहता है। आप परेशान ना हो बच्चे को अपना दूध अच्छे से पिलाती रहें क्योंकि आपके दूध पर ही बचा डिपेंड है और बच्चे का सर्वांगीण विकास आप के दूध से ही होगा।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेटी 5 महीने की हि उसका वजन कम होता जा रहा हे क्या करु ?
उत्तर: देखिए वह 2 मंथ का बेबी है वह अभी बहुत छोटा ह उसे आप बाहर से ओरल कुछ भी मत दीजिए जब तक वह 6 महीने का ना हो जाए तब तक सिर्फ और सिर्फ उसको ब्रेस्टफीडिंग कराएं कहने का मतलब है 6 महीने के बाद ही उसको कुछ बाहर से दे वह भी सिर्फ एक चाइल्ड स्पेशलिस्ट से कंसल्ट करने के बाद जब आप उसे ब्रेस्ट फीडिंग कराती हैं उसे वह सारी पौष्टिक आहार मिलते हैं जो आप खाते हैं आप बिल्कुल चिंता मत करिए आपका बच्चा हेल्दी है उसे आपके मिल्क से सब कुछ मिल रहा उसके बॉडी की सारी रिक्वायरमेंट्स पूरी हो रही है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी एक साल 8 महीने की बेटी हे और अभी फिर से 8 महीने कि प्रेगनेट हु तो क्या कुछ प्रॉब्लम हो सकता हें
उत्तर: ऐसी स्थिति में आपको अपना विशेष ध्यान रखना होगा .गर्भावस्था में चाय-कॉफी के बजाय दूध, फल और सब्जियां खूब लें। तला भुना खाने से बचें। Protein युक्त भोजन लें। और इस दौरान वजन कम करने की सोचें भी नहीं। गर्भ धारण के बाद भोजन 200-300 केलोरीज ही ज्यादा लेना अच्छा रहता है बहुत ठूंस – ठूंस कर नहीं खाना चाहिए। अगर आपका आहार संतुलित होगा , तो ही आपकी व बच्चे की सेहत सुरक्षित रहेगी इसीलिए आपके भोजन में Folic Acid, Calcium, Iron, Zinc, Protein, Phosphorus, Vitamin D और ओमेगा 3 Omega Fatty Acids का होना जरुरी होता है | इन तत्वों को लेने से खून में Hemoglobin बढ़ता है। और मिस कैरिज का डर नहीं रहता है। इन सब विटामिन के कुदरती स्रोत के रूप में हरी पत्तेदार सब्जियां, मटर, फूलगोभी, शिमला मिर्च, बादाम, काजू, मूंगफली, तरबूज, केला व संतरा खाएं। इनके अलावा पालक, चुकंदर, broccoli ,शलगम कद्दू राजमा दाले , दही, फैट फ्री मीट , अंडे का सफ़ेद भाग , दूध-मट्ठा, पनीर, सोयाबीन, बीन्स, और साबुत अनाज लें। अगर आप नॉन वेज भोजन खाती है तो आपको अपने Pregnancy Diet Chart में मांस, अंडा, मछली शामिल करना चाहिए क्योंकि ये सब प्रोटीन, आयरन और जिंक का अच्छा स्रोत है |
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी का weight सिर्फ़ 3 kg हे ..और वो 50 days की हि .उसका weight kese badhega ?
उत्तर: हेलो डिलीवरी के बाद मां के शरीर में कमजोरी बहुत हो जाती है । दूध पीते बच्चे को हेल्दी करने के लिए सबसे पहले मां का हेल्थी होना जरूरी है। जिसके लिए आपको अपने खाने-पीने में ध्यान देना पड़ेगा। आप अगर हेल्दी खाना खाएंगे तो आपका दूध भी हेल्दी बनेगा। सबसे पहले आप अपने खाने में प्रोटीन को शामिल करें। इसके लिए आप हर प्रकार के दाल खाएं।राजमा खाएं अंडा खाए।मूंगफली मशरूम झींगा और फिश खाएं अगर आप नॉन वेजिटेरियन है तो। दलिया की खीर खाएं।स्वीट कॉर्न खाएं दूध के साथ कॉर्नफ्लेक्स ले दलिया और स्वीट कार्न में फाइबर प्रोटीन दोनों होते हैं और दूध में कैल्शियम होता है। जो कि मां के दूध को गाढ़ा और हेल्दी बनाता है।आप ड्राई फ्रूट्स के लड्डू भी बना कर खा सकती हैं काजू बादाम अखरोट छुहारा चिरौंजी और बबूल के गोंद को घी में तल लें और इसे पीस लें घी में भुने हुए गेहूं के आटे में गुड डालकर और ड्राई फ्रूट के पाउडर को डालकर लड्डू बना ले।रात में सोने से पहले एक लड्डू हल्दी मिले दूध के साथ में।। इस लड्डू में आप मुनक्का और खजूर भी डाल सकती हैं यह लड्डू आप कम से कम 1 या 2 महीने खाएं ।यह बहुत पौष्टिक लड्डू होता है मां दूध को बहुत पौष्टिक बना देता है। आप रोज एक चम्मच शतावरी का पाउडर एक गिलास गर्म दूध के साथ पीये। इस पाउडर को पीने से तेजी से दूध बढ़ता है। दो चम्मच जीरा को एक ग्लास पानी में भीगा कर रखें और उस पानी को सुबह पीने से भी ब्रेस्ट मिल्क बढ़ता है। इससे आपको फायदा जरूर मिलेगा और आपकी कमजोरी ,थकावट दूर होगी।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी 11 महीने कि है उसका वजन कम तो आप कोई उपाय बतये
उत्तर: मेरी बेटी 11 महीने कि है उसका वजन कम है तो कोई उपाय बताओ
»सभी उत्तरों को पढ़ें
Healofy Proud Daughter