2 years old baby

Question: मेरी बच्ची के चेहरे पे ददह हो गया है क्या करु

0 Answers
सवाल
अभी तक इस सवाल का कोई जवाब नहीं है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरी बेबी के चेहरे पे दाने हो गये है मि क्या करु जिसे उसके दाने ठीक हों jaye
उत्तर: छोटे बच्चो में रशेस या फिर डेन होना फंगल इन्फेक्शन या एक्जिमा कहते है जो एक स्किन प्रोब्लेम्स होती है प्रेग्नस्य के समय जिन माओ को व्हाइट डिस्चार्ज ज्यादा होता है उन माँ के बच्चो को ये प्रॉब्लम ज्यादा होती है ये जेनेटिक भी होता है ओर फ़ूड एलर्जी से भी होता है जो माँ पीनट सोया या फिर और कुछ खाने से भी हो जाते है जो बच्चे माँ का दूध पिटे है उनको होते है ये आमतौर पर तीन से चार महीने में ठीक हो जाते है,इस समय डॉक्टर्स कि सलाह लेकर बच्चे को एंटीफंगल क्राइम लगाना चहिये,पर ये क्रीम सात दिन से ज्यादा नहीं लगाना चाहिए इससे बच्चो कि मुलायम स्किन कठोर हो जाती है कुछ बच्चो के स्किन बहुत सॉफ्ट होते है उनको अगर कोई मालिस के लिए तेल उपयोग करते है उससे भी हो जाती है क्युकी वो बेबी शट नहीं हो रहा होता ऐसे में उस तेल का दोबारा उपयोग नहीं करना चहिये अगर बेबी को डेन हुए है तो आप इन पर नारियल का तेल लगा सकती है इससे उनको लाभ मिलेंगा आईसे बच्चो को दूध पिलाना के बाद अच्छे से साफ़ कपडे सो पोछे जिससे कि डेन और न फैल यादि बच्चे को डेन या रशेस है तो उनको साफ़ कपडे पहनाये और सोने वाली जगह में रोज चादर बदले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मीयर बेबी के चेहरे पे दिईन जेसन कुछ हो गया एच टु मि क्या karu
उत्तर: छोटे बच्चो में रशेस या फिर डेन होना फंगल इन्फेक्शन या एक्जिमा कहते है जो एक स्किन प्रोब्लेम्स होती है प्रेग्नस्य के समय जिन माओ को व्हाइट डिस्चार्ज ज्यादा होता है उन माँ के बच्चो को ये प्रॉब्लम ज्यादा होती है ये जेनेटिक भी होता है ओर फ़ूड एलर्जी से भी होता है जो माँ पीनट सोया या फिर और कुछ खाने से भी हो जाते है जो बच्चे माँ का दूध पिटे है उनको होते है ये आमतौर पर तीन से चार महीने में ठीक हो जाते है,इस समय डॉक्टर्स कि सलाह लेकर बच्चे को एंटीफंगल क्राइम लगाना चहिये,पर ये क्रीम सात दिन से ज्यादा नहीं लगाना चाहिए इससे बच्चो कि मुलायम स्किन कठोर हो जाती है कुछ बच्चो के स्किन बहुत सॉफ्ट होते है उनको अगर कोई मालिस के लिए तेल उपयोग करते है उससे भी हो जाती है क्युकी वो बेबी शट नहीं हो रहा होता ऐसे में उस तेल का दोबारा उपयोग नहीं करना चहिये अगर बेबी को डेन हुए है तो आप इन पर नारियल का तेल लगा सकती है इससे उनको लाभ मिलेंगा आईसे बच्चो को दूध पिलाना के बाद अच्छे से साफ़ कपडे सो पोछे जिससे कि डेन और न फैल यादि बच्चे को डेन या रशेस है तो उनको साफ़ कपडे पहनाये और सोने वाली जगह में रोज चादर बदले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बेबी बॉय के चेहरे पे सफेद घमोलि जैस है तो क्या करु
उत्तर: कई बार नवजात शिशु के चेहरे पर दाने की समस्या पायी जाती है, जिससे कई बार पेरेंट्स चिंतित हो जाते हैं। हालांकि, इसमें घबराने जैसी कोई बात नहीं है, क्योंकि बच्चे में इस तरह की समस्या उनके संवेदनशील और नाजुक त्वचा के कारण होती हैपसीने के कारण कभी-कभी नवजात शिशु में इस तरह की समस्या बहुत अधिक गर्मी और उससे निकलने वाले पसीने के कारण उत्पन्न होता है। क्योंकि, छोटे से उम्र में पसीने की ग्रंथियां शिशु के ऊपर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। साफ-सफाई के कारण जब शिशु बहुत छोटे होते हैं, तब उनके साफ-सफाई का ध्यान उचित तरीके से नहीं रखा जाता है। जैसे कि बच्चे को रोजाना नहलाना सही नहीं माना जाता है, इसके अलावा अलग-अलग लोगों के द्वारा बच्चे को गोद में लेना भी एक कारण है। क्योंकि, इस समय छोटे बच्चे सबसे ज्यादा संक्रमण की चपेट में आते हैं। ऐसे में, शिशु के साफ-सफाई की उचित देखभाल की जानी चाहिए। हार्मोन के कारण आमतौर पर शिशु में दाने की समस्या हार्मोन के कारण भी उत्पन्न होता है। क्योंकि, इस उम्र में शिशु का हार्मोन का स्तर सामान्य नहीं होता है, जिस कारण इस तरह की समस्या उत्पन्न होती है। एलर्जी के कारण ज्यादातर बच्चों में चेहरे पर दाने की समस्या एलर्जी के कारण उत्पन्न होती है, खासतौर से माँ के खान-पान के कारण। क्योंकि, इस उम्र में बच्चे पूरी तरह से माँ के दूध पर निर्भर होते हैं। ऐसे में, यदि माँ कोई ऐसे खाद्य पदार्थ का सेवन करती हैं, जिससे कि बच्चे को एलर्जी की समस्या उत्पन्न होने लगती है।   हालांकि, नवजात शिशु में इस तरह की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप मेडिकेटेड सूखे पाउडर या नमी प्रदान करने वाली क्रीम का प्रयोग कर सकती हैं। यदि इसके वाबजूद इस तरह की समस्या खत्म नहीं हो रही हो तब आप डॉक्टर से संपर्क करें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी वाइफ का 38week शुरू हो गया है क्या वो कार से छोटी छोटी यात्रा कर सकती है जैसे मंदिर या बाजार जाना
उत्तर: Is stithi me travel avoid kijiye. Unko kisi bhi vakth pe labor pain shuru ho sakthi hai. To Aap savdhaan rahiye. Behtar Unko ghar ke paas me paidal ghumaiye.
»सभी उत्तरों को पढ़ें