9 महीने का बच्चा

Question: मेरी नाइन मंथ की बेटी को कॉन्स्टीपेशन एन कफ एन कोल्ड हुआ है कैसे तिक karu

2 Answers
सवाल
Answer: आपका बेबी अभी बहुत छोटा है इसलिए उसे प्लीज पानी ता सर्दी से दूर रखिये आप भी ठंडी चीज़ो का सेवन मत कीजिये डिअर बलगम की निकलने क लिए कुछ उपाय आप तरय क्र सकती है १)आप बेबी को सरसों के तेल में २ लहसुन और १ लॉन्ग डालकर ग्राम कीजिये ओर फिर हल्का गुनगुना होने और बच्चे के कान में और नाक में डालिये २)आओ बच्चे की अजवाइन की पोटली बनाकर सिकाई कीजिये ,सती कपड़े में अजवाइन को ग्राम करके बाँध ले और बच्चे की सिलाई कीजिये ३ आप बेबी को एक चुटकी केसर को गुन्गुने पानी में दलके उसे बेबी के छाती और पीठ व् सर में लगाए ४)अआप बेबी को एक चम्मच दूध में एक चुटकी हल्दी डेल फिर ठंडा होने पर बच्चे को पिलाये ५)आप अपने बच्चे को डालडा घी लिखे अच्छे से सिकाई कीजिये ९र बच्चे को उदा डिजिये, ये उपाय केने के बाद बेबी को आराम आ जाना चाहिए धन्यबाद अगर बेबी को आराम न आये तो आप तुरंत डॉक्टर को दिखाए बेबी दूध पिने के कारन उसका पेट साफ नही रहता जिस कारण बेबी दूध पचा नही पता जिस कारण बेबी को गैस कब्ज की प्रॉब्लम रहती है आप बेबी को कुछ घरेलू नुस्खे अपना सकती है १) बेबी को गुनगुन पानी से नहलाये २) बेबी की पेट में मालिश कीजिये ३)बेबी को अपने हाथों से पैर चलिए जैसे साईकिल चलते हैं ४)अप्प अपने खान पान का विशेष ध्यान रखिये जिससे बेबी को कोई प्रॉब्लम न हो ५)बेबी को अपनेँ१ चम्मच दूध में हींग गुनगुना करके दीजिये ओर सफ़ेद पानी क लिये। बेबी को साफ़ सुथरा रखिये गुन्गुने पानी से साफ़ कीजिये अगर आराम न आये तो आप डॉक्टर के पास जा सकती
Answer: इतने छोटे बच्चों में यह समस्या आम बात है सर्दी और जुकाम होने पे माँ पाने बच्चे को स्तनपान कराएं, दिन में जितनी बार स्तनपान करा सकती हैं,  12 माह तक बेबी का इम्यूनिटी बहुत कमज़ोर होती है , थोड़ा भी weather चेंज होने से कोल्ड और कफ aur jhukam की परेशानी होने लगती है ,इसलिए कुछ चीज़ का ध्यान रखे जैसे 1)शाम होते ही बेबी को गरम कपड़े पहना का रखे 2)1कटोरी सरसों तेल मे अजवाइन और लहसन ki5-6 कली को पका ले फिर उसी तेल से दिन मे 3-4 बार मालिश करे . 3)लहसन और अजवाइन को तवे पर सेक कर muslin के कपड़े मे बाँध कर पोटली बना दे और बेबी के बेड के पास रख दे ,इससे भी बेबी का कोल्ड जल्दी ठीक होगा . 4.)2-3तेजपत्ता जला कर घर मे धुआँ करे ,इससे सारे बैक्टीरिया मर जाते है . 5) बाथरूम मे गरम पानी का स्ट्रीम भर दे और बेबी को लेकर thori देर बैठे ऐसा करने से उसका बन्द नाक खुल jayega और उसे राहत भी मिलेगी . 6)रात मे सोते समय पैर के तलवे मे विक्स से मालिश करकें सॉक्स पहना दे इससे भी शरीर गरम रहेगा और बेबी जल्दी ठीक हो jayega . बच्चे को पालक का सूप बना कर पिलाएं मुनक्के को पानी में भिगो दें, जब वह फूल जाए तो इसे मसलकर पानी छान लें। इस पानी को बच्चे को दिन में 2 से 3 बार पिलाएं अंजीर को रातभर पानी में भिगो दें और फिर सुबह-सुबह बच्चें को खाने के लिए दें बच्चे को रोज गुनगुने पानी में शहद डालकर पीने को दें, इससे कब्ज की समस्या से राहत मिलती है
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: बेबी को कफ ऑर सर्दी होग्या है कैसे तिक karu
उत्तर: हेलो डियर बेबी को आमतौर पर सर्दी हो ही जाती है आप बेबी को पुरी बाजू के कपड़े पहनाये और बेबी की साफ़ सफ़ाई का पूरा ध्यान रखे ।बेबी की सर्दी को दूर करने के लिए आप निम्न उपाय अपना सकती है---- थोड़ा अजवायन के बीज के साथ थोड़ा पानी उबालें और बेबी को इसे पिलाएं। इसके अलावा, अगर बच्चा ऊपर का दूध ले रहा है तो दूध उबालते समय अजवायन डाल दें इसे बेबी को दें। सरसों के उबलते तेल में लहसुन और लौंग डालें और इसे बेबी की छाती पर लगाने से भी खांसी मे आराम मिलता है। पैन पर कुछ अजवायन के बीज भूनें और इसे साफ सूती कपड़े पर रख दें, और पोटली तरह से बना लें। इसे बच्चे की छाती, पैरो के तलवो, हथेली और पीठ पर लगाएं। अपने बच्चे के पैरों के तलवो मे vicks रगड़ें और सूती या ऊनी मोजे पहनाए।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी बेटी को कफ कोल्ड हुआ एच क्या karu
उत्तर: हेलो आपकी बच्चे को सर्दी है nebulize करवायें बच्चे को राहत मिलेगी बच्चों का इम्यून सिस्टम बहुत कमज़ोर होता है जीस्से उन्हें कफ और कोल्ड हो जाता है.मौसम में बदलाव के कारण सर्दी खासी आने पर आप बच्चे को गरम रखें l ऐसे कपड़े पहनाये की हलकी गर्माहट बनी रहें l रूम को भी गरम रखने का प्रयास करे lसोते टाइम सर हल्का उंचा कर के सुलाये,बच्चे को आराम मिलेगाl बच्चे को आराम करवायें बच्चा जीतन आराम करेगा उतनी जल्दी ठीक होगा lखाने में गरम चीज़ों का यूज़ करे l सरसों के तेल में लहसुन और हींग गरम कर लेऔर हलके हाथों से बच्ची के चेस्ट back और पैरो के तलवो में मालिश करेl बच्‍चों के लिए सुरक्षित वेपर रब का इस्‍तेमाल करें। वेपर रब से बच्‍चे की नाक, छाती, गला और कमर पर मालिश करें। इससे बच्‍चों को सुकून भी ठंडक का अहसास होता है और उन्‍हें सांस लेने में आसानी होती है।बच्चे को संक्रमण से बचाने के लिये अपना और बच्चे का हाथ साफ रखे। बच्चे को कुछ खिलाने से पहले हैण्ड वाश करेlबच्चों के सर्दी-खांसी में अजवाइन का काढ़ा पिलायें।सर्दी-खांसी के दौरान सूप बहुत आरामदायक भोजन होता है। आप सब्जियों का गर्म सूप ,चिकन सूप दे सकती हैं। ये सूप बच्चे की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं।जीरे और मिश्री दोनों को महीन पाउडर में पीस लें। जब भी आपके बच्चे को खांसी आती है तो उसे यह मिश्रण दे बच्चे के खाने में हल्दी हीङ्ग का प्रयोग करे बेबी को कुछ दिन फ्रूट्स चॉकलेट ठण्डी चीज़ें घी देना अवोइड करे ये कफ को badhate है प्रॉब्लम ज़्यादा होने पर डोक्टर से सलाह ले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरी डॉटर को कफ एन कोल्ड ह
उत्तर: सर्दी और जुकाम होने पे माँ पाने बच्चे को स्तनपान कराएं, दिन में जितनी बार स्तनपान करा सकती हैं,  अजवाइन के सूखे दाने को तवे पे भून लीजिये, अब एक सूती के रूमाल में इसे बांध के एक पोटली बना लीजिये, यह पोटली जब हल्का गरम रहे, उसी वक्त इससे बेबी की छाती, पीठ, पैर के तलुए, और हाटों की हटेलियोँ पे घिसिये. इससे सर्दी और जुकाम में आराम पहुंचेगा लहसून के कुछ फाकों को सरसों के तेल में भून लीजिये,इस तेल को बेबी की गर्दन, छाती, पीठ और पैर के तलुओं पे लगाइये एक चम्मच सेंधा नमक में गरम सरसों का तेल मिलके इस मिश्रण से बेबी की छाती और पीठ पे मालिश करें मालिश वाले तेल में कुछ तुलसी के पत्तों को डाल सकती हैं। तुलसी वाला मालिश का तेल त्यार करने के लिया आप तीन चम्मच नारियल का तेल ले लीजिये, नारियल के तेल को गरम कीजिये,अब इसमें तुलसी के पत्तों को कुचल कर तेल में मिलाइये. इस तरह से कुचलने से तुलसी के पत्तों का अर्क नारियल के तेल में मिल जायेगा.नारियल का तेल तुलसी के पत्तों के सरे उपयोगी गुणों को सोख लेगा नरम कपडे या स्पंज का उपयोग कर बच्चे के कुछ भाग जैसे बगल, पैर और हाथो को भी पोछ सकते हो, इससे बच्चे ke शरीर का तापमान भी कम होगा यदि आप फैन चला रहे हो तो ध्यान रहे की इसे धीमी स्पीड पर ही चलाये, ध्यान रहे की आपका बच्चे सीधे पंखे के निचे ना सोया हो. नरम कपडे को पानी में भिगोकर ठंड़ी पट्टी बच्चे के सिर पर रख, पट्टी पूरी तरह से सुख जाये तब समझ जाये की पट्टी ने बुखार सोख लिया है और इससे शरीर का तापमान भी कम होता है.
»सभी उत्तरों को पढ़ें