19 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरी कमर में बहूत दर्द होता है क्या करु ? कमर की वजह से पूरे left पैर में भी दर्द रहता है

1 Answers
सवाल
Answer: गर्भावस्था मे कमर दरद--आपका वजन सामान्य से अधिक होना गर्भावस्था में कमर पर पड़ने वाले भार की वजह से कमर दर्द होता है तो आपको पीठ दर्द होने की संभावना अधिक रहती है।आपकी मांसपेशियों में थकान और हड्डियों पर आपके शरीर एवं शिशु का वजन पड़ने से होने वाले हल्के खिंचाव के कारण होता है।  आपको कम उचाई या फ्लैट और आरामदायक चप्पलें पहनें पैरो मे गुनगुने तेल हल्की मालीश लें। कभी-कभी मांसपेशियों और हड्डियों पर पड़ने वाले दबाव के कारण पैरो मे दर्द के साथ सूजन और ऐंठन भी हो सकती है यह दर्द और सुजन बच्चे के जन्म के साथ ही खत्म हो जाता है यह कभी किसी तो कभी किसी पैर में होता है यह परेशानी ज्यादातर प्रेगनेंसी में महिलाओं को होता ही है यह दर्द गर्भाशय में बच्चे के बढ़ने के कारण पड़ने वाले दबाव के कारण होता है।दर्द से राहत के लिए आप पैरों और तलवों में हल्के गुनगुने सरसों तेल से मालिश ले सकती हैं नमक कम खायें।पैर के नीचे तकिया लेकर सोऐं।दर्द वाले की स्थिति में आप ज्यादा देर तक चले नहीं ना खड़े हो आपको आराम करना चाहिए और आपको फ्लैट आरामदायक नरम चप्पले पहननी चाहिए।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: कमर से लेकर पूरे पैर में बहुत दर्द है .. चलने में भी बहुत तकलिफ़ होती है ..
उत्तर: 🙏कभी-कभी मांसपेशियों और हड्डियों पर पड़ने वाले दबाव के कारण कमर दरद पैरो मे दर्द के साथ सूजन और ऐंठन भी हो सकती है यह दर्द और सुजन बच्चे के जन्म के साथ ही खत्म हो जाता है यह कभी किसी तो कभी किसी पैर में होता है यह परेशानी ज्यादातर प्रेगनेंसी में महिलाओं को होता ही है यह दर्द गर्भाशय में बच्चे के बढ़ने के कारण पड़ने वाले दबाव के कारण होता है दर्द से राहत के लिए आप कमर और पैरों और तलवों में हल्के गुनगुने सरसों तेल से मालिश ले सकती हैं नमक कम खायें।पैर के नीचे तकिया लेकर सोऐं। दर्द वाले की स्थिति में आप ज्यादा देर तक चले नहीं ना खड़े हो आपको आराम करना चाहिए और आपको फ्लैट आरामदायक नरम चप्पले पहननी चाहिए Take care💐
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: पैर में बहूत दर्द रहता है
उत्तर: आप घबराए नहीं प्रेगनेंसी में पैरों का दर्द आम समस्या है। प्रेगनेंसी में हमारे शरीर का सारा भार पैरों पर पड़ता है जिससे कि उस में दर्द हो जाता है। प्रेग्नेंसी में वजन बढ़ जाने के कारण भी पैरों में दर्द की समस्या सामने आती है कभी-कभी हमारे पैरों में सूजन भी हो जाती है। इन सब चीजों के लिए आप कुछ घरेलू उपाय कर सकती हैं। आप अपने पैरों को हल्के गर्म पानी में थोड़ी देर के लिए डुबो कर रखें इससे आपको पैर दर्द और सूजन में आराम मिलेगा। आप अपने पैरों में सरसों के तेल से या फिर किसी भी तेल से हल्की मसाज कर सकते हैं जिससे ब्लड सरकुलेशन बढ़ेगा और आपके पैर दर्द और सूजन में राहत मिलेगी। आप ज्यादा देर तक पैर लटका कर नहीं बैठे पैरों को हमेशा सपोर्ट देखकर ही बैठे हैं या फिर लेटी है। आप पैर दर्द के लिए हल्की हल्की वॉक भी कर सकते हैं जिससे ब्लड सरकुलेशन बढ़ेगा और पैर के दर्द में थोड़ा आराम भी मिलेगा।ज्यादा देर तक खड़े होकर काम करना अवॉइड कीजिए। अगर आपको पैर के दर्द से आराम नहीं मिलता है तो आप को जाकर डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए..
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: पैर से कमर तक बहुत दर्द रहता है कमज़ोरी भी रहती है सर में दर्द
उत्तर: हेलो डिअर, प्रेग्नेंसीय में कमर और पैरो में दर्द होना यूट्रेस बढ़ जाने पर ज्यादा भार होने की वजह से भी होता है , जब आपके बेबी के आकार बढ़ने लगता है तब सारा वजन आपके कमर और पैरो पर पड़ता है , ऐसे में पैरो में खिंचाव भी होने लगता हैं आप इसके लिए कुछ ऐसा कर सकते है , आप कमर और पैरों की सिकाई गर्म पानी को बोतल में भर कर ऊपर से एक कपड़ा डाल कर सकते है आप अपने कमर और पैरों की सरसो के तेल से मॉलिश करने से भी दर्द कम हो जाता है दर्द होने पर ज्यादा चले फिरे नही बल्कि आराम करे कोई भी भारी सामान ना उठाये या फिर कोई भी भारी भरकम काम भी ना करे , प्रेग्नेंसीय में हार्मोन परिवर्तन के कारण सर दर्द जैसी समस्या बनी रहती है इसका उपाय घरेलू तरीके से कर सकते है , इसमे बिल्कुल भी परेशान होने वाली बात नही है आप सर दर्द में गाय का देसी घी को गुनगुना कर ले और फिर नाक दोनो छिद्रों में डाल दे इससे सर दर्द कम हो जाता है आप तुलसी की पत्तियों को पीस कर पानी मे गर्मा दे फिर इस पानी पी ले इससे सिर दर्द कम हो जाता है , सर दर्द में आप अदरक की चाय भी पी सकती है ये सर दर्द के लिए बहुत ही अच्छा है !
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरे कमर में बहूत दर्द रहता है
उत्तर: हेलो प्रेगनेंसी में पीठ दर्द होना एक सामान्य बात है प्रेग्नेंसी के समय दर्द के अनेक कारण हो सकते हैं इस समय बच्चे का आकार बढ़ते जाता है जिसके कारण पेट में तनाव की स्थिति या फैलाव बढ़ते जाता है जिससे पीठ में दर्द होने लगता है इसके अलावा हमारी बॉडी ऐसे हारमोंस को रिलीज करती है जोकि डिलीवरी के समय हड्डी को लचीला बनाता है और किस हार्मोन से पीठ पर प्रभाव पड़ता है जिसके कारण बैक पेन होता है जैसे-जैसे डिलीवरी का समय आता जाता है खुदा पेट की मांसपेशियां जो पसलियों की हड्डी तक होती है बीच से अलग होने लगती है जिसके कारण पीठ में दर्द होने लगता है पेट दर्द को कम करने के लिए आप कुछ घरेलू उपाय कर सकते हैं १: बहुत अधिक देर तक आप खड़े ना रहे या बहुत देरी तक एक ही अवस्था में बैठी ना रहे २: बैटरी के लिए ऐसी कुर्सियों का प्रयोग करें जो आपके पीठ को बिल्कुल सीधी रखती हो या आप तकिए गद्दे का भी प्रयोग पीठ को सीधी करने के लिए ३: घर में सावधानी बरतें अधिक भारीभरकम या ऐसे काम जिसने अधिक मेहनत की जरूरत हो उसे ना करें एक ही तरफ करवट लेकर सोए घुटनों को क्रॉस ना करें सोने के लिए नरम गद्दे का प्रयोग करें एकाएक बिस्तर से नहीं उठा पहले धीरे से उठा उसके बाद ही आप जमीन पर खड़े होइए अधिक टाइट कपड़े ना पहने क्योंकि इससे रक्त संचरण सही नहीं होगा और कमर में दर्द होगा इसी प्रकार हाई हील्स के का प्रयोग ना करें क्योंकि हाई हील से कमर दर्द बढ़ सकता है इस प्रकार के कुछ उपाय अपनाकर आप पीठ दर्द व कमर दर्द से आपको आराम मिलेगा ओके टेक केयर बा
»सभी उत्तरों को पढ़ें