21 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरा 5th month chal rha he or mera wet or pet bahut jadh badh rha he mere leg me sujan bhi rehti he kiya kru

2 Answers
सवाल
Answer: प्रेगनेंसी मे पेट ज्यादा या कम निकलना आपकी condition के हिसाब से भी हो सकता है ऐसा कुछ लोगो की personality पर भी प्रभाव पड़ता है प्रेग्नेंसीय के दौरान हार्मोन परिवर्तन की वजह से बॉडी में बहुत से changes होने लगती है जिसकी वजह से बॉडी में सूजन और पैरो में सूजन आ जाती है प्रेजेंसीय के दौरान बॉडी में रक्त प्रवाह बहुत ज्यादा बढ़ जाता है जिसकी वजह से भी पैरो में सूजन आ जाती है जो चलने में दर्द होता है ऐसे में आप कही भी ज्यादा देर तक खड़े न रहे जिसकी वजह से सूजन और बढ़ जाता है , पैरो की गर्म पानी से सिकाई करे ऐसा करने से पैरो की सूजन कम हो जाती है , ऐसे में आप खूब पानी पीते रहे , थोड़ा थोड़ा चले फिर आराम कर ले , पैरो की एक्सरसाइज करें , एक ही मुद्रा में ज्यादा देर तक नA सोये
Answer: thanku
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: Mera 9th month chal rha he mere pero me bhut sujan ho rhi he our dard bhi me kya kru
उत्तर: पैरों में दर्द या सूजन हो जाना एक आम बात है इसकी वजह से ज्यादा चिंतित होने की जरुरत नहीं है आप ये सब कर के देखें आराम मिलेगा नमक में पैर भिगोना अपने पैरों के बीच एक तकिया रखकर अपनी बायीं ओर पर लेटे हुए घुटनों को छाती की ओर उठाने या फैलाने की कोशिश कीजिए एक बर्तन में पानी गर्म करें और इसमें नीम के पत्ते डाल दें और तब तक उबालते रहें जब तक नीम के पत्ते अपना रंग ना छोड़ने लगें अब इस पानी से पत्तियां निकालकर इसमें थोड़ी फिटकरी मिला लें और इस पानी में कुछ देर तक अपने पैरों को डालकर रखें, नीम के अंदर बैक्टीरिया से लड़ने की शक्ति होती है, और यह दर्द निवारक का कार्य भी करता है
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mera 8month chal rha hai.. Mere pair me sujan rehti hai or pair ke taliye me bahut pain ho rha hai?? Kya kru
उत्तर: इसे एडिमा या शॉप कहा जाता है आम भाषा में यह वाटर रिटेंशन यानी पानी प्रतिधारण के नाम से जाना जाता है अतिरिक्त तरल आपके हाथों और पैरों, panjo या घुटनों में सूजन का कारण बनता है प्रेग्नेंसी के दौरान यह होना काफी आम है जैसे-जैसे आपका बेबी बढ़ता है शरीर के दाहिने हिस्से में बड़ी नस जिसे निचले अंगों में रक्त प्रवाह होता है पर गर्भाशय दबाव डालता है इससे ब्लड सरकुलेशन धीमा हो जाता है शरीर के निचले हिस्से में खून इकट्ठा हो जाता है इस फंसे हुए रक्त का दबाव पानी को छोटी-छोटी नलिकाओं के जरिए नीचे की तरफ धकेलता है और यह आपके पैरों और घुटनों के दर्द में आ जाता है यह पानी आमतौर पर शरीर द्वारा एग्जाम कर लिया जाता है मगर क्योंकि आप गर्भवती हैं आप ज्यादा पानी प्रतिधारित करती है जिससे सूजन बढ़ती है सुबह के समय ठीक रहती है क्योंकि आप बिस्तर में लेटी हुई थी दिन गुजरने के साथ-साथ यह और ज्यादा बढ़ती जाती है गर्भावस्था के अंतिम चरण में पहुंचने पर यह सूजन आपको हाथों पर भी असर डालती है प्रेगनेंसी के दौरान face ,हाथों और पैरों में थोड़ी सूजन होना सामान्य है मगर यदि आपको सूजन ज्यादा लगे तो अपने डॉक्टर से बात करें पैरों की सूजन के लिए ऐसे बहुत से उपाय हैं जो आप आजमा सकती हैं जब भी समय हो अपने पैरों को थोड़ी ऊंची सता पर रखकर बैठे ऑफिस में अपनी बॉक्स रखकर पैरों को उस पर रखें बीच बीच में थोड़ा चलें और उठे घर में जब भी संभव हो अपने बाएं तरफ करवट लेकर लेटे सुबह बिस्तर से निकलने से पहले socks भी पहने ताकि खून को आपके घुटनों के पास इकट्ठा होने का मौका ना मिले खूब सारा पानी पिएं नियमित व्यायाम करें खासकर चलना फिरना पोषण संतुलित आहार खाएं पर ज्यादा नमक वाले फूड प्रोडक्ट्स नमकीन चिप्स ना खाएं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mere ek per ME sujan rehti mera 9 month Chal raha he 1 week hua he 9 month ko to kya kru jise per ME sujan na ho
उत्तर: aap per k neeche takiya lga kar soye aur pero ko garm pani m namak dal kar thodi der baithe. mre b aisa hota . mjh doctor n yhi bola tha to aram rha tha. jyada time tak khade na the.agar khade hone ka jyda kaam h to beech beech m rest kare. aur pero ko baithte time neeche na latkaye
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 6manth chal rha hi or mera weth 61kg hi mera wet ni badh rha hi
उत्तर: हेलो डिअर आप अपनी प्रेग्नेंसीय में एक अच्छी deit ले जिससे आपका और आपके बेबी का अच्छे से वेट बढ़ सकता है प्रेग्नेंसीय में कम से कम 10 से 12 किलो वजन बढ़ना बहुत जरूरी है इसके लिए आप ये सब खा सकती है गर्भावस्था में चाय-कॉफी के बजाय दूध, फल और सब्जियां खूब लें। तला भुना खाने से बचें। प्रोटीन वाली चीजें खाये जैसे अंडा सोयाबीन पनीर खाती रहे आप अपनी प्रेग्नेंसीय में खाने में फोलिक एसिड कैल्शियम आयरन जिंक प्रोटीन फॉस्फोरस , विटामिन डी और ओमेगा 3 का होना जरुरी होता है | इन तत्वों को लेने से खून में हिमोगलिबिन बढ़ता है। आप अपनी प्रेग्नेंसीय में हरी पत्तेदार सब्जियां, मटर, फूलगोभी, शिमला मिर्च, बादाम, काजू, मूंगफली, तरबूज, केला व संतरा खाएं और रोज नारियल पानी भी पीती रहे । इनके अलावा पालक, चुकंदर, ब्रोकली ,शलजम कद्दू राजमा दाले , दही, फैट फ्री मीट , अंडे का सफ़ेद भाग , दूध-मट्ठा, पनीर, सोयाबीन, बीन्स, और साबुत अनाज लें , रोज सुबह अंकुरित चना या सोयाबीन खाये ,रोज फल , जूस , बादाम ,अखरोट भी खाना बहुत जरूरी है इससे बेबी का दिमाग तेज होता है अगर आप नॉन वेज भोजन खाती है तो आप प्रेग्नेंसीय में मांस, अंडा, मछली शामिल करना चाहिए क्योंकि ये सब प्रोटीन, आयरन और जिंक होता है जो आपके स्वास्थ्य के लिय और आपके बेबी के लिए अच्छा है आप ये सब खाये आप स्वस्थ और हेल्थी हो जाएगी और आपका बेबी भी स्वस्थ हो जाएगा !
»सभी उत्तरों को पढ़ें