17 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरा 16 हफ़्ते का है मुझे क्या खाना चाहिए

2 Answers
सवाल
Answer: Hi! आपको गर्भावस्था के दौरान कुछ और अधिक कैलोरी की भी ज़रूरत होती है। गर्भावस्था में सही आहार का मतलब है-आप क्या खा रही हैं, न की कितना खा रही हैं। जंक फूड का सेवन सीमित मात्रा में करें, क्योंकि इसमें केवल कैलोरी ज्यादा होती है और पोषक तत्व कम या न के बराबर होते हैं।  प्रत्येक दिन विविध भोजन खाएं: दूध और डेयरी उत्पाद: मलाईरहित (स्किम्ड) दूध, दही, छाछ, पनीर। इन खाद्य पदार्थों में कैल्शियम, प्रोटीन और विटामिन बी -12 की उच्च मात्रा होती है। अगर आपको लैक्टोज असहिष्णुता है, या फिर दूध और दूध से बने उत्पाद नहीं पचते, तो अपने खाने के बारे में डॉक्टर से बात करें।  अनाज, साबुत व पूर्ण अनाज, दाल और मेवे:अगर आप मांस नहीं खाती हैं, तो ये सब प्रोटीन के अच्छे स्रोत हैं। शाकाहारीयों को प्रोटीन के लिए प्रतिदिन 45 ग्राम मेवे और 2/3 कप फलियों की आवश्यकता होती है। एक अंडा, 14 ग्राम मेवे या ¼ कप फलियां लगभग 28 ग्राम मांस, मुर्गी या मछली के बराबर मानी जाती हैं।  सब्जियां और फल: ये विटामिन, खनिज और फाइबर प्रदान करते हैं। मांस, मछली और मुर्गी: ये सब केंद्रित प्रोटीन प्रदान करते हैं। पेय पदार्थ: खूब सारे पेय पदार्थों का सेवन करें, खासकर पानी और ताजा फलों के रस का। सुनिश्चित करें कि आप साफ उबला हुआ या फ़िल्टर किया पानी ही पीएं। घर से बाहर जाते समय अपना पानी साथ लेकर जाएं या फिर प्रतिष्ठित ब्रांड का बोतल बंद पानी ही पीएं। अधिकांश रोग जलजनित विषाणुओं की वजह से ही होते हैं। डिब्बाबंद जूस का सेवन कम ही करें, क्योंकि इनमें बहुत अधिक चीनी होती है ।  वसा और तेल : घी, मक्खन. नारियल के दूध और तेल में संतृप्त वसा (सैचुरेटेड फैट) की उच्च मात्रा होती है, जो की अधिक गुणकारी नहीं होती। वनस्पति घी में ट्रांस फैट (वसा) अधिक होती है, अत: वे संतृप्त वसा की तरह ही शरीर के लिए अच्छी नहीं हैं। वनस्पति तेल (वेजिटेबल तेल) वसा का एक बेहतर स्त्रोत है, क्योंकि इसमें असंतृप्त वसा अधिक होती है।  समुद्री मछली और समुद्री नमक या आयोडीन युक्त नमक के साथ-साथ डेयरी उत्पाद आयोडीन के अच्छे स्त्रोत हैं। अपने गर्भस्थ शिशु के विकास के लिए आपको अपने आहार में पर्याप्त मात्रा में आयोडीन शामिल करने की आवश्यकता है।
Answer: अनाज, गेहूं का आटा, जई, कॉर्न फ्लैक्‍स, ब्रेड और पास्ता लें।  सूखे फल खासकर अंजीर, खुबानी और किशमिश, अखरोट और बादाम लें।राजमा, सोयाबीन, पनीर, पनीर, टोफू, दही आपकी कैल्शियम की जरूरतों को पूरा करेगा।टोन्‍ड दूध ।हरी सब्जियां जैसे पालक, ब्रोकोली, मेथी, सहजन की पत्तियां, गोभी, शिमला मिर्च, टमाटर, आंवला और मटर।विटामिन सी के लिए संतरे, स्ट्रॉबेरी, चुकंदर, अंगूर, नींबू, टमाटर, आम और नींबू पानी का सेवन बढ़ाएं।स्‍नैक्‍स में - भुना बंगाली चना, उपमा, सब्जी इडली या पोहा ले सकती हैं।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा 16 हफ़्ते का है तो हमे क्या खाना चाहिए
उत्तर: गर्भवती महिलाओं को प्रोटीन एवं कैल्शियम की सबसे ज़्यादा आवश्यकता होती है क्योंकि बच्चे की हड्डियों के विकास के लिए यह काफी आवश्यकता हैं दालें :-   गर्भवस्था के समय महिला को सम्पूर्ण आहार लेना अतिअवशक होता है।गर्भवती महिलाएं आपने डाइट चार्ट में हर प्रकार की साबुत या दली हुई दालें  जैसे -अरहर ,चना ,मशूर ,उरद ,मटर की दाल आदि को जरूर शामिल करें।   फाइबर युक्त्त आटा :-    गर्भवती महिला को फाइबर युक्त डाइट अवशय होना चाहिए। जिसके लिए आज -कल मार्केट में कुछ ऐसे भी आटे के पैक जिनमें आप अत्यधिक फाइबर से भरपूर्ण आटा खरीद कर अपने आहार में आसानी से शामिल कर सकती हैं।  मछली :-  प्रेगनेंट महिला को मछली अवश्य खाना चाहिए। मछली खाने से बच्चे के मस्तिष्क और आँखों के लिए काफी अच्छी होती हैं। यह आपको प्रोटीन एवं विटामिन बी भी प्रदान करता है। मछली खाना फायदेमंद है क्योंकि इसमें मरकरी की मात्रा कम होती है।आप मछली के अण्डे को खा सकती हैं। और अगर आप चाहे तो ऑयल फ्री मछली का सेवन आसानी से कर सकती हैं। क्योंकि मछली में तेल होता ही है। जिसके लिए आप उबाल कर ,भूनकर आदि तरीके से खा सकती हैं। जो की आपके शिशु के लिए काफी अच्छा है। दही :- गर्भवती को डाइट चार्ट में दही को अवश्य शामिल करना चाहिए। हाँ ये ध्यान जरूर रहे कि दही में कम फैट वाली हो। तो इसके लिए आप बाजार में आसानी से कम फैट वाली दही लें  सकती हैं, और अपने खाने में शामिल कर सकती हैं फल :-  प्रेगनेंट  महिला को ताज़ा फल अवश्य खाना चाहिए। साथ ही विटामिन सी युक्त  फल भी जरूर शमिल करे। दूध :-  गर्भवती महिला को दूध जरूर पीना चाहिए। जिससे आपको बेबी हो जाने के फीडिंग कराने में काफी आसानी हो जायेगी। जिसके लिए गर्भवती माँ अपने आहार में दूध,पनीर एवं अन्य दुग्ध पदार्थ गर्भावस्था के दौरान को खाने में शामिल कर सकती हैं । ये कैल्शियम और अन्य पोषक गुणों से भरपूर होते हैं। ड्राई फ्रूट्स :- गर्भवती  को सूखे हुए मेवों का सेवन जरूर करना चाहिए। अगर आप चाहे तो नारियल को छोटे -छोटे टुकड़ों को दिन में कई बार खाती हैं। तो आपका बच्चा का रंग पर भी इसका असर दिखेगा। हरे -पत्तेदार सब्जियां :-  प्रेगनेंट स्त्री को ताज़ा और हरे -पत्तेदार सब्जी को अपने आहार में अवश्य शामिल करें। जिनसे उनके पेट में रहे बच्चे को प्रोटीन एवं विटामिन सम्पूर्ण मात्रा में मिले। हरी सब्ज़ियों में कई प्रकार के अच्छे तत्व होते हैं जैसे विटामिन ए,विटामिन सी और विटामिन के को आहार में शामिल कर सकती हैं। और हेल्थी भी रहेl
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मुझे अभी 6 हफ़्ते हुएं है क्या खाना चाहिए क्या नही प्लीज़ बताओ
उत्तर: प्रेगनेंसी के पहले तीन महीने भारी सामान को नहीं उठाना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से ब्लीडिंग का खतरा होता हैं, भारी सामान उठाने से सबसे ज्यादा दबाव पेट पर पड़ता हैं.जिसके कारण पेट में दर्द रहने की भी समस्या खड़ी हो सकती हैं. पपीते का सेवन भी नहीं करना चाहिए. अनानास का भी प्रयोग गर्भावस्था के पहले तीन महीने हो सकें तो नहीं करना चाहिए ज्यादा मिर्च मसाले व् ज्यादा तले हुए भोजन से परहेज करना चाहिए गर्भावस्था के समय में आपको ज्यादा भाग-दौड़ व् व्यायाम नहीं करना चाहिए. बिना डॉक्टर के परामर्श के दवाई का सेवन नही करे प्रेगनेंसी में हमें ऐसा खाना खाना चाहिए जिसमें अधिक मात्रा में फोलिक एसिड विटामिन आयरन कैल्शियम सब कुछ हमें मिल जाए इसलिए हमें अपने खाने में दूध दही हरी सब्जियां फल फ्रूट जूस अधिक से अधिक पानी इन सब का सेवन करना बहुत जरूरी है इसके साथ अगर आप nonवेजीटेरियन है तो आप अपने खाने में अंडा chiken शामिल कर सकते हैं बस आपको ध्यान रखना है कि अगर आप मांसाहार ले रहे हैं तो आपका चिकन मटन egg अच्छी तरह से पक्का हो , प्रेगनेंसी में बहुत जरूरी है कि जब भी हम दूध पिए तो वह अच्छी तरह से उबला हुआ हो आप अपनी डाइट में थोड़ी मात्रा ड्राई फ्रूट्स और सोयाबीन include करें चाय कॉफी थोड़ा कम piy, साथ ही मार्केट में मिलने वाले डब्बा बन चीजे, पैकेज फूड इन सब चीजों को अवॉइड करें
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा बच्चा अभी 6 हफ़्ते का है मुझे क्या क्या खाना चाहिए वेग ऑर नॉनवेज me
उत्तर: हेलो आप 6 वीक्स प्रेगनेट है आप अपने खान पान और रहन सहन पर विशेष धयान दे क्योकी सभी चीज़ों का प्रभाव बच्चे के विकास पर पड़ता है खाने में जो भी ले हेल्थी घर का बना हुआ कम ऑयली मिर्च मसालों वाला खाएं एक बैलेन्स डायट ले अगर आप वेजिटेरियन है तो दिन में 2 गलास मिल्क पीये अगर आप नॉन वेजिटेरियन है तो आप एग मीट फिश खा सकती है . आपको इस समय आयरन, फ़ोलिक ऍसिड , वाइटमिन्स आदि की सही मात्रा की जरुरत होती है . कुछ फ़ूड आइटम जैसे - डेरी प्रॉडक्ट दूध , दही , पनीर , सभी दालें , आलु , एग , मीट,फल जैसे - केला ,अनार ,लिचि ,अमरूद ,जामुन ,मऔसमबि सन्तरा, आम, एवाकाडो ,अंगूर नींबू ,सेब ,चीकू सभी ड्राइ फ्रूट्स लें .इसके साथ ही हरी सब्ज़ी पालक , मुनगा , चुकन्दर , कद्दू , टमाटर आदि सभी को डायट में शामिल करें . आप करेला ,बैगन ,पपीता, पाइनएप्पल सुरन, चाय ,कोफ़ी मैगी, ज़्यादा स्वीट्स , अल्कोहल , कोल्ड ड्रिन्क्स ,का सेवन प्रेग्नेसी में ना करे डॉक्टर सुग्गेस्टेस फॉलिक ऍसिड आयरन कैल्सीअम की टैबलेट्स समय से लें साथ ही पानी एक दिन में 10 से 12 गलास पीये तरल पेय जैसे नारियल पानी लेमन वाटर छाछ फ्रूट्स ज्यूस भी लें स्ट्रेस बिल्कुल भी ना ले खुश रहें .
»सभी उत्तरों को पढ़ें