21 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरा सफ़ेद पानी जा रहा है और मेरा एक पैर में कमर के नीचे दर्द होता है

1 Answers
सवाल
Answer: हेलो डियर , प्रेगनेंसी के दौरान हार्मोन चेंज होने की वजह से गर्भवती महिलाओं वाइट डिस्चार्ज आना नॉर्मल बात है .. हार्मोन चेंज होने की वजह से बॉडी के विभिन्न पार्ट में दर्द होना जैसे पैर का दर्द होना कमर के दर्द होना पेट का दर्द होने का दर्द होना किस हार्मोन चेंज होने की वजह से ही होता है ... इसके लिए आप बिल्कुल भी ना घबराए ... दर्द में आराम पाने के लिए आप गुनगुने पानी में नमक डालकर पैरों कमर की सिकाई करें , गर्म पानी की थैली से कमर और पैर की सिकाई करें , पिता गुनगुने पानी से नहाएं इससे आपको काफी आराम मिलेगा .
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मम मेरा सफ़ेद पानी जा रहा है
उत्तर: हेलो डियर"""" आप 21 वीक की प्रेगनेत है..प्रेगनेंसी के दौरान सफेद पानी होना एक सामान्य बात है सफेद पानी गर्भस्थ शिशु के लिए सुरक्षा प्रदान करती है किसी भी प्रकार के इंफेक्शन आदि के प्रभाव को रोकने में सफेद पानी बहुत ही महत्वपूर्ण होता है| कभी-कभी सफेद पानी के साथ हल्का पीला या गुलाबी रंग का गाढ़ा पदार्थ भी वहां निकलता है इसमें भी घबराने की बात नहीं क्योंकि यह मृत कोशिका होती है सफेद पानी अत्यधिक शारीरिक श्रम, थकावट ,अधिक स्ट्रेस लेने आदि कारणों से हो सकती है| सफेद पानी के साथ आपको अत्यधिक पेट दर्द या फिर बदबू युक्त सफेद पानी निकलने लगे तब आप चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें|
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: mujhe do din se lagatar safed pani ja raha hai aur pet mebhi dard hai
उत्तर: 🙏 गर्भावस्था में निकलने वाले सफेद पानी को या तो सर्वाइकल म्यूकस कहते हैं या लिकोरिया कहते हैं या गर्भावस्था में अक्सर दिखाई देता है इसमें डरने वाली कोई बात नहीं यह गर्भ में पल रहे बच्चे की सुरक्षा के लिए होता है यह पूरे गर्भावस्था में हल्का फुल्का पानीतं कभी-कभी दिख सकता है जिसका कारण स्ट्रेस सेक्स या फिर भारी काम करने की वजह से हो सकता है लेकिन कभी-कभी यह बहुत अधिक मात्रा में निकले और दरद भी हो तो यह घबराने वाली बात हो सकती है इसलिए अगर यह यह आपको बाथरूम की जगह अगर यह अधिक मात्रा में स्त्रावित हो या पेट में दरद हो तो आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए Take care💐
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: Mam mujhe kamar aur pair me bohut dard hota hai mera 8 month chal raha hai mai kya karu
उत्तर: हेलो डियर इस दौरान पीठ में दर्द होना बहुत आम है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि गर्भाशय में गर्भ पल रहा होता है जिससे आगे का भाग काफी भारी हो जाता है. पेट भारी हो जाने की वजह से पीठ में झुकाव आना शुरू हो जाता है. इस वजह से पीठ में लगभग हर रोज दर्द रहने लगता है.एक ही अवस्था में बहुत देर तक बैठने या खड़ी होने से बचें। कामकाजी स्त्रियां ऑफिस में काम करते समय अपने पैरों को ज़मीन पर लटकाने के बजाय उन्हें किसी छोटे स्टूल पर टिकाकर रखें। रात को लेटते समय पैरों के नीचे तकिया रखें। बैक पेन से बचाव के लिए बैठते समय पीठ और कमर को कुशन का सपोर्ट दें। प्रेगनेंसी में पैरों तक पर्याप्त रक्त संचार न हो पाने के कारण उसमें ऑक्सीजन की कमी से पैर दर्द होने लगता है। यह घुटनों, और पैरों की उँगलियों में भी होता है। कभी कभी पैर सुन्न पड़ सकता है।बदलते हॉर्मोन्स लेवल से पैरों में दर्द होता है। जैसे गर्भाशय का आकार बढ़ता है उस प्रकार बदन की निचली मांसपेशियां ढीली पड़ने लगती हैं। इस कारण महिलाओं में पैर दर्द होता है। बढ़ते वज़न के कारण उसकी पैरों की हड्डी पर प्रभाव पड़ता है जिससे मांसपेशियों और पैरों में दर्द होता है। पैरों के दर्द से बचने के लिए पैर की उँगलियों को हलके हाथ से दबाएं। साथ ही गुनगुने तेल से मालिश करें! यह धीरे धीरे बेहतर परिणाम देगा। गर्भावस्था में ऊँची हील की सैंडल न पहनें। आरामदायम फ्लैट्स और ढीली चप्पलें पहनें। इनसे भी आपके पैरों और एड़ियों को आराम मिलेगा।
»सभी उत्तरों को पढ़ें