20 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरा चोतह माह खत्म हूआ है और पाइल्ज़ की प्रॉब्लम है तो क्या करें

2 Answers
सवाल
Answer: हेलो डिअर, गर्भावस्था में बवासीर होना सामान्य है और शिशु के जन्म के बाद तो बवासीर होना और भी आम है। इनसे बचा नहीं जा सकता। इसके लिए सबसे अच्छा उपाय यह है कि आप कब्ज से बचें, ताकि आपको पोट्टी करने में आसानी रहे। फाइबर से भरपूर आहार लें, जिनमें भूरे/लाल चावल (ब्राउन राइस), पूरे अनाज की ब्रेड, मो मिक्स अनाज और गेहूं की रोटी या पास्ता शामिल हों। साथ ही अधिक मात्रा में फल और सब्जियां खाएं। हर रोज आठ से 12 गिलास पानी पीएं। अच्छा है आप कैफीन का सेवन न करें, ताकि आपको पानी की कमी (डिहाइड्रेशन) न हो। नियमित व्यायाम करने का प्रयास करें, फिर चाहे आप थोड़ी ही देर तेज चहल-कदमी करें। जब भी आपको पोट्टी हो, तो तुरंत बात शौच जाएं। इंतजार करने से आपका मल और कठोर और शुष्क हो सकता है।
Answer: आपको बवासीर से बचने और बवासीर होने पर इससे राहत दिलाने में मदद करने के कुछ उपाय नीचे दिए गए हैं: फाइबर से भरपूर आहार लें, साथ ही पर्याप्त मात्रा में फल और सब्जियां खाएं। हर रोज आठ से 12 गिलास पानी पीएं। बेहतर है आप कैफीन का सेवन न करें, ताकि आपको डिहाइड्रेशन न हो। नियमित व्यायाम करने का प्रयास करें, फिर चाहे आप थोड़ी ही देर तेज चहल-कदमी करें। जब भी आपको मलत्याग की इच्छा हो, तो तुरंत शौचालय जाएं। इंतजार करने से आपका मल और कठोर और शुष्क हो सकता है। jitna ho liquid food aur liquid jyada le।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: में चार माह चल रहा है और मुझे पाइल्ज़ की परेशानी है क्या करु
उत्तर: नमस्कार! जब आप गर्भवती होती हैं, आपके शरीर में प्रवाहित हो रहे रक्त की मात्रा बढ़ जाती है। इसी समय, प्रोजेस्टीरोन हॉर्मोन का उच्च स्तर रक्त वाहिकाओं की दीवारों को शिथिल बना देता है।  आपके गर्भाशय से नीचे की नसों में सूजन और खिंचाव होने की संभावना अधिक रहती है, क्योंकि गर्भ में बढ़ते शिशु के वजन से उन पर दबाव पड़ता है। यही कारण है कि गर्भवती होने पर आपको बवासीर और वेरीकोज वेन्स होने का खतरा अधिक रहता है। गर्भावस्था का एक अन्य दुष्प्रभाव कब्जभी बवासीर का कारण हो सकता है। आपको बवासीर से बचने और बवासीर होने पर इससे राहत दिलाने में मदद करने के कुछ उपाय नीचे दिए गए हैं: फाइबर से भरपूर आहार लें, जिनमें भूरे/लाल चावल (ब्राउन राइस), संपूर्ण अनाज की ब्रेड, सीरियल और गेहूं की रोटी या पास्ता शामिल हों। साथ ही पर्याप्त मात्रा में फल और सब्जियां खाएं। हर रोज आठ से 12 गिलास पानी पीएं। बेहतर है आप कैफीन का सेवन न करें, ताकि आपको निर्जलीकरण (डिहाइड्रेशन) न हो। नियमित व्यायाम करने का प्रयास करें, फिर चाहे आप थोड़ी ही देर तेज चहल-कदमी करें। जब भी आपको मलत्याग की इच्छा हो, तो तुरंत शौचालय जाएं। इंतजार करने से आपका मल और कठोर और शुष्क हो सकता है।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: पाइल्ज़ की प्रॉब्लम हो गई है क्या करें
उत्तर: बहुत सी महिलाओं को प्रेग्ना ेंसी में पाइल्स की प्रॉब्लम हो जाती है आप चिंता ना कर ें इस के लिए आप कुछ उपाय कर सकती हैं प्रेग्नेंसी में पाइल्स बहुत सी महिलाओं को हो जाता है . एक साफ कटोरी में दो चम्मच एपल साइडर वेनेगर ले लें.रूई के एक साफ टुकड़े को उसमें डुबोकर रख दें. इस कॉटन को प्रभावित जगह पर अप्लाई करें .इस प्रोसे स को तब तक करें जब तक आपको राहत न महसूस होने लगे.  नारियल का ऊपर का भाग जो होता है जटाए ले और उसे पूरी तरीके से जला ले उसकी एक भस्म तैया र कर लो और इसे ताजी दही या छाछ के साथ दिन में तीन बार ले  एक कारगर उपाय है यदि 1 दिन में आराम ना पड़े 3 दिन तक दिन में 3 बारले। दही या छाछ आज ताजी ही होनी चाहिए यह सुनिश्चित करें ।
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा 6 मंथ चल रहा h और मुझे पाइल्ज़ की प्रॉब्लम हो गेय ह क्या karu
उत्तर: हेलो डियर आपको piles की प्रॉब्लम है जो की प्रेग्नेंसी मे बहुत कॉमन होती है और ये कब्ज के कारण होती है। Piles मे आराम पाने के लिये कब्ज़ न होने दें – कब्ज से बचाव के लिए अधिक फाइबर वाले आहार जैसे – साबुत अनाज, सेम, फल और सब्जियों, सलाद आदि जरूर लें। खूब सारा पानी पिएं और प्रतिदिन कुछ न कुछ व्यायाम अवश्य करें। मल त्याग की जरूरत को दबाएँ नहीं –अगर मल त्याग की आवश्यकता महसूस हो रही हो, तो तुरंत जाएँ। बहुत ज्यादा समय तक बैठे या खडे ना रहे। गर्म पानी का सेंक दीजिए। पाइल्स की समस्या होने पर गुदा क्षेत्र की ठीक से साफ-सफाई करे।  
»सभी उत्तरों को पढ़ें