21 सप्ताह की गर्भवती माँ

Question: मेरा 5 महिने चल रहे हैं मुझे क्या खाना चाहिए और क्या नही खाना चाहिये

1 Answers
सवाल
Answer: डियर आपको अपने आहार में प्रोटीन, विटामिन और मिनरल्स को शामिल करना चाहिए। आपका आहार ऐसा होना चाहिए जिसमें पर्याप्‍त मात्रा में आयरन और फॉलिक एसिड हो। खाने में ताजे फल, दाल, चावल, हरी सब्जियां, रोटी आदि खाना चाहिए। बच्चे के दिमाग के विकास के लिए ओमेगा-3 और ओमेगा-6 बहुत जरूरी है। फिश लिवर ऑयल, ड्राइफ्रूट्स, हरी पत्तेदार सब्जियों और सरसों के तेल में यह अच्छी मात्रा में मिलते हैं। आयरन और फोलिक एसिड की गोलियां खाना भी शुरू कर दें। इससे शरीर में खून की कमी नहीं होती है। ज्यादा तला-भुना और मसालेदार खाना न खाएं। इससे गैस और पेट में जलन हो सकती है। जो भी खाएं, फ्रेश खाएं। बाहर के खाने से इंफेक्शन होने का खतरा होता है, इसलिए बाहर खाने से बचें।
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: मेरा 3 मंथ चल रहा हैं मुझे हाइपर थाइरॉइड हैं . क्या मेरे बच्चे को कोई नुकसान पहुचेगा और हाइपर थाइरॉइड में मुझे क्या क्या नही खाना चाहिए ?
उत्तर: थायराइड problem को कंट्रोल किया जा सकता है par इसके लिए सही इलाज और exercise important है प्रेगनेंसी के फर्स्ट 3 months में थायराइड होने से प्रॉब्लम हो सकती हैं यदि आपको थायराइड है तो प्रेग्नेंट होने से पहले check upq कराना जरूरी है साथ ही साथ प्रेगनेंसी के हर month में भी जांच कराते रहना चाहिए Pregnancy के दौरान थायराइड के इलाज के लिए दी जाने वाली दवा की मात्रा घटाया,बढ़ाई जा सकती है इससे होने वाले बेबी को नुकसान से बचाया जा सके normally प्रेगनेंसी के दौरान थायराइड के इलाज में मेडिसिंस के डोज बढ़ा दिए जाते हैं और बेबी के बर्थ के बाद इसे जरूरत के हिसाब से कम कर दिया जाता है थायराइड के कारण बच्चे के शारीरिक और मानसिक development पर प्रभाव पड़ता है इसलिए थायराइड का पता लगते ही प्रेग्नेंट वुमन को तुरंत इलाज शुरू कर देना चाहिए डॉक्टर के अनुसार सारी जांच कराते रहना चाहिए और medicines timely nd regular लेनी चाहिए इससे होने वाले बच्चे पर थायराइड का कोई प्रभाव नहीं पड़ता, प्रेग्नेंट वुमन भी सुरक्षित रहती हैं
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: 5 वे महिने में क्या क्या खाना चाहिए और क्या क्या नही खाना चाहिए ??
उत्तर: हेलों हेलो आप 5 महीने प्रेगनेट है आपको इस समय ऐसा आहार लेना चाहिए जिसमें एक्स्ट्रा calorie हो .एक बार में बहुत ज़्यादा खाने से अच्छा है कि पूरे दिन में थोड़ी थोड़ी देर में थोडा थोडा खाएं ताकि आपके बच्चे के विकास के लिए उसे पूरा पोषण मिल सके। आगे प्रेगनेन्सी में हेमोग्लोबिन का लेवल सही होना चाहिए रेड मीट, बीन्स, अंडे, सीड्स और चांवल का सेवन करके आप आयरन और प्रोटीन की आवश्यकता को पूरा कर सकती हैं।डेयरी उत्पाद जैसे दूध, योगर्ट और खाद्य उत्पाद जैसे ओटमील और सालमोन में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसका सेवन करे कैल्सीअम के पाचन के लिए मैग्नीशियम से भरपूर खाना खाएं बादाम, ओटब्रान, ब्लैक बीन्स , जौ, चुकंदर, कद्दू के बीज आदि मैग्नीशियम के अच्छे स्त्रोत फ़ोलिक ऍसिड का भी सेवन करे ओटमील, पत्तागोभी या हरी पत्तेदार सब्जियां तथा फल जैसे स्ट्रॉबेरीज़ और संतरे आदि में फोलिक एसिड पाया जाता है कब्ज़ की प्रॉब्लम ना हो इसलिये आपको अपने आहार में सब्जियां, फल, दालें और साबुत अनाज शामिल करना चाहिए और पानी भरपूर पीये हार्टबर्न, हाथों और पैरों में सूजन आना, थकान और कब्ज़ आदि समस्याएं हो सकती इसलिये ऑयली स्पाइसी ना खाएं नमाक का सेवन कम करे कोल्ड ड्रिंक ना पीये आप करेला ,बैगन ,पपीता, पाइनएप्पल सुरन, चाय ,कोफ़ी मैगी, ज़्यादा स्वीट्स , अल्कोहल , कोल्ड ड्रिन्क्स ,का सेवन प्रेग्नेसी में ना करे डॉक्टर सुग्गेस्टेस फॉलिक ऍसिड आयरन कैल्सीअम की टैबलेट्स समय से लें साथ ही पानी एक दिन में 10 से 12 गलास पीये तरल पेय जैसे नारियल पानी लेमन वाटर छाछ फ्रूट्स ज्यूस भी लें स्ट्रेस बिल्कुल भी ना ले खुश रहें .
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हेलो मेम ... 9 वे महिने के आखरी दिनों में क्या खाना चाहिये और क्या नही खाना चाहिए
उत्तर: अनाज, गेहूं का आटा, जई, कॉर्न फ्लैक्‍स, ब्रेड और पास्ता लें।  सूखे फल खासकर अंजीर, खुबानी और किशमिश, अखरोट और बादाम लें।राजमा, सोयाबीन, पनीर, पनीर, टोफू, दही आपकी कैल्शियम की जरूरतों को पूरा करेगा।टोन्‍ड दूध ।हरी सब्जियां जैसे पालक, ब्रोकोली, मेथी, सहजन की पत्तियां, गोभी, शिमला मिर्च, एमाटर, आंवला और मटर।विटामिन सी के लिए संतरे, स्ट्रॉबेरी, चुकंदर, अंगूर, नींबू, टमाटर, आम और नींबू पानी का सेवन बढ़ाएं।स्‍नैक्‍स में - भुना बंगाली चना, उपमा, सब्जी इडली या पोहा ले सकती हैं। . गर्भावस्था में क्या खायें क्या नही --- (1)गर्भावस्था मे कच्चा जीच न खायें कच्चे खाने में बैक्टीरीया और वायरस होते हैं जो मां और बच्चे दोनों को नुकसान पहूंचा सखता है।ईसलिये अच्छे से पका भोजन लें।(2)फल और सब्जियों को अच्छे से धोकर खायें।(3)पपीता न खायें इसका तासीर गरम होता है।आप अन्य फल खा सकती हैं।(4)काफी चाय कम कर दे उसके जगह आप जुस सुप या दही ले सकती हैं।(5)कोई भी दवा बिना डाक्टरी सलाह के न लें।
»सभी उत्तरों को पढ़ें