15 weeks pregnant mother

मेरा ब्लड आर.एच. नेगटिव है ऐन्ड मैरे हस्बेण्ड का आर.एच. पॉजिटिव है क्या बेबी को कोई हऐ ..

सवाल
डियर ब्लड ग्रुप से बेबी पर कोई असर नहीं पड़ता है पति पत्नी के अलग-अलग ब्लड ग्रुप से बेबी का ब्लड ग्रुप कभी-कभी बदल जाता है परंतु इससे आप की डिलीवरी पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा और ना ही बीवी की हेल्प पर कोई प्रभाव पड़ेगा
समान प्रश्न, उत्तर के साथ
सवाल: हलों डॉक्टर मेरा ब्लड ग्रूप बी नेगेतीवे है ऑर मैरे हस्बेण्ड का बी पॉजिटिव कुछ प्रॉब्लम तो नही होती है
उत्तर: नही डियर ब्लड ग्रूप अलग हाॅन से कोई परेशानी नही होगी... ऐगर आपको कोई कोई शारीरिक परेशानी है तो कोई कोई शायरी परेशानी है तो अब तुरंत डॉक्टर ने ट्रेन डॉक्टर से मिलने अलावा आपका बी नेगेटिव और आपके पति का बी पॉजिटिव होने से प्रेगनेंसी कोई गलत प्रभाव नहीं पड़ेगा आप अपने मन में कोई भी बात ना रखें इस टॉपिक को लेकर आप अपना ध्यान रखिए और अपने खाने-पीने का भी ध्यान रखें स्ट्रेस बिल्कुल नाले
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: मेरा ब्लड ग्रूप A नेगटिव है ओर husband का AB पॉजिटिव है . कोई प्रॉब्लम होगा क्या प्रेगैन्सी मैं
उत्तर: कोई प्रॉब्लम नहीं बस आपको एंटी डी इम्मुनोग्लोबुलिं का इंजेक्शन लगवान पड़ता हैं डॉक्टर्स कि सलाह स ओर फिर कोई प्रॉब्लम नहीं होगा बस आप आपने ध्यान दे ऐसा कुछ भी न करे कि बच्चा को परेशानी हो क्यों की अगर किसी कारन के वजह से आपका ब्लीडिंग होने से आपका ब्लड बच्चे मे' नहीं जाना चाहिए इससे प्रो
»सभी उत्तरों को पढ़ें
सवाल: हलों मेम मेरा ब्लड ग्रूप नेगेटिव है और मेरे हस्बेण्ड का पॉजिटिव है मेरा पहला बेबी है क्या मुझे एण्टी डी इंजेक्शन लगवाना ज़रूरी hai
उत्तर: हेलो प्रेगनेंसी कंसीव होने पर ऐसे बहुत से सवाल होते हैं जिसमें हम परेशान हो जाते हैं .बिल्कुल भी परेशान मत होइए. आराम से रहिए . यदि हस्बैंड का ब्लड ग्रुप नेगेटिव है तो वाइफ का ब्लड ग्रुप पॉजिटिव और या फिर नेगेटिव होना चाहिए. लेकिन यदि हस्बैंड का ब्लड ग्रुप पॉजिटिव है तो वाइफ का पॉजिटिव होना चाहिए. ब्लड ग्रुप की किसी भी समस्या के लिए हमें बिल्कुल भी परेशान नहीं होना चाहिए. डॉक्टर हमें ऐसी कंडीशन में एंटी डी इंजेक्शन देते हैं. एनटीD का इंजेक्शन इसीलिए लगाया जाता है कि यदि हस्बैंड और वाइफ के ब्लड ग्रुप सेम है या किसी भी प्रकार की समस्या है तो उसका समाधान हो जाता है. बच्चे और मां के लिए यह बहुत अच्छा होता है .आपको परेशान होने की चिंता करने की कोई बात नहीं है. प्रेगनेंसी में अगर हम किसी प्रकार की चिंता में रहते हैं तो हमारे लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है. हेल्दी खाना खाते रहिए. खाना एक बार में बहुत सारा मत खाइए थोड़ा-थोड़ा खाना चबाकर अच्छे से खाइए. पानी की मात्रा दिन भर में 8 से 10 गिलास piye मौसम गरम है तो पानी पीने की मात्रा को और बढ़ाइए. दिनभर में तरल पदार्थ लिक्विड ज्यादा लीजिए. नींद का बहुत ध्यान रखिए प्रेगनेंसी में नींद का सही मात्रा में होना बहुत जरूरी है .नींद अच्छे से लीजिए. दोपहर में खाना खाने के बाद बाई करवट लेकर थोड़ी देर आराम भी कीजिए .रात में खाना खाकर तुरंत मत सोइए. खाना खाकर थोड़ी देर डॉक्टर की सलाह से 5 से 10 मिनट की हल्की वॉक लीजिए .उसके बाद सोइए. समय पर सोई है समय पर उठिए. आपकी प्रेगनेंसी हेल्दी रहेगी और बच्चा भी आपको हेल्दी हो जाएगा.
»सभी उत्तरों को पढ़ें